रंग लाता दिख रहा है ‘सुशील कुमार’ का “गौरैया संरक्षण अभियान”

Featured Post खोज फोटो गैलरी बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राष्ट्रीय स्पेशल न्यूज़



गौरैया को बचाने के लिए करोड़पति सुशील कुमार का प्रयास रंग लाता दिख रहा है। इस अभियान के तहत उनके द्वारा लगभग 3000 घोंसला अपने जिले में लगाया गया है। विलुप्त हो रही गौरैया आज फिर से आंगन में चहचहाने होने लगी है…


मोतिहारीनकुल कुमार
Tuesday / 21-12-2021
मोतिहारी। “कौन बनेगा करोड़पति” सीजन 5 के विजेता करोड़पति सुशील कुमार 5 करोड़ रुपये जीतने के बाद जितने पॉपुलर नहीं हुए। उससे ज्यादा प्रसिद्धि उनके द्वारा पर्यावरण एवं पक्षियों को बचाने की दिशा में उठाए गए कदम से मिल रही है।
केबीसी सीजन 5 जीतने के बाद भी सुशील कुमार ने अपने जमीनी जुड़ाव को नहीं छोड़ा। उन्होंने चंपारण की पहचान चंपा के पौधे को “चंपा से चंपारण” अभियान के तहत पूरे चंपारण में घूम-घूम कर हर दरवाजे पर लगाने लगे।
आज पूरे चंपारण में जितने लोगों के दरवाजे पर चंपा के पौधे लगे हैं उनमें से अधिकांश पौधे सुशील कुमार के द्वारा ही लगाए गए हैं। इतना ही नहीं सुशील कुमार के द्वारा चलाए गए इस अभियान के पहले अधिकांश लोगों ने चंपा का नाम तो सुना था लेकिन पौधे को नहीं देखा था। इस संदर्भ में सुशील कुमार कहते हैं कि अब तक लगभग 70 से 80 हजार चंपा के पौधे लगाए गए हैं। उनमें से अधिकांश पौधे में फूल आने लगे हैं।
चंपा से चंपारण एवं गौरैया संरक्षण अभियान की सफलता पर करोड़पति सुशील कुमार कहते हैं कि… चंपा का पौधा हमारे चंपारण की पहचान है क्योंकि चंपा के अरण्य से ही चम्पारण नाम पड़ा है। अर्थात पहले यहां चंपा का जंगल हुआ करता था लेकिन बदलते वक्त के साथ यह विलुप्त हो गया था।
वो कहते हैं कि मेरा सौभाग्य है कि मैं अपने चंपारण की पहचान, चंपा के पौधे को घर-घर तक पहुंचा पाया, लोगों को चम्पारण के गौरवशाली अतीत के सुनहरे अध्याय को याद दिलाकर भावनात्मक रूप से जोड़ने में कामयाब रहा।
वो कहते हैं कि आज जब “गौरैया संरक्षण अभियान” के तहत गौरैया का घोंसला लगाने जाता हूं और चंपा के बड़े-बड़े पेड़ों को देखता हूं, उनमें लगे हुए फूल एवं उसकी सुगंध को महसूस करता हूं तो लगता है कि जिस कल के लिए मैंने मेहनत की थी वह सार्थक गया। इतना ही नहीं वे वर्तमान पीढ़ी एवं भावी पीढ़ी से इस अभियान को आगे बढ़ाने की उम्मीद भी करतें है।

करोड़पति सुशील कुमार का अभियान यहीं नहीं रुका। उन्होंने विलुप्त हो रही गौरैया के संरक्षण की दिशा में काम करना शुरू किया एवं “गौरैया संरक्षण अभियान” चलाया। इसके तहत वो घर-घर जाकर गौरैया का घोंसला लगाने लगे। जिसका सार्थक परिणाम यह हुआ कि जिन जगहों पर गौरैया विलुप्त सी हो गई थी, वहाँ भी उसकी चहचहाहट(Chirping) लौट आई हैं । इस संदर्भ में सुशील कुमार कहते हैं कि अब तक 3000 गौरैया का घोंसला लगाया जा चुका है एवं यह अभियान अभी भी जारी है।
मालूम हो कि आजकल इसी अभियान के तहत सुशील कुमार विद्यालयों में जाकर बच्चों को जागरूक कर रहे हैं ताकि इस अभियान को व्यापकता मिल सके एवं देश के कर्णधार बच्चों में इसके संरक्षण के प्रति संवेदनशीलता जागृत हो पाए।
गौरैया संरक्षण अभियान की शुरुआत करने का आईडिया सुशील कुमार को कहां से आया इस पर करोड़पति सुशील कुमार कहते हैं कि जब मैं चंपा के पौधों को लगाने के लिए घर-घर जाता था तो ग्रामीण क्षेत्रों में गौरैया और उसकी चहचहाहट तो सुनाई देती थी किंतु शहरी क्षेत्रों में गौरैया एकाएक विलुप्त सी हो गई थी। मैंने सोचा क्योंना गौरैया को फिर से शहरी परिवेश में लाया जाए और फिर मैंने इसके लिए प्रयास शुरू किया और लकड़ी का घोंसला घर-घर लगाना शुरू किया। चाहे शहर हो अथवा गांव सभी जब हम पर घोंसला लगाने का कार्य आज भी जारी है।
वे कहते हैं कि जिन लोगों के घरों में गौरैया का घोंसला लगाया गया था जब उन घरों में गौरैया रहने के लिए आने लगी और लोग फोटो खींच कर इसकी पुष्टि करने लगे तो लगता है कि मैंने जिस गौरैया को बचाने का प्रयास किया था मेरा वह प्रयास सार्थक हो गया।
पाठक बंधुओं कौन बनेगा करोड़पति से करोड़ों रुपए जीतकर तो बहुत लोग गए हैं लेकिन जमीन से जुड़कर पर्यावरण एवं जीव संरक्षण के क्षेत्र में करोड़पति सुशील कुमार ने जो मुकाम हासिल किया है वहां तक विरले ही पहुंचें हैं। इतना ही नहीं देखा जाए तो सही मायने में सुशील कुमार को वास्तविक ख्याति 5 करोड़ रुपया जीतने से नहीं मिली उतना चंपा से चंपारण एवं गौरैया संरक्षण अभियान से मिली है एवं मिल रही है।

अन्य न्यूज :- 

करोड़पति सुशील कुमार ने घोंसला भेंट करके की पंक्षी संरक्षण अभियान की शुरुआत

Advertisements

करोड़पति सुशील कुमार ने सदर हॉस्पिटल मोतिहारी में लगाया चंपा का पौधा…

अन्य ख़बरें

राज्य आयुक्त नि:शकत्ता की अध्यक्षता में बैठक संपन्न, दिव्यांग जनों के परिवाद की सुनवाई हेतु 20 सितंब...
बिहार की 11 बेटियों को मिला कंचन रत्न सम्मान
सिपाही बहाली घोटाले की हो सीबीआई जांच: "आम आदमी पार्टी"
पुलिस का आम जनता के प्रति अच्छे व्यवहार के मिसाल बने तुरकौलिया थानाध्यक्ष नवनीत कुमार
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष में सेवा सप्ताह के तहत रक्तदान शिविर का आयोजन
संविधान बचाओ न्याय यात्रा...RJD
प्रोफेसर संजय कुमार के साथ हुई हाथापाई पर क्या कहते हैं मोतिहारी शहर के प्रसिद्ध कवि प्रसाद रत्नेश्व...
Covid Update : In India 1,92,581 beneficiaries have been vaccinated today
बिहार के कलाकारों को राज्‍य सरकार देगी प्रोत्‍साहन राशि, बनाने होंगे 15- 20 मिनट के वीडियो
भारत भी कृषि आय बढ़ाने के लिए कृत्रिम इंटेलिजेंस का लाभ उठाए: उपराष्ट्रपति
खुले में शौच से मुक्ति जरूरी: रमण कुमार
भक्तों ने लगाई आस्था की डुबकी... भगवान श्री कृष्ण का छठीयार सम्पन्न
तीसरी आंख : नगर थाना में सीसीटीवी कैमरा मॉनिटरिंग केन्द्र का शुभारंभ
24 जनवरी को मानव कतार लगायेगी रालोसपा
बाढ़ प्रभावित गांवों में शीघ्र सामुदायिक रसोई केंद्र प्रारंभ करने का निर्णय
पौधा वाले गुरु जी के नेतृत्व में हुआ वृक्षारोपण दीया पर्यावरण संरक्षण का संदेश
बिभा कुमारी के संग परिणय सूत्र में बंधे पीआरओ संजय भूषण पटियाला, पप्‍पू यादव समेत भोजीवुड ने दी बधाई
कांग्रेस का धरना प्रदर्शन आज... पूर्व केंद्रीय मंत्री सह राज्यसभा सदस्य डा.अखिलेश सिंह होंगे शामिल
स्व.ललित नारायण दुबे की प्रतिमा का हुआ अनावरण, BRABU, MGCU के कुलपति सहित विभिन्न क्षेत्रों के विद्व...
रिटायर्ड कर्मी से दिन-दहाडे़ 20 हजार की लूट...घटना बलुआ चौक की

Leave a Reply