गैर सरकारी संस्था और सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बनायी ब्रजेश वर्मा ने

Featured Post slide छपरा बिहार मनोरंजन राजनीति स्पेशल न्यूज़

पटना। गैरसरकारी संस्थान से अपनी कैरियर की शुरुआत करने वाले ब्रजेश वर्मा आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं।ब्रजेश वर्मा एक सामाजिक कार्यकर्ता, कला एवं खेल जगत के परिचायक बन चुके हैं। बिहार के सारण जिले के छपरा में
जन्में ब्रजेश वर्मा, के दादा स्व.श्री हरिहर प्रसाद प्रसिद्ध समाजसेवी थे जिनकी छपरा मे कई समाजसेवी संस्थाए थी।
वह समाज के गरीबों और अंधा स्कूल के संस्थापक एवं मुख्य संचालक भी रहे जो सेवा सदन के नाम संस्था चलाते थे। वह श्री बिपिन बिहारी वर्मा जी( सहकारिता प्रसार पदाधिकारी)
एवं माता (स्व) श्रीमती वीणा वर्मा जी के छोटे सुपुत्र हैं।माता- पिता का सपना था कि उनका लाडला सरकारी नौकरी में जाए जबकि ब्रजेश जी का सपना सरकारी नौकरी में आइपीएस बनने का था।
उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत छपरा से की। उन्होंने पटना के कालेज आफ कामर्स से स्नातकोत्तर (समाजशास्त्र) की उपाधि प्राप्त की। पढ़ाई पूरी करने के बाद श्री वर्मा निजी संस्था में अधिकारी के तौर पर नियुक्त हुए जहाँ उन्होंने करीब 26 साल तक सेवा की और उच्चतम अधिकारी के पदों का निर्वाह किया। निजी संस्था में रहकर उन्होंने समाज के गरीब, मजबूर, अनाथ और जरूरतमंदो की सेवा निस्वार्थ भाव से की जो आज भी अनवरत जारी है। बाद में उन्होंने नौकरी छोड़कर अपने को समाजिक कार्यों को अपने जीवन का मिशन बनाया और अपनाया। निजी संस्था मे रहते हुए उन्हें इनके समाजिक कार्यों और संस्था मे उल्लेखनीय कार्यों के लिए कई बार सम्मानित किया गया जिसमें मुख्य रूप से सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के हाथों सम्मान प्राप्त करना उल्लेखनीय था।इसके साथ उन्हें दिल्ली के सांसद भवन अवस्थित constructional हॉल में पूर्व वित्त मंत्री श्री यसवंत सिन्हा
(भारत सरकार) एवं सुप्रसिद्ध सिने स्टार श्री शत्रुघन सिन्हा एम सांसद राजीव प्रताप रूडी के साथ समाज सेवा के संदर्भ में CD बिमोचन का भी अवसर मिला। जिसे काफी सराहा गया।
 ब्रजेश वर्मा ने कला संस्कृति और खेलकूद में भी रूचि रखते हैं। वर्ष 2018 में उन्होंने शार्ट फिल्म ‘लाडली केकरा इहा जाई’ में काम किया जिसे काफी सराहा गया0इसके बाद
उन्होंने बाला साहब प्रोडक्शन के तहत ‘ जुर्म की जंजीर ‘ में काम किया जिसमें मशहूर कलाकार गोपाल राय, खलनायक अयाज खान और अभिनेत्री रूपा सिंह थी। इस फिल्म में भी श्री वर्मा की भूमिका अद्वितीय इनकी आने वाली फिल्म प्रमुख रूप से उडनतस्तरी और ‘ हमरा कसम बा चम्पारण के’ है ।
श्री वर्मा वर्ष 2012 में स्वयं सेवी संस्था श्यामा फाउंडेशन एवं 2017 में बिहार पॉजिटिव से जुडकर कला,शिक्षा और खेल जगत के क्षेत्र में उल्लेखनीय एवं सराहनीय कार्य कर रहे हैं। वह आगामी बिहार विधानसभा के चुनाव के लिए अपने को तैयार कर रहे हैं क्योंकि इनका सपना है कि संवेधानिक पद वह आसीन होकर वह समाज के लिए कुछ विशेष करें । उनका नारा है “करो बिधानसभा की तैयारी आ रहा ब्रजेश बिहारी”

अन्य ख़बरें

72वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर मोतिहारी के ऐतिहासिक गांधी मैदान में जिलाधिकारी ने किया झंडोत्तोलन
राहुल और कृपा बनीं मिस्टर एंड मिस पटना शाइनिंग आइकॉन
29 नवंबर की रैली को सफल बनाने के लिए बैठक संपन्न, जनसंख्या के अनुसार सत्ता में भागीदारी चाहिए: चंद्र...
पूर्वी चंपारण जिलाधिकारी ने किया जॉर्ज ऑरवेल जन्मस्थली, सत्याग्रह पार्क का निरीक्षण
हॉस्पिटल में तैयारी पूरी, पर्याप्त मात्रा में है दवाइयां एवं ऑक्सीजन: जिलाधिकारी
हम बदलेंगे बिहार के तहत सीतामढ़ी पहुंचे प्रादेशिक अध्यक्ष, वार्ड स्तर पर शुरु होगा ऑक्सीमीटर सेंटर
MCOC कार्यकारिणी बैठक मैं व्यवसायियों की समस्या दूर करने एवं वोट प्रतिशत बढ़ाने पर चर्चा
विश्व हेपेटाइटिस दिवस पर कुमार हेल्थ केयर छतौनी में नि: शुल्क जांच व टीकाकरण शिविर
जिलाधिकारी ने योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने का दिया निर्देश
बाल कलाश्री पुरस्कार से सम्मानित हुए बच्चें, पटना के कालिदास रंगालय में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम
NRC एवं CAA के समर्थन में निकलने वाली रैली को लेकर बजरंग दल ने किया डोर टू डोर जनसंपर्क
भारत लीडरशिप फेस्टिवल में सम्मानित होंगे चंपारण के आदित्य
राजधानी पटना के हूट रेस्टोरेंट में परफार्म करेंगे श्लोका
नए किसान बिल से देश की खाद्य सुरक्षा पर पड़ेगा बड़ा असर: बीरेंद्र कुमार जालान
अपनी दमदार प्रस्तुति के बल पर संगीत के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी है प्रिया राज
चकिया: छात्रों की सहायता के लिए ABVP ने विवि परिसर में लगाया हेल्प डेस्क ।
भारत लीडरशीप ऑवार्ड से सम्मानित हुए, एक्टर सुनिल कुमार ।
भोजपुरी सिंगर दीपक दिलदार पड़ गए तीन - तीन एक्‍ट्रेस के 'लव के चक्‍कर में'
रेडक्रास परिणाम : समाजसेवी चारों खाने चित। विभिन्न पैनल के अधिकतम सदस्य हारे।।
अर्थपूर्ण सिनेमा बनाना चाहते हैं अमित पॉल

Leave a Reply