राम जैसा बेटे का इतिहास पढ़ाकर ही, आज के बेटों को मर्यादित किया जा सकता है।

धार्मिक ज्ञान फोटो गैलरी राष्ट्रीय लखनऊ शिक्षा सम्पादकीय सीतामढ़ी स्पेशल न्यूज़

अयोध्या नगरिया के पतली डगरिया ।
चले राम रघुवरियाँ हे धीरे धीरे।।

अयोध्या। दुनिया में अब तक कोई ऐसा बेटा पैदा नहीं हुआ, जो स्वयं का राज्याभिषेक छोड़कर 14 बरस का बनवास स्वीकार करें। हमने किताबों में पढ़ा है बहुत सारे राजाओं एवं बाबर के बच्चों ने सिर्फ सिंहासन के लिए अपने बाप को कैद भी किया मरवा भी दिया है लेकिन राम दुनिया के पहले ऐसे पुत्र हुए जिन्होंने अपने पिता की जुबान की मर्यादा रखने के लिए 14 बरस का बनवास स्वीकार किया।

राम उस स्थिति में और भी प्रासंगिक हो जाते हैं जब उनकी मझली मां कैकई, जिसके कारण उनको बनवास जाना पड़ा, उनका भी अनादर नहीं करते हैं । इतना ही नहीं कैकई द्वारा वरदान मांगने राजा दशरथ द्वारा उन्हें प्रवास जाने की सारी घटना घटने के बावजूद वनवास जाते समय राम उनको भी मां करके बुलाते हैं। अगर कोई माता कैकई को डांटता है, भला बुरा कहता है, तो राम उसे समझाते हैं ।।

कितना विहंगम दृश्य है….. राजा दशरथ पुत्र वियोग में तड़प रहे हैं। माता केकैई राम को वनवास जाने के लिए प्रेरित कर रहीं है। माता कौशल्या अपने जिगर के लाल का यह हश्र होते हुए देख कर तड़प रही है, ऐसा लग रहा है मानो उसका कलेजा फट जाएगा। अयोध्या की जनता राम के पक्ष में है, और राजा दशरथ के खिलाफ विद्रोह करने को तैयार है ।लक्ष्मण क्रोधित है। वह अपने भाई को वनवास जाते हुए नहीं देख सकते हैं। सारी स्थितियां राम के पक्ष में है।

राम चाहते तो क्षण भर में सत्ता पर कब्जा करके राजा बन जाते । वे चाहते तो अयोध्या की सत्ता पर कब्जा कर सकते थे । अपने शत्रुओं को दीवाल में चुनवा सकते थे। उनकी हत्या करवा सकते थे। उन्हें रामराज्य ही अच्छा लगे यह कबूल करवा सकते थे। माता केकई को भी सजा दे सकते थे । उन्हें जेल खाने में रखवा सकते थे । राज्याभिषेक छोड़कर वन जाने की आज्ञा देने वाले पिता को भी जेल में कैद करवा सकते थे ।किंतु राम ने ऐसा नहीं किया। और यही स्थिति राम को सामान्य से असामान्य, दैवीय गुणों से युक्त पुरुष से परमेश्वर की तरफ ले जाती है। जिसका एहसास हम सभी को है।यहां तक कि राम वनवास जाते समय नादान नाराज ना सिंहासन ना सोना ना चांदी ना सेना नहीं वो कि किसी सामग्री को स्वीकार करते हैं बल्कि बनवासी वेश धारण करके जंगल की तरफ प्रस्थान कर देते है। रास्ते में पढ़ने वाले नात नदियां पहाड़ जंगल इन सब के विषय में उनके गुणों के विषय में उनके दोष के विषय में अपनी पत्नी सीता को प्यारे भाई लक्ष्मण को बताते चलते हैं एवं मनुष्यों से दूर अपना 14 वर्ष बिताने के लिए घनघोर दंडकारण्य वन में प्रवेश करते हैं।

अन्य ख़बरें

फिल्म फ़र्ज का फर्स्ट लुक जारी, सोशल मीडिया में की जा रही है चर्चा
भोजपुरी फिल्म काजल के प्रमोशन को मोतिहारी पहुंचे फिल्मी सितारे
प्रधानमंत्री मोदी का देशवासियों के नाम संदेश
पूर्व मंत्री राधा मोहन सिंह ने नगर विकास विभाग एवं जीविका के पदाधिकारियों के साथ की बैठक, स्वरोजगार ...
स्व.अटल बिहारी वाजपेयी जी के जयंती पर लिया पर्यावरण सुरक्षा का संकल्प एवं जागरूकता रैली
मेरे गुरु मेरे मार्गदर्शक: रजत पाठक की कलम से
बिट्टू यादव के नेतृत्व में मोतिहारी युवा कांग्रेस का एकदिवसीए बैठक संपन्न
लायंस क्लब पटना शिव शक्ति द्वारा पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू
छठ के मौके पर मधुरेंद्र द्वारा बनाई गई कलाकृति का हर कोई मुरीद
उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी से मिली "सेल्फी विद ट्री" की टीम
धूमधाम से मनाया गया शिखा नरूला का जन्मदिन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने लिखी दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को चिट्ठी...
जीविका दीदियों का परिभ्रमण जत्था रवाना, महात्मा गांधी से जुड़े स्थलों का दर्शन कर करेंगी ज्ञानवर्धक
कयासों पर लगा विराम... संजय जयसवाल को बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष कमान
अभाविप हरसिद्धिः विभिन्न कोचिंग-शिक्षण संस्थानों में सदस्यता अभियान के दौरान 300 छात्र-छात्राओं को द...
यहां पढ़िए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को लेकर आयुष मंत्रालय की क्या-क्या तैयारियां कर रहा है...?
युवा सेवा संघ ने देश भक्ति और संस्कृति रक्षा यात्रा निकालकर भारत को विश्व गुरु बनाने का लिया संकल्प
मोतिहारी चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित प्रत्याशी मंच कार्यक्रम में प्रत्याशियों से पूछे गए तीखे प्रश...
एड्स से बचने के लिए जानकारी का होना आवश्यक है:प्रोफेसर शिव कुमार प्रसाद
बिजनेस के साथ साथ सामाजिक क्षेत्र में खास पहचान बना चुके हैं 'विशाल गप्पू'

Leave a Reply