एकतरफा प्यार से………..वैराग्य की ओर

Uncategorized

पुराने जमाने में एक राजा हुए थे, भर्तृहरि। वे कवि भी थे।
उनकी पत्नी अत्यंत रूपवती थीं। भर्तृहरि ने स्त्री के
सौंदर्य और उसके बिना जीवन के सूनेपन पर 100 श्लोक
लिखे, जो श्रृंगार शतक के नाम से प्रसिद्ध हैं।
उन्हीं के राज्य में एक ब्राह्मण भी रहता था, जिसने
अपनी नि:स्वार्थ पूजा से देवता को प्रसन्न कर लिया।
देवता ने उसे वरदान के रूप में अमर फल देते हुए
कहा कि इससे आप लंबे समय तक युवा रहोगे।
ब्राह्मण ने सोचा कि भिक्षा मांग कर जीवन बिताता हूं,
मुझे लंबे समय तक जी कर क्या करना है।
हमारा राजा बहुत अच्छा है, उसे यह फल दे देता हूं। वह लंबे
समय तक जीएगा तो प्रजा भी लंबे समय तक सुखी रहेगी।
वह राजा के पास गया और उनसे सारी बात बताते हुए वह
फल उन्हें दे आया।
राजा फल पाकर प्रसन्न हो गया। फिर मन ही मन
सोचा कि यह फल मैं अपनी पत्नी को दे देता हूं। वह
ज्यादा दिन युवा रहेगी तो ज्यादा दिनों तक उसके
साहचर्य का लाभ मिलेगा। अगर मैंने फल खाया तो वह
मुझ से पहले ही मर जाएगी और उसके वियोग में मैं
भी नहीं जी सकूंगा। उसने वह फल अपनी पत्नी को दे
दिया।
लेकिन, रानी तो नगर के कोतवाल से प्यार करती थी। वह
अत्यंत सुदर्शन, हृष्ट-पुष्ट और बातूनी था। अमर फल
उसको देते हुए रानी ने कहा कि इसे खा लेना, इससे तुम
लंबी आयु प्राप्त करोगे और मुझे सदा प्रसन्न करते रहोगे।
फल ले कर कोतवाल जब महल से बाहर निकला तो सोचने
लगा कि रानी के साथ तो मुझे धन-दौलत के लिए झूठ-मूठ
ही प्रेम का नाटक करना पड़ता है। और यह फल खाकर मैं
भी क्या करूंगा। इसे मैं अपनी परम मित्र राज
नर्तकी को दे देता हूं। वह कभी मेरी कोई बात
नहीं टालती। मैं उससे प्रेम भी करता हूं। और यदि वह
सदा युवा रहेगी, तो दूसरों को भी सुख दे पाएगी। उसने वह
फल अपनी उस नर्तकी मित्र को दे दिया।
राज नर्तकी ने कोई उत्तर नहीं दिया और चुपचाप वह अमर
फल अपने पास रख लिया। कोतवाल के जाने के बाद उसने
सोचा कि कौन मूर्ख यह पाप भरा जीवन
लंबा जीना चाहेगा। हमारे देश का राजा बहुत अच्छा है,
उसे ही लंबा जीवन जीना चाहिए। यह सोच कर उसने
किसी प्रकार से राजा से मिलने का समय लिया और एकांत
में उस फल की महिमा सुना कर उसे राजा को दे दिया। और
कहा कि महाराज, आप इसे खा लेना।
राजा फल को देखते ही पहचान गया और भौंचक रह गया।
पूछताछ करने से जब पूरी बात मालूम हुई, तो उसे वैराग्य
हो गया और वह राज-पाट छोड़ कर जंगल में चला गया।
वहीं उसने वैराग्य पर 100 श्लोक लिखे जो कि वैराग्य
शतक के नाम से प्रसिद्ध हैं। यही इस संसार
की वास्तविकता है। एक व्यक्ति किसी अन्य से प्रेम
करता है और चाहता है कि वह व्यक्ति भी उसे
उतना ही प्रेम करे। परंतु विडंबना यह कि वह
दूसरा व्यक्ति किसी अन्य से प्रेम करता है।
इसका कारण यह है कि संसार व इसके सभी प्राणी अपूर्ण
हैं। सब में कुछ न कुछ कमी है। सिर्फ एक ईश्वर पूर्ण है। एक
वही है जो हर जीव से उतना ही प्रेम करता है,
जितना जीव उससे करता है। बस हमीं उसे सच्चा प्रेम
नहीं करते ।

Advertisements
contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

महादलित बस्ती में पुष्पांजलि अर्पित कर मनाई गई डॉ.अंबेडकर की जयंती, पर्यटन मंत्री सहित तमाम लोग हुए ...
प्रारब्ध
अब राह न देखो किसी और का, स्वयं से शुरूआत करो......…..
NTC CLUB MEDIA क्योंकि सच एक मुद्दा है
मदरसा इस्लामिया फैजुल उलूम, पकड़ीदयाल ने निकली मतदाता जागरूकता रैली, लोगों से भारी संख्या में मतदान क...
धुमधाम से मनाई गयी स्वामी विवेकानंद की जयंती
बिहार पॉलिटेक्निक एवं पारामेडिकल प्रवेश परीक्षा में ज्ञानपुॅज स्टडी सेंटर की धूम 
ऐ जिंदगी......... सत्येंद्र मिश्रा
"शुजा ख़ावर" की याद में
मुख्तार अंसारी के मौत की उच्चस्तरीय जांच की मांग......
राम मिलादे राधे राधे... धर्मेंद्र कुमार सिंह के साथ चित्रकूट यात्रा वृतांत
NTC NEWS MEDIA वेबसाइट के निदेशक नकुल कुमार जी को बहुत बहुत बधाई
संगम नगरी इलाहाबाद से नकुल कुमार लाइव
सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र ने बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर दुनियाँ को दिया अपने घर में सुरक्षित रहने का स...
मोतिहारी रोजगार मेला जिसमें नकुल कुमार को रोजगार नहीं मिला
भाग 02 WhatsApp ने लगाया अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश
तुम्हारा कलमकार आशिक .........…. नकुल कुमार
शिक्षा और चिकित्सा के बाद अब कला के क्षेत्र में पहचान बना रहे हैं 'मृदुल शरण', MS College मोतिहारी ए...
अब घर बैठे मोतिहारी की किसी कोने में दवा मंगाइए ऑनलाइन पढ़िए इस पूरे पोस्ट को
78 परसेंट नंबर के साथ रोहित बना स्कूल टॉपर

Leave a Reply