मोतिहारी के परिचय कुमार ने UPSC में मारी बाजी, आया 410वाँ रैंक। पिछली बार आया था इतना रैंक…

Administration Featured Post बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल शिक्षा स्पेशल न्यूज़

मोतिहारी। यूपीएससी क्वालीफाई करना हर किसी का सपना होता है। मेहनत, लगन एवं निरंतर प्रयास से सपनों को पंख लगते हैं जो मंजिल तक ले जाते हैं। ख्वाब, जुनून, कड़ा परिश्रम एवं फतह की यही परिभाषा गढ़ रहे हैं, मोतिहारी से दो बार यूपीएससी क्वालीफाई करने वाले परिचय कुमार।
यूं तो “परिचय कुमार” किसी परिचय के मोहताज नहीं है। किंतु तीन प्रयास में दो बार यूपीएससी क्वालीफाई करना, उनके जूनून और निरंतर प्रयास की एक अलग ही गाथा बयाॅ करती है। जिनके पदचिह्ननों को हर कोई फॉलो करना चाहेगा।
मूल रूप से चिरैया प्रखंड के कपूरपकड़ी के रहने वाले उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के रिटायर्ड ब्रांच मैनेजर अजय कुमार एवं  गीता देवी के बड़े पुत्र है परिचय कुमार। वर्तमान समय में वे मोतिहारी के छोटा बरियारपुर में रहते है। इनके छोटे भाई प्रवेश कुमार सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं।

शिक्षा-दीक्षा, जाॅब……

उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मोतिहारी के सीएस डी ए वी स्कूल से पूरी की। उसके बाद आगे की शिक्षा पहले बोकारो (2013), मैसूर के एन आई सी काॅलेज से इंजीनियरिंग एवं IIM Lucknow से मैनेजमेंट (PGDM) की। इसके बाद मुंबई में ही Reserve Bank of India में जाॅब करने लगें। यहां उन्होंने जुलाई 2019 में ज्वाइन किया था एवं दिसंबर 2020 तक जॉब किया। श्री कुमार कहते हैं कि तैयारी के दौरान सिर्फ 1 वर्ष के लिए ही उन्होंने जॉब छोड़ा था बाकी हर समय वे जॉब करते रहें और तैयारी की।

सिविल सेवा की तरफ रूझान, रिजल्ट…..

परिचय कुमार कहते हैं कि लखनऊ में ही मैनें सिविल सेवा का ख्वाब देखा । फिर जाॅब लगने के बाद मैने एक वर्ष के लिए जाॅब छोड़कर तैयारी में लगा रहा। दूसरे प्रयास में यूपीएससी क्वालीफाई भी किया लेकिन रैंक मेरे आशा के अनुरूप नही था।
बतादें कि इस दौरान उनका रैंक 600वाँ था। उन्हे IRTS मिला और वर्तमान समय में वे इसमें कार्यरत भी हैं । लेकिन IAS/IPS बनने की चाह ने उनके जूनून को कम नही होने दिया। जिसका परिणाम आज सबके सामने है। परिचय कुमार कहते है कि इस बार उम्मीद है कि IPS मिल जाएगा।

सफलता का श्रेय……

यूपीएससी में अच्छे रैंक के लिए लगातार संघर्ष एवं बैक टू बैक दो बार यूपीएससी क्वालीफाई करने का श्रेय अपने माता-पिता, अपनी पत्नी एवं छोटे भाई व उनकी पत्नी को देते हुए परिचय कुमार कहते हैं कि शुरू से ही माता-पिता एवं घर परिवार का मुझे पूरा सपोर्ट मिला।

 ट्यूशन- कोचिंग नही ली… सिर्फ टेस्ट सीरीज जॉइन किया एवं self study किया… 

श्री कुमार कहते हैं कि आजकल किसी भी ट्यूशन कोचिंग में ज्यादा पैसे खर्च करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सारे मैटेरियल ऑनलाइन उपलब्ध है। मैंने सिर्फ सेल्फ स्टडी ( self study)  की एवं किसी भी तरह की ट्यूशन अथवा कोचिंग ज्वाइन नहीं की। हाँ टेस्ट सीरीज ज्वाइन किया था और यह मेंस के लिए जरूरी भी है।

 410वें रैंक की खुशी …?

जब उनसे पूछा गया कि आपको 410 वाँ रैंक आया है आप कितना खुश है…? इसपर उन्होंने कहा कि सिविल सर्विसेज में ज्यादा कुछ उम्मीद तो नहीं कर सकते हैं। आपको बस अपना बेस्ट करना होता है। यहां तक कि रैंक आना ही बड़ी बात हो जाती है। मेरे दिमाग में पहले से कोई नंबर नहीं था। सोचा था, आईएएस अथवा आईपीएस वाली कोई रैंक आ जाए तो अच्छी बात होगी। इस बार के रैंक में मुझे आईपीएस मिल जाएगा।

एडमिनिस्ट्रेशन में हर सर्विस का अपना face और Importance  है….

जब परिचय कुमार से यह पूछा गया कि पिछली बार आपको 600वाँ रैंक आया था। क्या लगा था कि आपका आईएएस/ आईपीएस बनने का ख्वाब टूट गया…?? इस प्रश्न पर श्री कुमार बड़ी गंभीरता से जवाब देते हुए कहते हैं कि सभी सर्विसेज का अपना-अपना इंर्पोटेंस है। मेरी अभी की आईआरटीएस सर्विस भी अच्छी सर्विस है और देश के एडमिनिस्ट्रेशन में हर सर्विस का अपना फेस और अपना इंर्पोटेंस होता है। उस समय भी मैं काफी खुश था और आज भी काफी खुश हूं। ऐसे पिछली बार मैं ज्यादा खुश था क्योंकि पहली बार यूपीएससी के लिस्ट में नाम आना ही बड़ी बात होती है।

रुपए-पैसे ही सब कुछ नहीं होते हैं…

Private sector में मैनेजमेंट करके अत्यधिक रूपए-पैसे कमाने की बात पर परिचय कुमार कहते हैं कि एक लंबे करियर में रुपए-पैसे उतना सेटिस्फाइंग नहीं हो सकते, जितना ऐसे काम करने से हो सकता है, जिसमें आपका मन लगे, लोगों की हेल्प कर सके, समाज कल्याण भी कर सके। सैलरी/पैसे ही सब कुछ नहीं होते हैं…!

यूपीएससी की तैयारी के दौरान हताश व निराश ना हो…

श्री कुमार कहते हैं कि सिविल सर्विसेज की तैयारी के दौरान हताश और निराश ना हो। लगातार मेहनत करते रहें। यह एग्जाम लंबी तैयारी एवं ज्यादा मेहनत खोजती ही है।

बिजली मिस्त्री की बेटी बनी SDM, 63वें BPSC में प्रियंका कुमारी को आया 101 रैंक

# पकड़ीदयाल के सुरेश ने BPSC में 275 रैंक लाकर किया क्षेत्र का नाम रौशन, पहले पत्रकार बनना चाहते थे अब बनेंगे ऑफिसर

Advertisements

अन्य ख़बरें

निर्यात ऋण की समय पर उपलब्‍धता भारत की निर्यात वृद्धि की कुंजी: पीयूष गोयल
फसल कटनी में शामिल हुए जिला पदाधिकारी, अग्निकांड से बचाव की दी जानकारी
कुंभ के मेले में अपने परिवार से बिछड़ी हुई बुजुर्ग महिला टेक्नोलॉजी व मानवीय सहयोग से अपने परिवार से...
विभिन्न समस्याओं को लेकर छात्र प्रतिनिधिमंडल ने की प्राचार्य से मुलाकात,निराकरण के लिए मिला आश्वासन
राज्य के शिक्षकों ,आंगनबाड़ी एवं आशा सेविकाओं को कोरोना योद्धा के रूप में 1 करोड़ तक का विशेष बीमा कवर...
भारत बंद को SFI का समर्थन...
बिहार विभूति स्वर्गीय सीताराम सिंह की 71वी जयंती प्रेरणा दिवस के रूप में मनाई गई
डॉ हेना चंद्रा के "चंद्रा लाइफ लाइन हॉस्पिटल" में हुआ विचित्र बच्चे का जन्म
फीचर फिल्म द हंड्रेड बक्स का ट्रेलर लॉन्च
सनकी दरोगा.......प्रेस कॉन्फ्रेंस रवि किशन अंजना सिंह लाइव
बिहार में शराब के विरुद्ध अभियान में सीवान पुलिस की बड़ी कामयाबी
मोतिहारी के डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कैंडल मार्च निकालकर, दिया पुलवामा शहीदों को श्रद्धांजलि
सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र ने लिया कोरोना वैक्सीन ग्रामीणों को किया प्रेरित
खुले में शौच से मुक्ति के लिए नरकटियागंज प्रखंड के केसरिया पंचायत में हुआ कार्यशाला का आयोजन
नव नियुक्त ANM का लॉटरी सिस्टम के माध्यम से पदस्थापन किया गया
कंचन गुप्ता के चंपारण आगमन एवं पटना तैलिक सम्मेलन को लेकर बैठक संपन्न
रेड क्रॉस सोसाइटी परामर्श दात्री समिति की समीक्षा बैठक में विभिन्न एजेंडो पर हुई विस्तृत चर्चा
भाजपा क्रीड़ा प्रकोष्ठ के सेवा सप्ताह कार्यक्रम में कृषि मंत्री प्रेम कुमार हुए शामिल
व्यवसायी हित से ही संबंधित रिपोर्ट सभी पार्टियों को चुनावी मेनिफेस्टो में शामिल करने के लिए भेजेगी च...
मुख्य सचिव बिहार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की समीक्षा बैठक