आशा है यह मंत्रिमंडल पिछली सरकारों के मुकाबले अच्छा काम करेगी: डॉ वेद प्रताप वैदिक

Featured Post slide Uncategorized खोज बिहार राजनीति राष्ट्रीय शिक्षा सम्पादकीय स्पेशल न्यूज़
  • 3
    Shares

आशा जगाए यह मंत्रिमंडल: डॉ. वेदप्रताप वैदिक

केंद्रीय मंत्रिमंडल में जिन लोगों को मंत्री बनाया गया है, उन्हें देखकर यह कहा जा सकता है कि मंत्रालयों का बंटवारा काफी ठीक-ठाक हुआ है।
गृह मंत्री अमित शाह को बनाया गया है। इस मंत्रालय को सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है, क्योंकि यही मंत्रालय देश में शांति और व्यवस्था की जिम्मेदारी लिये रहता है। इसके अलावा सभी नेताओं और अफसरों की कारस्तानियों पर नजर रखने का काम भी यही करता है। भला इस काम के लिए अमित शाह से बेहतर कौन व्यक्ति हो सकता है ?

जब तक यह मंत्रालय राजनाथ सिंह के पास था, उनकी वरिष्ठता का क्रमांक प्रधानमंत्री के बाद दूसरा था। अब इस दूसरे क्रम पर अमित भाई आ गए हैं। राजनाथ को अभी भी दूसरे नंबर पर कहा जाता रहेगा लेकिन असली न. 2 अब अमित शाह ही होंगे। अमित भाई गृहमंत्री नहीं होते तो भी उनकी हैसियत उप-प्रधानमंत्री की ही होती। एक दृष्टि से यह अच्छी बात है लेकिन इसके साथ-साथ एक बड़ा खतरा भी है। यह असंभव नहीं कि भाजपा की यह सरकार भाई-भाई सरकार बन जाए। सरकार की सारी सत्ता दो लोगों में यदि केंद्रित हो गई तो किसी भी दिन अंदरुनी बगावत भड़क सकती है। मोदी को इस मुद्दे पर सावधान रहना होगा।

राजनाथ सिंह अब रक्षामंत्री के तौर पर रफाल सौदे की रक्षा करने में जुटा दिए जाएंगे लेकिन उनके माथे काफी गंभीर जिम्मेदारी आ गई है। चीन और पाकिस्तान की चुनौतियों और आतंकवाद का सामना करने में किसी नए सामरिक कौशल का परिचय उन्हें देना होगा। वे अनुभवी, जागरुक और दूरदर्शी नेता हैं। वे रक्षा-विशेषज्ञों से सहयोग लेकर भारत को अभेद्य बना सकते हैं।

नितिन गडकरी का मंत्रालय नहीं बदला गया, यह अच्छा ही हुआ। गडकरी ने अपने मंत्रालय में चमत्कारी काम करके दिखाया।

वित्तमंत्री के रुप में निर्मला सीतारमण के कंधों पर गंभीर जिम्मेदारी आ गई है। आशा है कि वे नोटबंदी जैसे नादानी के काम दुबारा नहीं होने देंगी और ऐसा बजट पेश करेंगी, जो भारत की शिक्षा और स्वास्थ्य के मामलों में क्रांतिकारी सुधार लाने में मदद करेगा।

‘मानव संसाधन मंत्रालय’ इतना घृणित नाम है कि मोदी इसे तुरंत बदलकर ‘शिक्षा मंत्रालय’ करें। शिक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी डाॅ. रमेश निशंक को मिली हैं। वे पढ़े-लिखे और शिष्ट व्यक्ति हैं। 70 वर्षों में भारत की शिक्षा-व्यवस्था का कबाड़ा हो चुका है। भारत ने शिक्षितों के नाम पर नकलचियों की फौज खड़ी करने का काम किया है। आशा है, निशंक इस ढर्रे को बदलेंगे।

डाॅ. हर्षवर्धन स्वास्थ्य मंत्रालय में चमत्कार कर सकते हैं। ज.प्र. नड्ढा ने कई उत्तम पहल की थीं लेकिन हर्षवर्धन तो खुद डाॅक्टर हैं। भारत में डाक्टरी सबसे बड़ी लूटपाट का जरिया बन गई है। उस पर रोक लगे और भारत के गरीब से गरीब आदमी का इलाज भी आराम से हो सके, ऐसी व्यवस्था हर्षवर्धन करेंगे, ऐसी आशा है। डाॅ. हर्षवर्धन के समान जमीन से जुड़े नेता राजनीति में कम ही हैं। रेल मंत्री पीयूष गोयल और सूचना व पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी बड़े योग्य और परिश्रमी व्यक्ति हैं।

डाॅ. जयशंकर को प्रतिभाशाली छात्र और अत्यंत कर्मठ कूटनीतिज्ञ के तौर पर पिछले 50 साल से जानता रहा हूं। वे निश्चय ही विदेश मंत्रालय को नई दिशा देंगे। अन्य मंत्रालयों की नियुक्तियां भी ठीक-ठाक हैं। आशा है, यह नई सरकार पिछली सरकार के मुकाबले बेहतर काम करके दिखाएगी।

अन्य ख़बरें

अमेरिकी दादागिरी को दरकिनारा कर "आनाज के बदले तेल" शुरू करने का समय
सुख
एक आदमी के संघर्ष और सपनों की कहानी है पटना-12 : अमित पॉल
केन्द्रीय कृषि मंत्री ने किया हाई टेक बम्बू नर्सरी का निरिक्षण, 25 Sep. से किसानों के लिए होगा उपलब्...
भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर की ठुकाई, बाप बाप चिल्लाते चाइना पहुँचें इमरान
06 फिल्मों का निर्माण करेंगे सुबोध गांधी
चांद की कक्षा में पहुंचा chandrayaan-2 अगले माह 7 सितंबर को होगी लैंडिंग
चम्पारण के लाल सुनिल कविराज ने सोनी टीवी के पोरस सिरिल में बनाया पहचान ।
रक्षाबंधन:: स्वर्ग से सुंदर सपनों से न्यारा , भाई बहन का प्यार.... ABVP
सरकारी कल्याणकारी योजनाओं के समेकित जांच के उद्देश्य से निरीक्षण महाअभियान का आयोजन
बिहार नवयुवक सेना ने की CBI जांच की मांग
वैश्य समाज के सभी उप जातियों के संगठन प्रमुखो ने बैठक के पश्चात राधा मोहन सिंह के पक्ष में मतदान करन...
केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार अब हमारे बीच नहीं रहे कृतज्ञ राष्ट्र उन्हें दे रहा है भावभीनी श्रद्धांजलि
अगर आप की उम्र 60 वर्ष है तो आपको मिलेगा ₹3000 का मासिक पेंशन... पढ़िए कैसे उठाएंगे आप इस योजना का ल...
अखिलेश सिंह ने चंपारण के सभी दलों के साथ धोखा किया है: राधा मोहन सिंह
आज की अर्जुन............. श्रेयसी सिंह
कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी ने नियामक निगरानी को मजबूत बनाने के लिए समझौता
ब्रावो फार्मा के चेयरमैन राकेश पांडे डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी इन इंटरनेशनल रिलेशंस (मानद कारण) की उपाधि से ...
सारा खान और नेहा मार्दा ने रैंप पर बिखेरा जलवा
दादी ने अपने पौत्रवधू को मुँह दिखाई में दी आम का पौधा,बना रहा चर्चा का विषय।

  • 3
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *