मिस इंडिया दिवा की फायनलिस्ट बनी आकांक्षा, पिता है बिजनेसमैन तो वही मां है पुलिस ऑफिसर

Featured Post slide पटना बिहार मनोरंजन
  • 7
    Shares

Patna।मिस इंडिया दिवा की फायनलिस्ट बनी आकांक्षा। आकांक्षा अब फैशन और मॉडलिंग की दुनिया में भी अपनी अलहदा पहचान बना
ली है। आकांक्षा गोआ में आगामी 15 जून को होने वाले मॉडलिंग हंट शो मिस इंडिया दिवा की फाइनलिस्ट बनायी गयी हैं।

बिहारी की राजधानी पटना में जन्मी आकांक्षा के पिता दयांनद बिजनेस मैन हैं जबकि मां विभा कुमारी पुलिस ऑफिसर है। माता-पिता ने घर की लाडली बड़ी बेटी आकांक्षा को अपनी राह खुद चुनने की आजादी दे रखी थी। बॉलीवुड अभिनेत्री और पूर्व मिस व्लर्ड प्रियंका चोपड़ा से प्रभावित रहने के कारण आकांक्षा उन्हीं की तरह मॉडल-अभिनेत्री बनने का ख्वाब देखा करती थी।आकांक्षा ने बताया कि प्रियंका मॉडलिंग की दुनिया से करियर की शुरूआत कर मिस व्लर्ड का ताज अपने नाम किया था । वह ग्राउंड टु अर्थ है । उन्होंने न सिर्फ ग्लैमर की दुनिया में बल्कि सामाजिक सरोकार से जुड़े काम में भी अपनी भागीदारी दी है। उन्होंने न सिर्फ बॉलीवुड में बल्की अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भी भारत का नाम रौशन किया है।आकांक्षा ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा पटना से पूरी की। इंटर की पढ़ाई पूरी करने के बाद आकांक्षा वर्ष 2014 नयी दिल्ली चली गयी। इस दौरान आकांक्षा ने स्नातक की पढ़ाई पूरी की और इसके बाद एवियेशन में डिप्लोमा किया। वर्ष 2018 में आकांक्षा आखो में बड़े सपने लिये मुंबई आ गयी। आकांक्षा यदि चाहती तो वह जॉब कर अपनी जिंदगी गुजर बसर कर सकती थी लेकिन वह मॉडलिंग के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। वर्ष 2018 में आकांक्षा ने गोआ में आयोजित मिस सुपर मॉडल इंटरनेशनल में हिस्सा लिया और मिस कॉनफिडेंट चुनी गयी। आकांक्षा अब मॉडलिंग हंट शो मिस इंडिया दिवा की फाइनलिस्ट बनायी गयी है। वह इस शो मे बिहार का प्रतिनिधत्व कर रही हैं। आकांक्षा का मानना है कि बिहार में प्रतिभाओं की कमी नही , यदि उन्हें उचित मंच दिया जाये तो यहां की प्रतिभायें अपनी पहचान बना सकती हैं।आकांक्षा आज फैशन-मॉडलिंग के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब हुयी है लेकिन उनके सपने यूं ही नही पूरे हुये हैं यह उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम है।आकांक्षा ने बताया किवह अपनी कामयाबी का पूरा श्रेय अपने माता-पिता और अपने भाई सुमित को देती हैं जिन्होंने उन्हें हमेशा सपोर्ट किया है।आकांक्षा ने राजधानी पटना के जेनिथ कामर्स एकेदमी से शिक्षा ली है। जेनिथ के निदेशक सुनील कुमार सिंह ने आकांक्षा की उपलब्धियों के लिये उन्हें बधाई एवं शुभकामनायें दी है। सुनील कुमार सिंह ने कहा कि आकांक्षा ने बिहार का नाम रौशन किया है। मैं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ।

अन्य ख़बरें

गांधी संकल्प यात्रा निकाल दिया गया स्वच्छता एवं शांति का संदेश
आज से भाजपा चलाऐगी "कमल ज्योति संकल्प" जनसंपर्क अभियान। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास ऐजेंडा से...
लायंस क्लब ऑफ पटना शिव शक्ति का तीसरा पद ग्रहण समारोह आयोजित
बिहार के नए राज्यपाल महामहिम लालजी टंडन का पटना एयरपोर्ट पर हुआ स्वागत
बिहार में शराब के विरुद्ध अभियान में सीवान पुलिस की बड़ी कामयाबी
संत श्री आसाराम बापू आश्रम मोतिहारी द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को दी गई श्रद्धांजलि
20 वां अंतर्राज्जीय कराटे प्रतियोगिता 2019 का पुरस्कार वितरण संपन्न
बेलसंड: मुखीया व वैश्य नेता अशोक साह की अपराधियों ने गोली मारकर की निर्मम हत्या
पश्चिमी चम्पारण जिलाधिकारी द्वारा आसाराम पटखौली तटबंध/स्पर का लिया गया जायजा
एक मार्च को बरबीघा टाउन हॉल में होगा कैंसर जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन
आमिर जावेद सहित दर्जनों ने ग्रहण की भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता
चीन की सेनाओं में हताहत होने वालों की संख्या हमारे देश से अधिक है: राधा मोहन सिंह
कंचन गुप्ता के चंपारण आगमन एवं पटना तैलिक सम्मेलन को लेकर बैठक संपन्न
राजधानी पटना में दिखायी जायेगी लघु फिल्म "पुर्नजन्म"
विश्व हेपेटाइटिस दिवस पर कुमार हेल्थ केयर छतौनी में नि: शुल्क जांच व टीकाकरण शिविर
द ड्रीमर की ओर से आयोजित दस दिवसीय एक्टिंग एंड पर्सनालिटी वर्कशॉप संपन्न
पकड़ीदयाल में किसान के खेत से निकली भगवान की मूर्ति, ग्रामीणों ने मूर्ति को अपने कब्जे में लेकर की प...
उप विकास आयुक्त ने जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना।
हनुमान जी दलित थे यह उतना प्रासंगिक नहीं है जितना कि उनका समाज के प्रति निस्वार्थ सेवक होना।
पूर्व राष्ट्रपति के देहांत पर सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा

  • 7
    Shares

Leave a Reply