राम जैसा बेटे का इतिहास पढ़ाकर ही, आज के बेटों को मर्यादित किया जा सकता है।

धार्मिक ज्ञान फोटो गैलरी राष्ट्रीय लखनऊ शिक्षा सम्पादकीय सीतामढ़ी स्पेशल न्यूज़

अयोध्या नगरिया के पतली डगरिया ।
चले राम रघुवरियाँ हे धीरे धीरे।।

अयोध्या। दुनिया में अब तक कोई ऐसा बेटा पैदा नहीं हुआ, जो स्वयं का राज्याभिषेक छोड़कर 14 बरस का बनवास स्वीकार करें। हमने किताबों में पढ़ा है बहुत सारे राजाओं एवं बाबर के बच्चों ने सिर्फ सिंहासन के लिए अपने बाप को कैद भी किया मरवा भी दिया है लेकिन राम दुनिया के पहले ऐसे पुत्र हुए जिन्होंने अपने पिता की जुबान की मर्यादा रखने के लिए 14 बरस का बनवास स्वीकार किया।

राम उस स्थिति में और भी प्रासंगिक हो जाते हैं जब उनकी मझली मां कैकई, जिसके कारण उनको बनवास जाना पड़ा, उनका भी अनादर नहीं करते हैं । इतना ही नहीं कैकई द्वारा वरदान मांगने राजा दशरथ द्वारा उन्हें प्रवास जाने की सारी घटना घटने के बावजूद वनवास जाते समय राम उनको भी मां करके बुलाते हैं। अगर कोई माता कैकई को डांटता है, भला बुरा कहता है, तो राम उसे समझाते हैं ।।

कितना विहंगम दृश्य है….. राजा दशरथ पुत्र वियोग में तड़प रहे हैं। माता केकैई राम को वनवास जाने के लिए प्रेरित कर रहीं है। माता कौशल्या अपने जिगर के लाल का यह हश्र होते हुए देख कर तड़प रही है, ऐसा लग रहा है मानो उसका कलेजा फट जाएगा। अयोध्या की जनता राम के पक्ष में है, और राजा दशरथ के खिलाफ विद्रोह करने को तैयार है ।लक्ष्मण क्रोधित है। वह अपने भाई को वनवास जाते हुए नहीं देख सकते हैं। सारी स्थितियां राम के पक्ष में है।

राम चाहते तो क्षण भर में सत्ता पर कब्जा करके राजा बन जाते । वे चाहते तो अयोध्या की सत्ता पर कब्जा कर सकते थे । अपने शत्रुओं को दीवाल में चुनवा सकते थे। उनकी हत्या करवा सकते थे। उन्हें रामराज्य ही अच्छा लगे यह कबूल करवा सकते थे। माता केकई को भी सजा दे सकते थे । उन्हें जेल खाने में रखवा सकते थे । राज्याभिषेक छोड़कर वन जाने की आज्ञा देने वाले पिता को भी जेल में कैद करवा सकते थे ।किंतु राम ने ऐसा नहीं किया। और यही स्थिति राम को सामान्य से असामान्य, दैवीय गुणों से युक्त पुरुष से परमेश्वर की तरफ ले जाती है। जिसका एहसास हम सभी को है।यहां तक कि राम वनवास जाते समय नादान नाराज ना सिंहासन ना सोना ना चांदी ना सेना नहीं वो कि किसी सामग्री को स्वीकार करते हैं बल्कि बनवासी वेश धारण करके जंगल की तरफ प्रस्थान कर देते है। रास्ते में पढ़ने वाले नात नदियां पहाड़ जंगल इन सब के विषय में उनके गुणों के विषय में उनके दोष के विषय में अपनी पत्नी सीता को प्यारे भाई लक्ष्मण को बताते चलते हैं एवं मनुष्यों से दूर अपना 14 वर्ष बिताने के लिए घनघोर दंडकारण्य वन में प्रवेश करते हैं।

अन्य ख़बरें

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने लिखी प्रधानमंत्री को चिट्ठी, स्वास्थ्य कारणों से नहीं लेंगे कोई बड़ी जिम्...
Bollywood Connection of Cycle...???
मोतिहारी में 21 जून को नरसिंह बाबा मठ में होगा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम
आसाराम बापू के भक्तों ने मनाया ब्लैक डे: 5 साल पहले आज ही के दिन आसाराम बापू हुए थे गिरफ्तार
रक्षाबंधन:: स्वर्ग से सुंदर सपनों से न्यारा , भाई बहन का प्यार.... ABVP
उड़ीसा के दैत्री नाईक 3 किलोमीटर लंबी नहर खोदकर गांव को पानी की समस्या से दिलाई निजात
एएसपी अभियान हिमांशु शेखर गौरव के नेतृत्व में की गई छापेमारी, विभिन्न मामलों में अभियुक्त विनोद पासव...
मोतिहारी विधानसभा भाजपा के मंडल समितियों की कार्यशाला आयोजित, सदस्यता पंजी के सत्यापन और बूथ एवं मंड...
मोतिहारी में कांग्रेस गठबंधन का भारत बंद पूरी तरह से सफल
बिहार तैलिक साहू सभा के प्रदेश अध्यक्ष रणविजय साहू का हुआ स्वागत
महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय के अच्छे दिन कब आएंगे...???
सेवा दिवस के अवसर पर कृषि मंत्री द्वारा किया गया सिलाई मशीन वितरण
जल, जीवन व हरियाली की रेत कलाकृति देख, मधुरेन्द्र के हुए मुरीद मुख्यमंत्री नीतिश कुमार
सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुँचाने में मीडिया की भूमिका अहम है: रमण कुमार, जिलाधिकारी, मोतिहारी
कन्हैया कुमार 9 Oct. को आऐंगे मोतिहारी..... स्पोर्ट्स क्लब में होगा लाल सलाम
शैलेंद्र शुक्ला की अध्यक्षता में,मनाया गया चाचा नेहरू का जन्मदिन। बच्चों के बीच बांटी गई टाॅफियाँ
बजरंग दल ने की, कन्हैया के कार्यक्रम को रद्द करने की मांग
कल मोतिहारी में भाजपा के नए प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल के अभिनंदन की तैयारियाँ जोरों पर
Jyoti Jha: A Story of Inspiration
भव्य राम मंदिर निर्माण हेतु मोतिहारी के रघुनाथपुर में अनुष्ठान संपन्न, संतों के फैसला का विहिप करेगी...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *