आसाराम जी बापू का 55 वां आत्मसाक्षात्कार दिवस धूमधाम से मनाया गया

धार्मिक ज्ञान बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल
  • 13
    Shares

NTC NEWS MEDIA

          श्री योग वेदांत सेवा समिति गोढ़वा मोतिहारी के तत्वावधान में पूज्य संत श्री आसाराम जी बापू का 55वां आत्मसाक्षात्कार दिवस मनाया गया इस साक्षात्कार दिवस समारोह में बापू के सैकड़ों साधु को नहीं सर लेकर भजन कीर्तन ध्यान एवं सत्संग का लाभ लिया।
मालूम हो कि प्रत्येक वर्ष 10 अक्टूबर को पूज्य संत श्री आसाराम जी बापू का आत्मसाक्षात्कार दिवस पूरे विश्व में उनके साधकों द्वारा बड़े आध्यात्मिक तरीके से पूर्ण भक्ति भाव से मनाया जाता है इस दिल बापू के साधक सफेद कपड़े में पवित्र तरीके से एक साथ बैठकर पहले श्वास विश्वास करते हैं फिर ओमकार मंत्र की गुंजन करते हैं और उसके बाद हरी ओम मंत्र का गुंजन करते हैं इसके साथ ही साथ सभी मिलकर आसा रामायण का पाठ करते हैं इस बीच भक्त भाव विभोर होकर नृत्य करने लगते हैं तत्पश्चात आसाराम बापू का सत्संग एवं मनन ध्यान के साथ आत्मसाक्षात्कार का कार्यक्रम संपन्न होता है।

इसी दिन बापू के साधक सुबह उठकर जब ध्यान करले एवं अपने बापू की तरह आप हिसाब से अधिकारी बनने का संकल्प लेते हैं आसाराम बापू जी कहते हैं कि शरीर का जन्म दिवस तो रोज-रोज बनाते हैं लेकिन आप साक्षात्कार करके शरीर बंधन से इंसान मुख्य हो सकता है उसके बाद शरीर का जन्मदिवस रोज रोज बनाने की आवश्यकता नहीं रह जाती है

आत्म साक्षात्कार का इतिहास:-

हमारे देश के विषयों का रिसर्च था कि मनुष्य के शरीर में सुसुक शक्तियों के साथ केंद्र होते हैं और यह सातों केंद्र उम्र के साथ प्रत्येक 7 वर्ष में विकसित होते जाते हैं कभी-कभी विलक्षण कारी पुरुषों में यह केंद्र माता के गर्भ से अथवा जन्म से ही ज्यादा विकसित होते हैं जिन पुरुषों में यह सुसुक शक्तियों के केंद्र ज्यादा विकसित होते हैं वह ज्यादा बुद्धिमान विवेकी शांति एवं आध्यात्मिक विचार के होते हैं तथा ब्रह्मचर्य निष्ठा का पालन करते हैं ।
आत्मसाक्षात्कार करने के बाद आत्मसाक्षात्कारी मनुष्य का शरीर काफी पवित्र हो जाता है एवं आत्मा ब्रह्मांड कि अच्छा है ऊर्जा से जुड़ जाती है इस ऊर्जा को है भगवती ऊर्जा या भगवान का प्रसाद आशीर्वाद आदि आदि कहते हैं। इस स्थिति में आत्मसाक्षात्कार ई पुरुष भूत भविष्य वर्तमान आदि का ज्ञाता हो जाता है संयमी विवेकी ब्रह्मचारी नियम निष्ठा का पालन करने वाला मर्यादा पुरुषोत्तम बन जाता है उसके सभी विकारों का अंत हो जाता है और विकारों के अंत हो जाने के कारण व समाज में संत नाम से जाना जाता है।

परम पूज्य संत श्री आसाराम जी बापू भी बचपन से बड़े ही आध्यात्मिक विचार के थे बचपन से ही बापू ईश्वरीय सत्ता एवं उसके चमत्कारों पर सोचते रहते थे धीरे धीरे उनकी आत्मा पवित्र होती गई एवं आज ही के दिन साबरमती के तट पर नीम के वृक्ष के नीचे माध्यम 2:30 बजे उनकी आत्मा परमात्मा से जुड़ गई एवं ढ़ाई दिवस उनको संसार का कोई होश नहीं रहा अर्थात् ढाई दिन तक उनकी आत्मा संसार से पूर्ण रूप से विरक्त हो गई।
बाद में अपने गुरु लीलाशाह जी बापू के कथन अनुसार वह समाज में घूम घूम कर अपने अलौकिक विचारों से समाज को लाभान्वित करने लगे उसके बाद से वह संत कल आने लगे और अपने ब्रह्म के ज्ञान विद्या से समाज को संसार सागर से मुक्ति के मार्ग बताने लगे विचार से दर्द लोगों के बीच हाथ निर्माण की कुंजियां बांटने लगे जिससे इनके करोड़ों भक्तों के जीवन में काफी परिवर्तन हुआ।

श्री योग वेदांत सेवा समिति मोतिहारी के सीनियर सदस्य अशोक श्रीवास्तव ने www.ntcnewsmedia.com से बातचीत करते हुए कहा कि पूज्य संत श्री आसाराम जी बापू के ज्ञान विद्या भक्ति अध्यात्म से उनके करोड़ों भक्त इतना प्रभावित हुए की सबने विसंगतियों को छोड़ दिया शराब मांस बीड़ी सिगरेट जैसे दुर्व्यसनों को उनके साधकों ने छोड़ दिया जिससे भारत में काम कर रहे हजारों ईस्ट इंडिया कंपनीओं को अरबों खरबों का घाटा हुआ यही कारण है कि इन कंपनियों ने षड्यंत्र करके हमारे पूज्य गुरुदेव हमारे पूज्य बापू को इस जाल में फंसा दिया ।
उन्होंने कहा कि आज भी हम सब बापू के भक्त हैं बापू के साधक हैं बापू सो वर्ष के बाद भी जेल से आए तो हमारी आस्था उनके प्रति वही रहेगी जो आस्था उनसे दीक्षा लेने के दिन थी उन्होंने कहा कि आज भी हम लोग रात 4:00 बजे उठकर बापू द्वारा दिए गए नियम दीक्षा को पूर्वी की तरह ही करते हैं एवं बापू के प्रति हमारी वही आस्था आज तक बनी हुई है और बनी रहेगी सरकार की नजर में भले ही हमारे बापू जेल में हो लेकिन हमारे नजर में तो बापू एकांतवास का सेवन कर रहे हैं एवं एकांतवास जाने के बाद बापू वास के दौरान एकत्रित किए गए विभिन्न विधियों से हम भक्तों को पोषित करेंगे ऐसा हमारा विश्वास है और यह विश्वास अटूट है अटल है।

अन्य ख़बरें

नहीं रहे मुजफ्फरपुर के प्रखर समाजसेवी सुखदेव प्रसाद, पटना में ईलाज के दौरान ली अंतिम सांस।
बाल कलाश्री पुरस्कार से सम्मानित हुए बच्चें, पटना के कालिदास रंगालय में सम्पन्न हुआ कार्यक्रम
गया में मगध रत्न से सम्मानित हुए, चंपारण के लाल सैंड आर्टिस्ट मधुरेन्द्र
बिहार पुलिस के जवान ने शादी कार्ड पर छपवाया कोविड-19 से संबंधित संदेश
जनसंपर्क के दौरान बोले पूर्व कृषि मंत्री आत्मनिर्भर भारत एवं बिहार के लिए गांव को भी आत्मनिर्भर बनान...
नयी दिशा परिवार ने 51 महिलाओं के लिये छठ पूजा आयोजन
वन नेशन, वन कार्ड योजना में तीन और राज्य शामिल किए गए
जनता विधायक प्रमोद कुमार को नकार चुकी है यही कारण है कि उन्हें दुत्कार रही है: डॉक्टर दीपक कुमार कुश...
अटल जी की श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह
आज से भाजपा चलाऐगी "कमल ज्योति संकल्प" जनसंपर्क अभियान। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास ऐजेंडा से...
शुक्राणुओं की संख्या में हो रही है गिरावट, निःसंतानता के 30 से 40 प्रतिशत मामलों में पुरूष जिम्मेदार
SVEEP एक्टिविटीज के तहत जिला प्रशासन पूर्वी चंपारण द्वारा क्विज एवं भाषण प्रतियोगिता आयोजित
भैया हो...दीदी हो ...12 मई को मतदान करो।
राष्ट्रीय पोषण माह के अवसर पर महिला वार्ड सदस्यों के द्वारा गर्भावस्था के दौरान पोषण के महत्व पर परि...
कल दिनांक यानी 30 सितम्बर 2019 को भी सभी विद्यालय/आंगनबाड़ी केन्द्र बंद रहेंगे
जदयु: सर्वसम्मति से परमेंद्र सिंह मीठापुर पटना सेक्टर अध्यक्ष नियुक्त
बापू की 150वीं जयंती के अवसर पर भाजपा करेगी 30 दिवसीय 'गांधी संकल्प यात्रा'।
मृतक परिवार से मिला जदयू प्रतिनिधिमंडल, पीड़ित परिवार को न्याय एवं सुरक्षा का दिलाया भरोसा
उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी से मिली "सेल्फी विद ट्री" की टीम
सामाजिक संगठनों ने दीपक जलाकर दी वीर शहीदों को श्रद्धांजलि

  • 13
    Shares

Leave a Reply