राम जैसा बेटे का इतिहास पढ़ाकर ही, आज के बेटों को मर्यादित किया जा सकता है।

धार्मिक ज्ञान फोटो गैलरी राष्ट्रीय लखनऊ शिक्षा सम्पादकीय सीतामढ़ी स्पेशल न्यूज़

अयोध्या नगरिया के पतली डगरिया ।
चले राम रघुवरियाँ हे धीरे धीरे।।

अयोध्या। दुनिया में अब तक कोई ऐसा बेटा पैदा नहीं हुआ, जो स्वयं का राज्याभिषेक छोड़कर 14 बरस का बनवास स्वीकार करें। हमने किताबों में पढ़ा है बहुत सारे राजाओं एवं बाबर के बच्चों ने सिर्फ सिंहासन के लिए अपने बाप को कैद भी किया मरवा भी दिया है लेकिन राम दुनिया के पहले ऐसे पुत्र हुए जिन्होंने अपने पिता की जुबान की मर्यादा रखने के लिए 14 बरस का बनवास स्वीकार किया।

राम उस स्थिति में और भी प्रासंगिक हो जाते हैं जब उनकी मझली मां कैकई, जिसके कारण उनको बनवास जाना पड़ा, उनका भी अनादर नहीं करते हैं । इतना ही नहीं कैकई द्वारा वरदान मांगने राजा दशरथ द्वारा उन्हें प्रवास जाने की सारी घटना घटने के बावजूद वनवास जाते समय राम उनको भी मां करके बुलाते हैं। अगर कोई माता कैकई को डांटता है, भला बुरा कहता है, तो राम उसे समझाते हैं ।।

कितना विहंगम दृश्य है….. राजा दशरथ पुत्र वियोग में तड़प रहे हैं। माता केकैई राम को वनवास जाने के लिए प्रेरित कर रहीं है। माता कौशल्या अपने जिगर के लाल का यह हश्र होते हुए देख कर तड़प रही है, ऐसा लग रहा है मानो उसका कलेजा फट जाएगा। अयोध्या की जनता राम के पक्ष में है, और राजा दशरथ के खिलाफ विद्रोह करने को तैयार है ।लक्ष्मण क्रोधित है। वह अपने भाई को वनवास जाते हुए नहीं देख सकते हैं। सारी स्थितियां राम के पक्ष में है।

राम चाहते तो क्षण भर में सत्ता पर कब्जा करके राजा बन जाते । वे चाहते तो अयोध्या की सत्ता पर कब्जा कर सकते थे । अपने शत्रुओं को दीवाल में चुनवा सकते थे। उनकी हत्या करवा सकते थे। उन्हें रामराज्य ही अच्छा लगे यह कबूल करवा सकते थे। माता केकई को भी सजा दे सकते थे । उन्हें जेल खाने में रखवा सकते थे । राज्याभिषेक छोड़कर वन जाने की आज्ञा देने वाले पिता को भी जेल में कैद करवा सकते थे ।किंतु राम ने ऐसा नहीं किया। और यही स्थिति राम को सामान्य से असामान्य, दैवीय गुणों से युक्त पुरुष से परमेश्वर की तरफ ले जाती है। जिसका एहसास हम सभी को है।यहां तक कि राम वनवास जाते समय नादान नाराज ना सिंहासन ना सोना ना चांदी ना सेना नहीं वो कि किसी सामग्री को स्वीकार करते हैं बल्कि बनवासी वेश धारण करके जंगल की तरफ प्रस्थान कर देते है। रास्ते में पढ़ने वाले नात नदियां पहाड़ जंगल इन सब के विषय में उनके गुणों के विषय में उनके दोष के विषय में अपनी पत्नी सीता को प्यारे भाई लक्ष्मण को बताते चलते हैं एवं मनुष्यों से दूर अपना 14 वर्ष बिताने के लिए घनघोर दंडकारण्य वन में प्रवेश करते हैं।

अन्य ख़बरें

सहायक अवर निरीक्षक प्रकाश सिंह को मिली पदोन्नति,पुलिस अवर निरीक्षक बनाए गए। पकड़ीदयाल डीएसपी ने अपन...
पटना आईएमए हाॅल में 'आइसा' एवं 'ऐपवा' का छात्रा संवाद, छात्राओं ने मुखर रूप कही मन की बात।
कांग्रेस की जबरदस्त जीत, रितेश नाथ तिवारी ने केक काटकर मनाया जीत का जश्न
प्रोटेक्ट गांधी दर्शन के अवसर पर बोले पूर्व कृषि मंत्री गांधी का मूल दर्शन सबका साथ सबका विकास था
पाकिस्तान पर भारतीय वायु सेना के हमले के बाद मोतिहारी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने मनाया जश्न
बसपा के प्रत्याशी अनिल सहनी ने अपना नामांकन वापस लिया। महागठबंधन के पक्ष में करेंगे प्रचार।
पकड़ीदयाल के सुरेश ने BPSC में 275 रैंक लाकर किया क्षेत्र का नाम रौशन, पहले पत्रकार बनना चाहते थे अ...
अगरतला के विवेकानंद ग्राउंड से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भरी हुंकार
यादव लाल पासवान बने रालोसपा दलित-महादलित प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष
संविधान बचाओ न्याय यात्रा...RJD
शुद्ध प्राणवायु एवं प्राकृतिक संतुलन के लिए वृक्षारोपण जरूरी: 'ट्रीमैन' राजेश
Rakesh Pandey.....a ray of hope in Champaran
प्रतिरोध मार्च निकालकर वामदलों ने मनाया संविधान बचाओ एवं धर्मनिरपेक्षता दिवस"
प्रथम खंड की परीक्षा का केंद्र बदल गया है। अब इस परीक्षा केंद्र पर होगी परीक्षा ।।
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लिखी प्रधानमंत्री को चिट्ठी, स्वास्थ्य कारणों से नहीं लेंगे कोई बड़ी जिम्...
सेवा सप्ताह के अंतर्गत सदर हॉस्पिटल मोतिहारी में स्वच्छता अभियान चलाया गया
परिणय सूत्र में बँधे PRO सर्वेश कश्यप, फिल्मी गलियारों चर्चा
आज यानी 25 अप्रैल को मोतिहारी समाहरणालय गेट के बगल में रेत कलाकृति बनाएंगे सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र क...
अंतरराष्ट्रीय संस्था द्वारा कर्मवीर चक्र से सम्मानित होंगे मोटिवेशनल गुरु मुन्ना कुमार
स्वच्छता अभियान के तीसरे दिन साफ सफाई कर दिया गया स्वच्छता का संदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *