Sunday Special में मिलिए : दाँत के डाॅक्टर, डाॅ. रजनीश कुमार शर्मा

गाँव-किसान पकड़ीदयाल बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल शिक्षा सम्पादकीय साइंस स्पेशल न्यूज़ स्वास्थ्य
  • 67
    Shares

NTC NEWS MEDIA

Nakul Kumar। मोतिहारी

दंत चिकित्सा के क्षेत्र में मोतिहारी में साईं डेंटल हॉस्पिटल का कोई जोड़ नहीं है। यदि आप दांत के किसी भी प्रॉब्लम से परेशान हैं तो एक बार साईं डेंटल हॉस्पिटल ढाका रोड (सेंट्रल बैंक के पास) संपर्क कर सकते हैं एवं कम से कम दर में दांत से संबंधित चिकित्सा सुविधाओ का लाभ ले सकते हैं।

              जहां लोग पटना, दिल्ली,मुंबई कहां-कहां नहीं जाते हैं हजारों रुपए खर्च करते हैं फिर भी दांत से संबंधित परेशानियां उनका पीछा करते रहती हैं। तो फिर सोचना क्या है…..?  क्यों ना एक बार मोतिहारी के दंत चिकित्सक डॉ रजनीश कुमार शर्मा के दांत हॉस्पिटल साईं डेंटल हॉस्पिटल में जाकर इलाज करा कर देखते हैं।

@कौन है डॉ रजनीश कुमार शर्मा….?

मूल रूप से बड़का गाँव पकड़ीदयाल के रहने वाले डॉ रजनीश कुमार शर्मा मुरादाबाद के KDCRC कॉलेज से दंत चिकित्सक की पढ़ाई की। उसके बाद उन्होंने पटना डेंटल कॉलेज जॉइन किया जहां उन्होंने दांत से संबंधित विभिन्न तरह की बीमारियां एवं उसके निदान आदि विषयों पर व्यापक स्तर पर अध्ययन किया। दंत चिकित्सा के क्षेत्र में इन्हें पहली एवं बड़ी उपलब्धि राजगीर के प्रसिद्ध हॉस्पिटल NJSM विरायतन के रूप में मिली जहां डॉ रजनीश कुमार शर्मा चीफ डेंटल सर्जन के रूप में वर्षों तक अपनी सेवा देते रहें।

@अपनी मिट्टी की खुशबू मोतिहारी खींच लाई

दंत चिकित्सा के क्षेत्र में काफी समय तक कई जगहों पर काम करने के बाद अपनी धरती की खुशबू आखिरकार डा. रजनीश कुमार को अपने शहर मोतिहारी खींच ही लाई।।

फिर डॉक्टर रजनीश ने निर्णय किया कि मोतिहारी में ही रह कर अपने क्षेत्र की जनता को बेहतर से बेहतर दंत चिकित्सा उपलब्ध कराएंगे। इन्हीं उद्देश्यों को लेकर डॉ रजनीश ने ढाका रोड मोतिहारी में आधुनिक सुविधाओ से युक्त साई डेंटल हॉस्पिटल की स्थापना की। जहा दंत चिकित्सा से संबंधित सभी तरह के इलाज आधुनिक मशीनों से किए जाते है।

हॉस्पिटल मे लेटेस्ट ऐक्सरे मशीन RVG द्वारा दांतों का ऐक्सरे किया जाता है। दांतों को RCT द्वारा बचाया जाता है। RCT यहाँ लेटेस्ट Endomotor द्वारा किया जाता है, जिससे मरीजों की RCT कम समय मे होती है और उन्हें बार बार की विजीट नही करनी परती है।

टूटे जबरे का ईलाज हो या फिर टेढ़े मेढ़े दांतो को ठीक करना हो या छोटे बच्चो के दांतों का इलाज हो। यहाँ दंत रोग से सम्बंधित सभी रोगो का ईलाज बेहतर तरीके से किया जाता है।

आधुनिक मशीनों एवं साजो सामान से युक्त आज साई डेंटल हॉस्पिटल मोतिहारी शहर में दंत चिकित्सा के क्षेत्र में एक बेहतर विकल्प के रूप में उभर रहा है। जहां कम खर्च में बेहतर दंत चिकित्सा सुविधा प्राप्त की जा सकती है ।

Advertisements

बहुत जल्द ही डॉक्टर रजनीश दाँत से संबंधित  रोगो के रोक थाम के लिए जागृति अभियान शुरु करने वाले हैं। ।।।

अन्य ख़बरें

नव नियुक्त ANM का लॉटरी सिस्टम के माध्यम से पदस्थापन किया गया
अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर, हुआ चंपा के पौधे का वितरण
मिस्टर-.मिस और मिसेज पटना का पहला ऑडिशन सीतामढ़ी में 11 अगस्त को
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा सेवा कार्य का विस्तार जिले के विभिन्न प्रखंड एवं गाँवों तक
हाँ, मैं डरपोक हूँ... "जनता कर्फ्यू" विरोधियों को डाॅ.स्वर्णिमा शर्मा का जवाब
मोतिहारी ने एक व्यक्ति को 4 बार मौका दिया लेकिन कोई विकास नहीं हो सका: उपेंद्र कुशवाहा
संत श्री आसाराम बापू आश्रम मोतिहारी द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को दी गई श्रद्धांजलि
हिंदी सेवा सम्मान से नवाजे गये लेखक, पत्रकार और हिंदी प्रेमी
केंद्रीय विश्वविद्यालय में महिलाओं के सम्मान में चला हस्ताक्षर अभियान, मानव श्रृंखला निर्माण एवं साम...
पाकिस्तान का संकल्प मोदी को हटाना, देशवासियों का संकल्प पाकिस्तान को मिटाना: कृषि मंत्री, 2 मिनट का ...
मेरी मां और मेरे बड़े भाई मेरे मार्गदर्शक रहे हैं: कवयित्री मधुबाला सिन्हा
इनरव्हील क्लब ऑफ पटना ने ग्लोबल हैंडवाशिंग डे पर चलाया जागरूकता कार्यक्रम
विनय राय ,आयुषी और अभिलाषा की जादुई आवाज से झूमे दर्शक
मुंशी सिंह कॉलेज मोतिहारी में फीट इंडिया कार्यक्रम पर हुआ वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन
चिरैया निवासी डॉ शशांक शेखर को दिल्ली एम्स ने किया सम्मानित, गांव में खुशी का माहौल
मोतिहारी में जमीन कारोबारी की दिनदहाड़े हत्या, पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी
चाँदमारी स्थित न्यूक्लियस फिजिक्स में चंपा से चंपारण कार्यक्रम के लिए करोड़पति सुशील कुमार सम्मानित।
जनवादी लेखक संघ के तत्वावधान में मुंशी प्रेमचंद्र का 139वा जन्मदिन विचार गोष्ठी करके मनाया गया।
चकिया: मिशन साहसी के तहत, लड़कियों के सेल्फ डिफेंस के कार्यक्रम का हुआ समापन
हमारे पास सबसे ऊंची मूर्ति जरूर है किन्तु इतनी बड़ी सीढ़ी नहीं है जो आगलगी में फंसे बच्चों की जान ब...

  • 67
    Shares

Leave a Reply