वज्रपात (ठनका/आकाशीय बिजली) पर आधारित जागरूकता कार्यक्रम संपन्न

Featured Post slide पटना बिहार शिक्षा
  • 9
    Shares

पटना 22 सितंबर। व्रजपात पर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन ई0 एस0 ग्रुप के अर्थिंग सोल्युसन्स द्वारा दयानन्द विद्यालय, मिठापुर में किया गया। बज्रपात जिसे आम बोल चाल के भाषा में ठनका भी कहा जाता है, बहुत ही घातक हो सकता है।

अर्थिंग सोल्युसन्स के ओर से के0 के0 वर्मा ने विस्तार से बताया। उन्होने कहा कि बज्रपात बिजली से केवल ध्वनि ही नहीं होती अपितु कई तरह के हानि हो सकती है जैसेः-

?उत्पादकता की हानी,

?संचित डाटा की हानी,

?हमारे धरोहर का क्षतिग्रस्त होना,

?जन सेवायें बाधित होना, और

?मनुष्य की जान भी जा सकता है।

?बज्रपात में 50000 एम्पीयर करंट गिर सकता है। और यह 10 मील की दुरी तय कर सकता है।

दुनिया भर में औसतन 40 बार बज्रपात प्रति सेकेण्ड होता है। सबसे उँचे और नुकिले वस्तु पर बज्रपात होने की सम्भावना अधिक होती
है।

?सावधानी:-

?जब भी आसमान के बादल गरजे और बज्रपात की सम्भावना हो तो घर में या आस-पास किसी मकान मे सुरक्षित रहना चाहिए।

?बज्रपात के समय घर के अन्दर भी सावधनी बरतने की आवश्यकता है।

?इस दौरान हमे पानी के नल, झड़ना या बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

?बज्रपात के दौरान किसी उँचे पेड़ के नीचे कभी भी नहीं रहना चाहिए।

?इस दौरान तार से जूड़े फोन, टेलिविजन का उपयोग संकट में डाल सकता है।
?बज्रपात के दौरान मोबाइल फोन, लैपटाप या टैव का उपयोग किया जा सकता है, बशर्तें यह उपकरण बिजली से जूड़ा नहीं हो।

मनुष्य के शरीर में बिजली के करंट का संचय नहीं होता है, अतः बज्रपात से ग्रसीत व्यक्ति को प्रथम
चिकित्सा तुरंत देना चाहिए। इसमे उपचार कारगर होता है। मनुष्य के शरीर पर बज्रपात का असर दो प्रकार के हो सकता है। पहला- अल्पकालिन जेसे
शरीर का जल जाना या झुलस जाना, हदयाघात, कान शुन्य हो जाना। यहां तक कि मौत भी हो सकता है। दूसरा – दीर्घकालिन – जैसे आंख की रौशनी में कमी, शरीर के किसी अंग में दर्द, अवसाद, व्यक्तित्व में बदलाव।

?व्रजपात से बचाव:-

?बज्रपात से बचने के लिए मकान के उपर तड़िक चालक का उपयोग करना चाहिए।

?नई तकनीक के तंड़िक चालक बहुत बड़े क्षेत्रापफल 107 मीटर रेडियस में सुरक्षा प्रदान करता है।

?एक नई तकनिक के उपकरण से हम यह भी जान सकते है कि कितनी बार बज्रपात हुआ।

इस जागरूकता कार्यक्रम में 100 से अध्कि बच्चों ने भाग लिया। स्कूल के शिक्षकगण के अलावा अर्थिंग सोल्युसल्स के संगीता वर्मा, प्रेम कुमार,
सुनित कुमार, प्रियंका वर्मा आदि उपस्थित थे। संगीता वर्मा ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। दयानन्द स्कूल के प्रिन्सीपल ने इस जागरूकता कार्यक्रम की
सराहना की तथा भविष्य में स्कूल के सभी बच्चों के लिए जागरूकता कार्यक्रम करने की पेशकस भी की।

अन्य ख़बरें

निर्यात ऋण की समय पर उपलब्‍धता भारत की निर्यात वृद्धि की कुंजी: पीयूष गोयल
छात्रसंघ चुनाव को लेकर JAPC एवं AISF के बीच हुआ गठबंधन
कोरोना की जंग में जरूरतमंद लोगों की मदद के लिये आयी कंचन सिंह
अटल जी को जागृति सेवा किड्स प्ले स्कूल ने दी श्रद्धांजलि
26 सितंबर को होने वाले विश्व गर्भनिरोधक दिवस के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया
रमगढ़वा में छठ के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का हुआ आयोजन
छात्र राजद ने दी उग्र आंदोलन की चेतावनी
राज्य के शिक्षकों ,आंगनबाड़ी एवं आशा सेविकाओं को कोरोना योद्धा के रूप में 1 करोड़ तक का विशेष बीमा कवर...
एनएसआई डांस अकादेमी के छात्र करेंगे हिंदी फिल्म में कोरियोग्राफी
कंटेट पर आधारित फिल्मों को प्राथमिकता देते हैं किशु राहुल
कोरोना संकट झेल रहे सीतामढ़ी को बाढ़ आपदा से बचाव को लेकर डीएम-एसपी ने तटबंधों का किया निरीक्षण
पूर्व IAS ऑफिसर शाह फैसल ने बनाई "जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट" पार्टी। 2010 के यूपीएससी टॉपर रहे है...
बॉलीवुड का तरका और लजीज व्‍यजनों से गुलजार होगा पटनाविसायों का साल का अंतिम शाम
21 फरवरी को बिहार में रिलीज हो रही "यारा तेरी यारी"दिखेगा कल्लू रितेश की दोस्ती भोजपुरी स्क्रीन पर
घरेलु महिलाएं केक बनाना सीख पा सकती है रोजगार : सुमन
15 जुलाई से 15 अगस्त तक राष्ट्रीय लोक समता पार्टी चलाएगी सदस्यता अभियान
सही प्रशिक्षण से ही मिलेगा इंडस्ट्री में काम : अभिनेता जतिन सूरी
मोतिहारी में भारत बंद ?असरदार
अगर आप की उम्र 60 वर्ष है तो आपको मिलेगा ₹3000 का मासिक पेंशन... पढ़िए कैसे उठाएंगे आप इस योजना का ल...
श्री साईं बाबा ट्रस्ट द्वारा हुआ छठ घाट का निर्माण, उद्योगपति राकेश पांडे ने की प्रशंसा।

  • 9
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *