वज्रपात (ठनका/आकाशीय बिजली) पर आधारित जागरूकता कार्यक्रम संपन्न

Featured Post slide पटना बिहार शिक्षा

पटना 22 सितंबर। व्रजपात पर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन ई0 एस0 ग्रुप के अर्थिंग सोल्युसन्स द्वारा दयानन्द विद्यालय, मिठापुर में किया गया। बज्रपात जिसे आम बोल चाल के भाषा में ठनका भी कहा जाता है, बहुत ही घातक हो सकता है।

अर्थिंग सोल्युसन्स के ओर से के0 के0 वर्मा ने विस्तार से बताया। उन्होने कहा कि बज्रपात बिजली से केवल ध्वनि ही नहीं होती अपितु कई तरह के हानि हो सकती है जैसेः-

?उत्पादकता की हानी,

?संचित डाटा की हानी,

?हमारे धरोहर का क्षतिग्रस्त होना,

?जन सेवायें बाधित होना, और

?मनुष्य की जान भी जा सकता है।

?बज्रपात में 50000 एम्पीयर करंट गिर सकता है। और यह 10 मील की दुरी तय कर सकता है।

दुनिया भर में औसतन 40 बार बज्रपात प्रति सेकेण्ड होता है। सबसे उँचे और नुकिले वस्तु पर बज्रपात होने की सम्भावना अधिक होती
है।

?सावधानी:-

?जब भी आसमान के बादल गरजे और बज्रपात की सम्भावना हो तो घर में या आस-पास किसी मकान मे सुरक्षित रहना चाहिए।

?बज्रपात के समय घर के अन्दर भी सावधनी बरतने की आवश्यकता है।

?इस दौरान हमे पानी के नल, झड़ना या बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

?बज्रपात के दौरान किसी उँचे पेड़ के नीचे कभी भी नहीं रहना चाहिए।

?इस दौरान तार से जूड़े फोन, टेलिविजन का उपयोग संकट में डाल सकता है।
?बज्रपात के दौरान मोबाइल फोन, लैपटाप या टैव का उपयोग किया जा सकता है, बशर्तें यह उपकरण बिजली से जूड़ा नहीं हो।

मनुष्य के शरीर में बिजली के करंट का संचय नहीं होता है, अतः बज्रपात से ग्रसीत व्यक्ति को प्रथम
चिकित्सा तुरंत देना चाहिए। इसमे उपचार कारगर होता है। मनुष्य के शरीर पर बज्रपात का असर दो प्रकार के हो सकता है। पहला- अल्पकालिन जेसे
शरीर का जल जाना या झुलस जाना, हदयाघात, कान शुन्य हो जाना। यहां तक कि मौत भी हो सकता है। दूसरा – दीर्घकालिन – जैसे आंख की रौशनी में कमी, शरीर के किसी अंग में दर्द, अवसाद, व्यक्तित्व में बदलाव।

?व्रजपात से बचाव:-

?बज्रपात से बचने के लिए मकान के उपर तड़िक चालक का उपयोग करना चाहिए।

?नई तकनीक के तंड़िक चालक बहुत बड़े क्षेत्रापफल 107 मीटर रेडियस में सुरक्षा प्रदान करता है।

?एक नई तकनिक के उपकरण से हम यह भी जान सकते है कि कितनी बार बज्रपात हुआ।

इस जागरूकता कार्यक्रम में 100 से अध्कि बच्चों ने भाग लिया। स्कूल के शिक्षकगण के अलावा अर्थिंग सोल्युसल्स के संगीता वर्मा, प्रेम कुमार,
सुनित कुमार, प्रियंका वर्मा आदि उपस्थित थे। संगीता वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। दयानन्द स्कूल के प्रिन्सीपल ने इस जागरूकता कार्यक्रम की
सराहना की तथा भविष्य में स्कूल के सभी बच्चों के लिए जागरूकता कार्यक्रम करने की पेशकस भी की।

अन्य ख़बरें

मशहूर गायक नरेंद्र चंचल का हुआ निधन, प्रधानमंत्री सहित बॉलीवुड हस्तियों ने जताया दुःख
बिहार में कोरोना से एक की मौत, स्वास्थ्य तैयारियां नमक के बराबर... जनता बैठी है थाली बजाने: रवीश कुम...
भोजपुरी फिल्म ‘छलिया’ 18 अक्‍टूबर को होगी रिलीज, सुपर स्‍टार अरविंद अकेला कल्‍लू की हैं फिल्‍म।
प्रधानमंत्री का जन्मदिन सेवा दिवस के रुप में मनाया गया हुआ स्वास्थ्य शिविर का हुआ उद्घाटन
आसाराम जी बापू का 55 वां आत्मसाक्षात्कार दिवस धूमधाम से मनाया गया
पूर्व कृषि मंत्री ने MGCU के दीवार एवं कैंपस मार्ग के लिए सांसद निधि से दिए 50 लाख
रक्तदान दल BYO ने की बैठक। 4 सदस्यीय एवं 8 सदस्यीय दो टीमें गठित। ज़की अहमद बने संयोजक
कला संस्कृति मंत्री ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर, हुआ चंपा के पौधे का वितरण
प्रधानमंत्री मोदी का देशवासियों के नाम संदेश
BHU IMS से बीएससी नर्सिंग, बी फार्मा, BOT, BPT करना हो तो आज ही फॉर्म ऑनलाइन कीजिए लास्ट डेट 11 मई
शपथ ग्रहण के दौरान दिल्ली के कौन-कौन से रास्ते रहेंगे बंद...पढ़िए
विश्व एड्स दिवस के अवसर पर वार्ड सदस्यों द्वारा एड्स जागरूकता कार्यक्रम का हुआ आयोजन
चकिया: ABVP के काॅलेज इकाई का हुआ पुनर्गठन,
राष्ट्रीय पोषण माह के अवसर पर महिला वार्ड सदस्यों के द्वारा गर्भावस्था के दौरान पोषण के महत्व पर परि...
मोहम्मद तमन्ना बने जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव, मोतिहारी वासियों ने दी बधाई।
कृभको ने किसान सभा में संतुलित उर्वरक उपयोग एवं किसानों के आय बढ़ाने पर चर्चा की
अत्तुनिया डिजिटल कॉर्ड से डिजिटल इंडिया का सपना होगा साकार : मंत्री डॉ. प्रेम कुमार
भाजपा जिला महामंत्री डॉ लालबाबू प्रसाद ने किया अपोलो इमरजेंसी हॉस्पिटल का उद्घाटन
पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी बेस्ट इलेक्रटोरल प्रैक्टिसेज अवार्ड-2020 के स्पेशल अवार्ड से सम्मानित

Leave a Reply