Shabd poem by Nakul Kumar

Uncategorized

शब्दों संग, शब्दों में
खोने लगा हूं।
आखिर मैं तेरा,
होने लगा हूं।
मेरी कविता में,
शब्दों की मोती है तू।
मेरे ख्वाबों की बाहों में,
सोती है तू।
कई शब्द, बेशब्द हुए,
अनाथ पड़े हैं।
कुछ गर्व से, कुछ
निर्लज्ज खड़े हैं ।
किसकी लज्जा मैं,
किससे छुपाऊं।
क्यों न नया,
कोई शब्द बनाऊं ।

*नकुल_कुमार “आलोचक”*
*मोतिहारी, पूर्वी चंपारण बिहार 845401*
*मोबाइल 8083686563*

Founder:-
*बचपन पढ़ाओं आन्दोलन*

Advertisements

*Cashless Education*

contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

कवि पथ की अनुभूति
शिक्षा और चिकित्सा के बाद अब कला के क्षेत्र में पहचान बना रहे हैं 'मृदुल शरण', MS College मोतिहारी ए...
धुमधाम से मनाई गयी स्वामी विवेकानंद की जयंती
बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने किया स्वास्थ्य शिविर का उद्घाटन
Champaran Youth conference 1 April 2017
भांजी पर थी बुरी नजर.........और फिर हुआ तेजाबकांड
रिटायर्ड कर्मचारी को अपनी कार में बैठाकर जिलाधिकारी ने पहुंचाया उसके घर
सपने होते हैं परछाई से...........पुष्पा दांगी
गांधी जयंती पर हुआ भिक्षाटन, प्राप्त राशि से गरीबों के बीच बांटी जाएगी सामग्री
सदर हॉस्पिटल मोतिहारी में 18 घंटे बाद पोस्टमार्टम
दृष्टि
मोतिहारी के पप्पू गुप्ता बने जन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश सचिव
नकुल......... बदल रही है जिंदगी।।
ग्रीन स्कूल क्लीन स्कूल के बच्चों को स्वच्छता उपकरण प्रदान किया गया
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जबरदस्ती गले मिल हंसी के पात्र बने हैं राहुल गांधी
शोक समाचार :जदयू नेता एवं पूर्व मंत्री कैप्टन जयनारायण निषाद का निधन
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में हुई आशाओं की बैठक।
...... मज़हबीकरण
राम मंदिर बनाम बाबरी मस्जिद......
रातो रात लखपति बनने का अधूरा सपना...... आप भी पढ़िए

Leave a Reply