चर्चित नाटककार राजेश कुमार उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार के लिए चयनित

Featured Post slide खोज पटना बिहार भागलपुर राष्ट्रीय साहित्य
  • 29
    Shares

पटना। बिहार के भागलपुर शहर के मूल निवासी चर्चित नाटककार राजेश कुमार को 2014 के लिए उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने श्री कुमार को नाट्य लेखन के लिए यह पुरस्कार देने की घोषणा की है। वर्ष 2009 से 2018 तक के उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, सफदर हाशमी पुरस्कार, बीएमशाह एवं रत्न सदस्यों की घोषणा की गई है।

राजेश कुमार देश के चर्चित नाटककार है। बिहार के आरा और भागलपुर रंगमंच से वर्षो जुड़े रहने के बाद नौकरी के दौरान उत्तर प्रदेश में कई दशकों से रंगमंच से जुड़े है। उन्होंने गाय, अंबेडकर और गांधी, गांधी ने कहा था, लास्ट सैलयूट, श्राद्ध, आखिरी सलाम, अन्तिम युद्ध, घर वापसी कह रैदास खलास चमारा, पगड़ी संभाल जट्टा, तफ्तीश, हिन्दू कोड बिल सहित दर्जनों पूर्णकालिक नाटक लिखे हैं।अस्मिता थियेटर ग्रुप द्वारा अरविन्द गौड़ के निर्देशन में राजेश कुमार के दर्जनों नाटको का शो देशभर में होता रहा है। देश की अन्य नाट्य संस्थाएं भी इनके नाटको का मंचन करती रहती है। चर्चित फिल्म निर्माता महेश भट्ट के प्रोडक्शन में राजेश कुमार के कई नाटकों का मंचन हुआ है ।

कह रैदास खलास चमारा नाटक के लिए उन्हें मोहन राकेश सम्मान भी मिल चुका है। राजेश कुमार के तमाम नाटक सामाजिक एवं राजनीतिक सवालों को उठाते मिलते हैं, जो एक नई सोच पैदा करती है ।

बिहार में जन्मे राजेश कुमार ने नाट्य दुनिया में प्रवेश 1976 में नुक्कड़ नाटक आंदोलन से की थी। आरा की नाट्य संस्था “युवानीति”, भागलपुर की “दिशा “ शाहजहाँपुर की नाट्य संस्था “अभिव्यक्ति” के संस्थापक सदस्य रहे हैं। उत्तर प्रदेश के बिजली विभाग में पेशे से ईन्जीनियर रहे राजेश कुमार इन दिनों लखनऊ के रंगमंच में सक्रीय है।

उनके चर्चित नुक्कड़ नाटकों में जिन्दाबाद- मुर्दाबाद, रंगा सियार, जनतन्त्र के मुर्गे, हमे बोलने दो शामिल है वहीँ प्रकाशित पुस्तकों में मोरचा लगाता नाटक, नाटक से नुक्कड़ नाटक तक, जनतन्त्र के मुर्गे (नुक्कड़ नाटक संग्रह),घर वापसी, तफ्तीश हैं आदि प्रमुख्य है।

नाट्य लेखन के साथ साथ कहानी लेखन भी राजेश कुमार ने बखूबी किया है । धर्मयुग,सारिका जैसी प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में दर्जनों कहानी भी छप चुकी है।

अन्य ख़बरें

पूर्वी चंपारण के अरविंद कुमार ठाकुर बने भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी, लोगों ने दी बधाईयां
कृत्रिम अंग पाकर खिल उठे चेहरे, मानो उनके राकेश भैया ने दिया हो दीपावली का तोहफा।
पूर्व कृषि मंत्री ने किया दो दिवसीय "फिश हार्वेस्टिंग मेला" का उद्घाटन,
जातिवाद और महिला उत्पीड़न की गाथा है भोजपुरी फिल्म "छेका"
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली को लेकर बिट्टू यादव के नेतृत्व में पीपरा विधानसभा में हुई जनसंपर्क बैठक...
भारत निर्वाचन आयोग के उपायुक्त ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा चुनाव तैयारियों की जिलाबार समीक्षा 
शिक्षा विभाग ने आयोजित की लोकनृत्य व नाटिका प्रतियोगिता
मुखिया पति हत्या मामले में पीड़ित परिवार से मिले रणविजय साहू, प्रशासन से की परिवार को सुरक्षा देने क...
सहकारिता का आंदोलन बेरोजगारी की समस्या को दूर करने में सक्षम-सतीश मराठी
शिविर लगाकर 117 दिव्यांगों का हुआ रजिस्ट्रेशन: डॉक्टर लाल बाबू प्रसाद
LND, SNS एवं MS College की NSS टीम ने संयुक्त रूप से की बापूधाम रेलवे स्टेशन की सफाई
आपदा को अवसर में बदलना ही समय की मांग: जिलाधिकारी
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान पूर्व कृषि मंत्री ने lockdown, आइसोलेशन सेंटर, मजदूरों की घर वापसी, रे...
केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए भिक्षाटन करते केशव कृष्णा एवं अन्य
अनीश राना बने मिस्टर और मुस्कान के सिर सजा मिस पर्सनालिटी का खिताब
नहीं रहे मुजफ्फरपुर के प्रखर समाजसेवी सुखदेव प्रसाद, पटना में ईलाज के दौरान ली अंतिम सांस।
लखौरा-मोतिहारी मुख्य पथ पर पुल ना बनने के लिए सरकार एवं जनप्रतिनिधि जिम्मेदार: डॉ दीपक कुमार
CPIM राज्य सचिव कामरेड अवधेश कुमार ने पारकिंसन बीमारी से पीड़ित कविवर रामेश्वर प्रशान्त से मुलाकात क...
ब्रैवो फाउंडेशन के CMD राकेश पांडे ने निभाया अपना वादा, सदर हॉस्पिटल को 10 हजार एवं पुलिस अधीक्षक का...
जोरू का गुलाम में प्रवीण सप्पू के अदायगी से मंत्रमुग्ध हुये दर्शक

  • 29
    Shares

Leave a Reply