चुनाव हारने के बाद कन्हैया कुमार ने भरी हुंकार… चुनाव हारे हैं जंग नहीं। फिर उठेंगे…लड़ेंगे…जीतेंगे

Featured Post slide खोज गाँव-किसान फोटो गैलरी बिहार बेगूसराय राजनीति राष्ट्रीय शिक्षा स्पेशल न्यूज़
  • 40
    Shares

बेगुसराय। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने बेगूसराय लोकसभा सीट से करारी हार के बाद आपने समर्थकों के आ रहे विभिन्न कॉल मैसेज का जवाब देते हुए कहा कि हम चुनाव हारे हैं जंग नहीं हारे हैं….आप सभी के हौसला अफ़ज़ाई के संदेशों के लिए तहे दिल से शुक्रिया। सभी को जवाब देना संभव नही हो पा रहा, इसलिए अपनी बात इस पोस्ट में लिख रहा हूँ। आपके संदेश पढ़कर लगा कि आपको शायद लग रहा है कि मैं उदास हूँ। ऐसा बिल्कुल नहीं है। मेरा मानना है कि
“चुनाव हारे हैं, जंग नहीं हारे हैं,झुके नहीं ज़िंदगी के लिए, सबकी ख़ुशी के लिए चलेंगे-गिरेंगे, फिर उठेंगे लड़ेंगे, जीतेंगे।”
इसी सोच की वजह से जीवन में यहाँ तक पहुँचा हूँ। भरोसा रखिए, आगे भी यही जज़्बा कायम रहेगा। मैंने हमेशा कहा है कि यह हक और लूट तथा सच और झूठ के बीच की लड़ाई है। संख्या बल में हार जाने पर भी सच हमेशा सच ही रहता है। संख्या बल में तो गैलीलियो भी हार गए थे और कॉपरनिकस भी। बाबा साहेब भी हार गए थे और इरोम शर्मिला भी। जब दुनिया में राजतंत्र का दौर था, तब लोकतंत्र के पक्ष में आवाज़ उठाने वालों का अधिकतर लोगों ने विरोध किया था। आज का सच यही है कि नफ़रतवादी ताकतें 85% लोगों को 15% लोगों का डर दिखाकर 99% लोगों को लूट रही हैं। यह सच भले ही संख्या बल में आज हार गया हो, लेकिन एक दिन लोग इसकी अहमियत ज़रूर समझेंगे।
आगे कन्हैया लिखते हैं कि चुनाव के नतीजे से जिन लोगों को निराशा हुई है उन्हें भी यह बात समझने की ज़रूरत है कि यह हार हमारी सोच की हार नहीं है। हमारा संघर्ष नफ़रत और लूट के ख़िलाफ़ है। यह हमारे उन विरोधियों के बच्चों के भी भविष्य को बेहतर बनाने का संघर्ष है जो अभी हमारी बातों से सहमत नहीं हो पा रहे हैं। आज उनकी राजनीतिक समझ कुछ और है लेकिन अगर हम उनसे संवाद बनाए रखें तो एक न एक दिन उन्हें हमारी बातें ज़रूर समझ में आएँगी।
अतीत की याद दिलाते हुए  कन्हैया कुमार कहते हैं कि एक दौर था जब रंगभेद, दासप्रथा आदि को समाज के बड़े तबके का समर्थन हासिल था। जिन देशों में कानूनी तौर पर रंगभेद, दासप्रथा आदि को मान्यता मिली थी, वहाँ भी जनता के आंदोलनों ने सच को सच और झूठ को झूठ साबित करके दिखाया। कोई बात सिर्फ़ इसलिए सही नहीं साबित हो जाती कि उसे एक बड़े तबके का समर्थन हासिल है। नफ़रत और हिंसा को देशप्रेम साबित करने की कोशिश के पीछे बाजार और सत्ता के गठजोड़ की असलियत आज बहुत मज़बूत प्रचार तंत्र के कारण बहुत बड़ी आबादी के सामने नहीं आ पा रही है। लेकिन अरबों रुपये खर्च करके फ़र्ज़ी महानता की जो तस्वीर जनता के सामने रखी गई है, उसके रंग बहुत जल्द सच्चाई की गर्मी से पिघल जाएँगे। हम सबको तब तक अपना हौसला और जज़्बा बनाए रखना है और अपने विरोधियों के साथ संवाद को कायम रखते हुए जन-हित के मुद्दों पर अपनी आवाज़ बुलंद करनी है।
श्री कुमार ने विभिन्न प्रेरक प्रसंगों का सहारा लेते हुए अपने समर्थकों  से कहते हैं कि आपने जिस तरह तमाम मुश्किलों, धमकियों आदि का सामना करते हुए सच का साथ निभाया है उससे बहुतों को प्रेरणा मिली है। आपको अपनी यह भूमिका आने वाले समय में भी निभानी है। आपने उस चिड़िया की कहानी सुनी होगी जिसने जंगल में आग लगने पर चोंच में पानी भरकर आग बुझाने की कोशिश की थी। जब बाकी जानवरों ने उसका मज़ाक उड़ाया तो उसका जवाब था, “जब इतिहास लिखा जाएगा तो मेरा नाम आग बुझाने वालों में शामिल होगा और तुम लोगों का चुपचाप तमाशा देखने वालों में।”
अंत में कन्हैया अपने फॉलोअर्स को हौसला देते हुए किसी भी परिस्थिति में  साहस से काम लेने  एवं नहीं डरने की प्रेरणा देते हैं वह कहते हैं कि डरिए मत क्योंकि डर के आगे हार है और संघर्ष के आगे जीत। आइए, हम सब यह बात याद रखें: “पहले वे आपकी उपेक्षा करेंगे, उसके बाद आप पर हँसेंगे, फिर आपसे लड़ेंगे, लेकिन उसके बाद जीत आपकी होगी।”

कन्हैया कुमार के अन्य न्यूज़ पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए…

जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के काफिले पर हुआ हमला कई गाड़ियों के शीशे टूटे कन्हैया कुमार सुरक्षित

यूपी बिहार के लोगों पर हो रहे हमले की “कन्हैया कुमार” ने की कडे़ शब्दों में निंदा

बजरंग दल ने की, कन्हैया के कार्यक्रम को रद्द करने की मांग

Advertisements

अन्य ख़बरें

ढ़ाका के चंदनबाड़ा में तेज रफ्तार टेम्पो पल्टी , कई घायल
कोरोना संक्रमण से बचाव के प्रति पेंटिंग प्रतियोगिता में भाग लेने वाले 9 विजेताओं को कला संस्कृति मंत...
चकिया ट्रेन ब्लास्ट केस का वांछित नक्सली नवल साहनी गिरफ्तार
महागठबंधन के उम्मीदवार आकाश कुमार सिंह ने किया नामांकन, कहा चीनी मिल प्राथमिकता।
जेनिथ कामर्स एकादमी में मनाया गया मकर संक्राति का पर्व
भोजपुरी.........इ शहरी माल ह....
विधना नाच नचाबे 13 दिसंबर को कृष्णा टॉकीज में होगी प्रदर्शित
मोतिहारी विधानसभा में भाजपा को हराने के लिये रालोसपा ने कमर कस ली है: डॉ दीपक कुमार
रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक में जिला में रेलवे के कई योजनाओं की समीक्षा
द ड्रीमर की ओर से आयोजित दस दिवसीय एक्टिंग एंड पर्सनालिटी वर्कशॉप संपन्न
प्रदीप पांडे चिंटू की फिल्‍म ‘नायक’ बिहार के दर्शकों को खूब आ रही पसंद। 
प्रोजेक्ट इज्जत के तहत महिलाओं को महज ₹4 में उपलब्ध होगा सैनिटरी नैपकिन: डीएम
अपने गुरु का सदा आभारी रहूंगी .....जूनीयर मदर टेरेसा सुप्रिया भारती
घरेलु महिलाएं केक बनाना सीख पा सकती है रोजगार : सुमन
इनरव्हील क्लब ऑफ पटना ने मनाया शिक्षक दिवस
जन अधिकार पार्टी पूर्वी चंपारण ने जिला मुख्यालय पर दिया धरना
दिनेश तिवारी की फिल्‍म ‘परिवार के बाबू’ में गेस्‍ट एपीयरेंस में नजर आयेंगी भोजपुरी क्‍वीन रानी चटर्ज...
दैनिक जागरण परिवार की ओर से आयोजित कवि सम्मेलन की पूरी फोटो...यहाँ क्लिक कीजिए।
महात्मा गांधी चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी समारोह आयोजन समिति, मोतिहारी की बैठक संपन्न
Mahatma Gandhi से हुई मुलाकात

  • 40
    Shares

Leave a Reply