गैर सरकारी संस्था और सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बनायी ब्रजेश वर्मा ने

Featured Post slide छपरा बिहार मनोरंजन राजनीति स्पेशल न्यूज़

पटना। गैरसरकारी संस्थान से अपनी कैरियर की शुरुआत करने वाले ब्रजेश वर्मा आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं।ब्रजेश वर्मा एक सामाजिक कार्यकर्ता, कला एवं खेल जगत के परिचायक बन चुके हैं। बिहार के सारण जिले के छपरा में
जन्में ब्रजेश वर्मा, के दादा स्व.श्री हरिहर प्रसाद प्रसिद्ध समाजसेवी थे जिनकी छपरा मे कई समाजसेवी संस्थाए थी।
वह समाज के गरीबों और अंधा स्कूल के संस्थापक एवं मुख्य संचालक भी रहे जो सेवा सदन के नाम संस्था चलाते थे। वह श्री बिपिन बिहारी वर्मा जी( सहकारिता प्रसार पदाधिकारी)
एवं माता (स्व) श्रीमती वीणा वर्मा जी के छोटे सुपुत्र हैं।माता- पिता का सपना था कि उनका लाडला सरकारी नौकरी में जाए जबकि ब्रजेश जी का सपना सरकारी नौकरी में आइपीएस बनने का था।
उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत छपरा से की। उन्होंने पटना के कालेज आफ कामर्स से स्नातकोत्तर (समाजशास्त्र) की उपाधि प्राप्त की। पढ़ाई पूरी करने के बाद श्री वर्मा निजी संस्था में अधिकारी के तौर पर नियुक्त हुए जहाँ उन्होंने करीब 26 साल तक सेवा की और उच्चतम अधिकारी के पदों का निर्वाह किया। निजी संस्था में रहकर उन्होंने समाज के गरीब, मजबूर, अनाथ और जरूरतमंदो की सेवा निस्वार्थ भाव से की जो आज भी अनवरत जारी है। बाद में उन्होंने नौकरी छोड़कर अपने को समाजिक कार्यों को अपने जीवन का मिशन बनाया और अपनाया। निजी संस्था मे रहते हुए उन्हें इनके समाजिक कार्यों और संस्था मे उल्लेखनीय कार्यों के लिए कई बार सम्मानित किया गया जिसमें मुख्य रूप से सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के हाथों सम्मान प्राप्त करना उल्लेखनीय था।इसके साथ उन्हें दिल्ली के सांसद भवन अवस्थित constructional हॉल में पूर्व वित्त मंत्री श्री यसवंत सिन्हा
(भारत सरकार) एवं सुप्रसिद्ध सिने स्टार श्री शत्रुघन सिन्हा एम सांसद राजीव प्रताप रूडी के साथ समाज सेवा के संदर्भ में CD बिमोचन का भी अवसर मिला। जिसे काफी सराहा गया।
 ब्रजेश वर्मा ने कला संस्कृति और खेलकूद में भी रूचि रखते हैं। वर्ष 2018 में उन्होंने शार्ट फिल्म ‘लाडली केकरा इहा जाई’ में काम किया जिसे काफी सराहा गया0इसके बाद
उन्होंने बाला साहब प्रोडक्शन के तहत ‘ जुर्म की जंजीर ‘ में काम किया जिसमें मशहूर कलाकार गोपाल राय, खलनायक अयाज खान और अभिनेत्री रूपा सिंह थी। इस फिल्म में भी श्री वर्मा की भूमिका अद्वितीय इनकी आने वाली फिल्म प्रमुख रूप से उडनतस्तरी और ‘ हमरा कसम बा चम्पारण के’ है ।
श्री वर्मा वर्ष 2012 में स्वयं सेवी संस्था श्यामा फाउंडेशन एवं 2017 में बिहार पॉजिटिव से जुडकर कला,शिक्षा और खेल जगत के क्षेत्र में उल्लेखनीय एवं सराहनीय कार्य कर रहे हैं। वह आगामी बिहार विधानसभा के चुनाव के लिए अपने को तैयार कर रहे हैं क्योंकि इनका सपना है कि संवेधानिक पद वह आसीन होकर वह समाज के लिए कुछ विशेष करें । उनका नारा है “करो बिधानसभा की तैयारी आ रहा ब्रजेश बिहारी”

अन्य ख़बरें

समाज में राजनीतिक चेतना बढ़ाने के उद्देश्य से हुआ जनसंवाद कार्यक्रम
शिक्षकों के योगदान का सम्मान जरूरी:ASP H.S.Gaurav
ब्रावो फाऊंडेशन ने साइक्लिंग संघ को दी माउंटेन साइकिल, नियमित अभ्यास कर सकेंगे साईक्लिस्ट
आज से भाजपा चलाऐगी "कमल ज्योति संकल्प" जनसंपर्क अभियान। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास ऐजेंडा से...
जेएनयू के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के काफिले पर हुआ हमला कई गाड़ियों के शीशे टूटे कन्हैया कुमार स...
मसहूर किसान नेता ध्रुव त्रिवेदी ने दी अटल जी को श्रद्धांजलि
भाजपा बिहार प्रदेश के व्यापार प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त हुए बबलू गुप्ता, शुभचिंतकों से मिलने...
sand artist madhurendra Kumar Congratulate to Wing Commander Abhinandan
इस बार BiggBoss शो में आम जनता की इंद्री नही। Tiktok, Facebook कलाकारों को मिल सकता है मौका: दीपक ठ...
रसीदपुर में मनरेगा के तहत बने पशु शेड का जिलाधिकारी ने किया निरीक्षण
डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को पुष्प एवं माल्यार्पण करके शिक्षक संघ ने मनाया संविधान दिवस
भाजप, वाणिज्य प्रकोष्ठ की जिला बैठक सम्पन्न, आत्मनिर्भर भारत सहित कई मुद्दों पर पर हुई बातचीत
ब्रावो फाउंडेशन का गौ संवर्धन केंद्र के लिए भूमि का चयन
मोतिहारी में डॉ आर के गुप्ता के नेतृत्व में सैकड़ों लोग वर्चुअल रैली में हुए शामिल
एनीमिया बचाव को लेकर महिला जनप्रतिनिधि द्वारा माता बैठक सम्पन्न।।
बिजनेस के साथ साथ सामाजिक क्षेत्र में खास पहचान बना चुके हैं 'विशाल गप्पू'
अत्तुनिया डिजिटल कॉर्ड से डिजिटल इंडिया का सपना होगा साकार : मंत्री डॉ. प्रेम कुमार
एनएसआई डांस एकेदमी का वार्षिक समारोह धूमधाम से मनाया गया
बजरंग दल ने की, कन्हैया के कार्यक्रम को रद्द करने की मांग
प्रदीप पांडे चिंटू की दुलहनिया बनेंगी बंगाली ब्‍यूटी मणि भट्टाचार्य

Leave a Reply