चुनाव 2019 का रण……….

बिहार बेतिया मोतिहारी राजनीति शिवहर सम्पादकीय स्पेशल न्यूज़
  • 16
    Shares

NTC NEWS MEDIA

                जब मुंगेर में कंचन कुमारी गुप्ता, राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष , राष्ट्रीय तेली साहू महासंगठन का शानदार स्वागत एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमे तेली साहू संगठन के प्रदेश अध्यक्ष,शम्भू शरण प्रसाद, महासचिव राजा गुप्ता एवं प्रदेश छात्र अध्यक्ष, सौरभ गुप्ता शामिल हुए। उस समय कई प्रश्न लोगों के जीवन में उठने लगे एवं कुछ दृश्य कई उत्तर स्वतः दे गए।
                  मालूम हो कि कंचन कुमारी गुप्ता के चंपारण स्थित भीतीहरवा आश्रम आने एवं गांधीजी का आशीर्वाद लेने के पश्चात लोकप्रियता में बेतहाशा वृद्धि हुई है। यही कारण है कि कंचन कुमारी गुप्ता बिहार के तेली साहू समाज के सभी संगठनों सहित वैश्यों में अपनी विशेष पहचान बनाने में कामयाब हुई है।
अब उनमें बिहार का तेली एवं वैश्य समाज अपना भविष्य के नेता के रूप में बड़ी ही आशान्वित दृष्टि से देख रहा है। इस परिस्थिति में यदि सरकार चुनाव में कंचन कुमारी गुप्ता को कहीं से भी चाहे मुंगेर अथवा शिवहर से टिकट दे देती है तो बिहार का एक बहुत बड़ा पिछड़ा वोट बैंक जिसको स्वभावतः भाजपा का वोट बैंक कहा जाता है,खिसक कर नीतीश खेमे में आ जाएगा।
किंतु देखने वाली बात यह होगी की नीतीश के सिपहसालार उनकी इस लोकप्रियता को किस रूप में भुना पाते हैं। क्योंकि कंचन कुमारी गुप्ता विगत 18 वर्ष से राजनीति में सक्रिय है एवं तन मन धन से जनता दल यूनाइटेड के साथ वर्षों से खड़ी हैं।
भाषण की अद्भुत कला कौशल से युक्त कंचन कुमारी गुप्ता समाज के हर वर्ग के दुख सुख में हमेशा से खड़ी रहती आई हैं। चाहे बेतिया के शिक्षक के गोली कांड में उनकी प्रशासनिक सहायता की बात हो अथवा अपने समाज के सामाजिक, आर्थिक, शैक्षणिक विकास के साथ साथ नारी सशक्तिकरण की बात हो हमेशा से वे बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती रही है। देखने वाली बात यह होगी कि इस चुनाव में उनकी पार्टी उनके इस ख्याति का कितना उपयोग कहां कर पाती है….???
                     लोकसभा चुनाव में मात्र 4 महीने शेष रह गए हैं विभिन्न पार्टियों के बीच सीट के बंटवारे को लेकर मान मनोबल चल रहा है एनडीए खेमे से रालोसपा पहले ही बाहर हो चुकी है नीतीश कुमार की पार्टी भी भाजपा खेमे में अब छोटे भाई की भूमिका में नहीं रहना चाहती है यही कारण है कि 17 सीटों से कम उसको कुछ भी मंजूर नहीं था रामविलास पासवान के पार्टी का भी प्रमोशन हुआ है और उन्हें लोकसभा की 6 सीटें एवं एक राज सभा की गुगली दी गई है।
                         इसमें कोई दो राय नहीं की बिहार में जातीय राजनीति अपने चरम पर है लालू यादव के सुपुत्र तेजस्वी यादव बिहार में संविधान बचाओ न्याय यात्रा के माध्यम से जनता से सीधा संवाद कर चुके हैं एवं उनकी रैलियों में उमड़ रही भीड़ कहीं ना कहीं सत्ता में बैठे नेताओं की नींद उड़ा रही है यही कारण है कि मल्हा कुशवाहा यादव मुस्लिम भूमिहार ब्राह्मण इन सब का गठजोड़ बनाने की कोशिश में तेजस्वी यादव ने कामयाबी पाई है एवं लोकसभा में तो ठीक ठीक इसका लाभ मिल पाए या कहना जल्दबाजी होगी लेकिन राज विधानसभा चुनाव में इसका व्यापक असर देखने को मिलेगा इसमें कोई दो राय नहीं है।
#Copyright@ntcnewsmedia.com

अन्य ख़बरें

राधामोहन सिंह: अनुच्छेद 370 के जरिए कश्मीर को विशेष दर्जा देना एक ऐतिहासिक भूल थी
बिहार में शराब के विरुद्ध अभियान में सीवान पुलिस की बड़ी कामयाबी
पूर्व थानाध्यक्ष अरविंद प्रसाद की विदाई एवं नए थानाध्यक्ष चंदन कुमार का सम्मान समारोह संपन्न, शहर के...
हमने अपना अटल रत्न खो दिया :नरेंद्र मोदी
तेज प्रताप यादव लेंगे तलाक..... शादी के 6 महीने भी नहीं हुए
प्रेरणा दिवस पर मधुरेन्द्र ने बिहार विभूति सीताराम सिंह को अनोखें अंदाज में किया नमन
मां दुर्गा के रूप में नजर आयेंगी भोजपुरी सुपरस्टार काजल राघवानी
आम आदमी पार्टी पूर्वी चंपारण द्वारा स्कूल एवं अस्पताल बचाओ रैली एवं मार्च का आयोजन
बाल कलाश्री पुरस्कार से सम्मानित हुए बच्चें, पटना के कालिदास रंगालय में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम
गेस्ट हाउस का हुआ उद्घाटन.....
कृभको लि द्वारा सामूहिक परिचर्चा का आयोजन
सफाईकर्मियों के चरण पखारकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया द्वापर युग को पुनर्जीवित,
चम्पारण के लाल सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र होंगे, "मगध रत्न यूथ आईकॉन अवार्ड" से पुरस्कृत
महात्मा गांधी की 150वीं जयंती को लेकर स्वच्छता अभियान में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री एवं क...
छौड़ादानौ: राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत "पोषन मेला" का आयोजन
पूर्वी चंपारण के जिला कृषि परिसर के मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति की हुई स्थापना।।
नालंदा के नंद्यावर्त में दो दिवसीय कुंडलपुर महोत्सव सम्पन्न, सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र कुमार हुए सम्मा...
कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी ने नियामक निगरानी को मजबूत बनाने के लिए समझौता
रोटरी क्लब पटना ने इन डॉक्टर्स को प्रदान किए पीपीई किट
सहकार भारती के प्रदेश कार्यकारिणी की हुई ऑनलाइन बैठक आलोक कुमार जिलाध्यक्ष तो वहीं केशव कृष्णा बने म...

  • 16
    Shares

Leave a Reply