Shabd poem by Nakul Kumar

Uncategorized

शब्दों संग, शब्दों में
खोने लगा हूं।
आखिर मैं तेरा,
होने लगा हूं।
मेरी कविता में,
शब्दों की मोती है तू।
मेरे ख्वाबों की बाहों में,
सोती है तू।
कई शब्द, बेशब्द हुए,
अनाथ पड़े हैं।
कुछ गर्व से, कुछ
निर्लज्ज खड़े हैं ।
किसकी लज्जा मैं,
किससे छुपाऊं।
क्यों न नया,
कोई शब्द बनाऊं ।

*नकुल_कुमार “आलोचक”*
*मोतिहारी, पूर्वी चंपारण बिहार 845401*
*मोबाइल 8083686563*

Founder:-
*बचपन पढ़ाओं आन्दोलन*

Advertisements

*Cashless Education*

contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

भाभी का तात्क्षणिक प्यार..... नकुल कुमार
BDO ने बदला बकरी चराने वाली अनाथ ऊषा का जीवन
आयुष्मान भारत योजना-2018 ( By- Journalist Nakul Kumar )
मैं क्या हूं ........ऋषिकेश सारस्वत साहित्य सुमन
कुशवाहा छात्र संगठन ने निकाला आक्रोश मार्च, पीड़ित परिवार को मिले पचास लाख का मुआवजा
गौतम बुद्ध दर्द उपचार क्लिनिक मोतिहारी में दर्द के मरीजो का हुआ नि:शुल्क जांच*
बुद्ध पूर्णिमा
कवि:नकुल कुमार 08083686563
SNS कॉलेज मोतिहारी में धूम धाम मनाई गई बाबा साहब की 128 वी जयंती
Happy Birthday to you Dear Papa G
चिन्ता
शासन भ्रष्ट प्रशासन निरस्त:शिवम कुमार साह
Holi poem By Nakul Kumar
श्रद्धांजलि
शोक समाचार :जदयू नेता एवं पूर्व मंत्री कैप्टन जयनारायण निषाद का निधन
वर्षा ऋतु दिनचर्या
पकौड़ा योजना...से मोदी विरोधी होंगे पश्त.....लिंक खोलकर पूरा लेख पढ़िए.........
दलितों पर अत्याचार.......आखिर कब तक...???
रात की गहराई में........भाग-01
जुलूस निकालकर जताया विरोध

Leave a Reply