मोतिहारी के विवेक का ISRO में बतौर साइंटिस्ट हुआ चयन

Featured Post बिहार मोतिहारी स्पेशल शिक्षा साइंस

मोतिहारी। नकुल कुमार
मोतिहारी। मोतिहारी के रहने वाले विवेक श्रीवास्तव का चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO-Indian Space Research Organisation) में बतौर साइंटिस्ट हुआ है उन्होंने पूरे देश में 24 वां स्थान प्राप्त किया है। ग्रुप ए के अंतर्गत इनका राजपत्रित पद है।
Vivek shrivtastav मूल रूप से पूर्वी चंपारण के चिरैया थानांतर्गत सरौगढ़ के दिवंगत अधिवक्ता अभय कुमार श्रीवास्तव व पूनम देवी के पुत्र और सेवानिवृत्त सैनिक रामचन्द्र श्रीवास्तव के पौत्र हैं। वर्तमान समय में मोतिहारी के अंबिका नगर में रहते है।
ISRO में बतौर साइंटिस्ट पूरे देश में उन्हें 24 स्थान प्राप्त करने वाले विवेक श्रीवास्तव की स्कूली शिक्षा मोतिहारी के ही एक निजी शिक्षण संस्थान से हुई है। उसके बाद उन्होंने 2018 में NIT कुरुक्षेत्र से इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्यूनिकेशन से बीटेक किया है। फिलहाल अभी रेलवे में जॉब कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने ISRO क्वालीफाई किया।
विवेक श्रीवास्तव की जीवन यात्रा भी बड़ी उथल-पुथल वाली रही है। उनकी अभी स्कूली शिक्षा पूरी भी नहीं हुई थी कि  प्रकृति ने उनके साथ क्रूर मजाक किया एवं महज़ 9 साल की उम्र में सर से पिता का साया उठ गया। जिसके बाद उनके सेवानिवृत्त दादाजी ने उन्हें बेटे की तरह लाड-प्यार देकर जीवन के तूफान में एक-एक पग बढ़ाना सिखाया।
उन्होंने बताया कि उनका हमेशा से यही सपना था कि टेक्निकल फील्ड में वे देश की सेवा करें एवं अपने क्षेत्र का नाम रोशन करें। इसरो के लिए उनका यह पहला प्रयास था। इसके लिए लगातार प्रयास करते रहे। इस दौरान उन्होंने रेलवे क्वालीफाई किया एवं जॉब करने लगे।
आंखों में इसरो में जाने का जो ख्वाब था। वह ख्वाब रेलवे में जॉब लगने के बावजूद श्री विवेक को सोने नहीं देता था। यही कारण है कि वो रेलवे में जॉब करने के साथ-साथ समय निकालकर जी तोड़ मेहनत करते थे ताकि वे भारत के सबसे प्रतिष्ठित टेक्निकल संगठन से जुड़कर अपने सपनों को उड़ान दे सके।
विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे युवाओं को संदेश में श्री विवेक कहते हैं कि असफलता से कभी घबराना नहीं चाहिए बल्कि ध्यान हमेशा अपने लक्ष्य का होना चाहिए एवं फल की चिंता किए बगैर निरंतर प्रयास जारी रखना चाहिए।
उनका कहना है कि यदि आप असफल होते हैं तो अपनी असफलता को अपनी प्रेरणा बनाकर, अगली बार उससे भी ज्यादा मेहनत लगन दृढ़ इच्छाशक्ति से करना चाहिए। कभी भी हताश व निराश नहीं होना चाहिए। क्योंकि मेहनत का फल थोड़ा देर से भले ही मिलता है लेकिन जब मिलता है तो फिर उस जैसा कुछ नहीं होता है।
बता दें कि अपने दादा को अपना आदर्श व अपने बड़े भाई विकास श्रीवास्तव को अपना मार्गदर्शक मानने वाले विवेक अपनी सफलता का श्रेय अपने शिक्षकों व मित्रों को देते हैं।

अन्य ख़बरें

सात दिवसीय शोध प्रविधि कार्यशाला का हुआ शुभारंभ
जिलाधिकारी ने दी बकरीद एवं श्रावणी मेला की शुभकामनाएं, सौहार्द-सद्भाव के साथ मनाने की अपील
छात्रसंघ चुनाव को लेकर JAPC एवं AISF के बीच हुआ गठबंधन
पताही थानाध्यक्ष पर शराब माफियाओं ने किया जानलेवा हमला, शरीर में भारी चोट, अनेक हड्डियों के टूटने की...
दैनिक जागरण परिवार की ओर से आयोजित कवि सम्मेलन की पूरी फोटो...यहाँ क्लिक कीजिए।
सनोज मिश्रा की मर्डर मिस्‍ट्री फिल्‍म 'लफंगे नवाब' 27 सितंबर को देशभर में होगी रिलीज
मुख्यमंत्री के विकासात्मक एवं रचनात्मक सोच से प्रभावित होकर युवा पार्टी से जुड़ रहे हैं: बबन कुशवाहा
प्रोजेक्ट इज्जत के तहत महिलाओं को महज ₹4 में उपलब्ध होगा सैनिटरी नैपकिन: डीएम
पकड़ीदयाल में किसान के खेत से निकली भगवान की मूर्ति, ग्रामीणों ने मूर्ति को अपने कब्जे में लेकर की प...
कुशवाहा छात्र संगठन ने निकाला आक्रोश मार्च, पीड़ित परिवार को मिले पचास लाख का मुआवजा
कुमार विजन क्लासेज में धूम धाम से मना 72 वे स्वंतत्रता दिवस
रिटायर्ड कर्मचारी को अपनी कार में बैठाकर जिलाधिकारी ने पहुंचाया उसके घर
मां दुर्गा के रूप में नजर आयेंगी भोजपुरी सुपरस्टार काजल राघवानी
नवजात एवं शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संजीव रंजन
प्रतिभा को रोजगार में बदलने का समय आ गया है:अनिकेत रंजन
तेल के दामों में वृद्धि से प्राप्त राजस्व से संकटकाल में गरीबों तक आर्थिक लाभ का प्रावधान किया गया: ...
जिलाधिकारी ने 12 विधानसभा क्षेत्रों के स्ट्रांग रूम का लिया जायजा दिए आवश्यक दिशा निर्देश
राहुल गांधी सचिन पायलट समेत तमाम नेताओं ने की भारतीय पायलट के सुरक्षित वापसी की कामना
अजीजुल हक साहब के नाम पर सिर्फ पुल का नाम रखना छोटी श्रद्धांजलि होगी बल्कि उनके नाम पर एक स्मारक लाइ...
तुम मुझे यूं भूला ना पाओगे ,रफी की याद में सुरीली शाम

1 thought on “मोतिहारी के विवेक का ISRO में बतौर साइंटिस्ट हुआ चयन

Leave a Reply