LND College Motihari में मना विश्व एड्स दिवस। छात्रों को मिला जागरूकता ही बचाव का महामंत्र

बिहार मोतिहारी स्पेशल शिक्षा
  • 18
    Shares

NTC NEWS MEDIA

लक्ष्मी नारायण दुबे महाविद्यालय परिसर में राष्ट्रीय सेवा योजना के द्वारा विश्व एड्स दिवस पर एड्स जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।  एड्स दिवस के अवसर पर आयोजित उक्त कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुए प्राचार्य डॉक्टर अरुण कुमार ने बताया कि एड्स दिवस 1 दिसंबर को मनाया जाता है। एड्स दिवस का मुख्य लक्ष्य है लोगों में एड्स के प्रति जागरूकता फैलाना है । क्योंकि यह बीमारी दुनिया का सबसे घातक बीमारियों में से एक है । जिसका अभी मुकम्मल इलाज नहीं है । एचआईवी एक वायरस का नाम है ।जिसके कारण दुनिया का सबसे घातक बीमारी एड्स होता है । एचआईवी कोई हिंदी नाम नहीं है । एचआईवी वायरस एक मनुष्य में दूसरे मनुष्य तक रक्त एवं सीमेन के द्वारा संक्रमण करता है । इस बीमारी का जानकारी ही बचाव है।

वहीं एन.एस .एस.के कार्यक्रम पदाधिकारी प्रोफ़ेसर दुर्गेशमणि तिवारी ने बताया कि पूरे विश्व मे WHO के अनुसार 2017 के अंत में 36.9 मिलीयन लोग विश्वस्तर पर HIV के साथ रह रहे हैं जिनमें से 21.7 मिलीयन 59% लोगो को विश्वस्तर पर HIVएन्टी रेट्रो वायरल थेरेपी प्राप्त हुआ है जो कि एक बड़ी सफलता का वर्णन करती है। भारत में प्रत्येक वर्ष 1 मिलियन (दस लाख) से ज्यादा एड्स रोगी की पहचान हो रही है। जिसका आज तक संपूर्ण इलाज विकसित नहीं हुआ है।एड्स के शुरुआती लक्षण में फ़्लू जैसी लक्षण होती है बुख़ारी गले में खराश, रात में पसीना आना, थकान व वजन घटना आदि शामिल होता है । इस बीमारी के कोई ऐसे लक्षण नहीं है। जिससे आप कह सकते हैं कि वह एड्स का मरीज़ है । टेस्ट के द्वारा ही प्रमाणित हो सकता है कि वह एड्स का मरीज़ है।

HIV एक विषाणु है जिससे एड्स होता है यह खून एवं सीमेन के द्वारा एक आदमी से दूसरे आदमी में पहुंचता है । इतना ही नहीं अशुद्ध सुई यानि की सिरिंज के प्रयोग से भी यह वायरस एक आदमी से दूसरे आदमी तक पहुंच सकता है । एक्सीडेंटल केस में भी खून की आवश्यकता होती है अगर किसी व्यक्ति को अशुद्ध खून चढ़ाया जाए तो उसे भी एड्स हो सकता है ।
गर्भावस्था में पल रहा शिशु को भी एड्स हो सकता है अगर उनके माता को एड्स है । एड्स मरीज द्वारा इस्तेमाल किया गया अस्तरा या शेविंग ब्लेड के द्वारा भी संक्रमित हो सकता है।  इस कार्यक्रम में अभिसारिका,जूही,अंशिका, अपूर्वा, रविकांत पाण्डेय, अवनीश , गुलशन उत्कर्ष आदि स्वयंसेवक शामल हुए।।

Advertisements

अन्य ख़बरें

सेवा सप्ताह के अंतर्गत पूर्व केंद्रीय मंत्री ने किया स्वास्थ्य शिविर का उद्घाटन
गुरु पूर्णिमा विशेष: जीवन दर्शन-गुरु की महत्ता एवं भ्रम से वास्तविकता की ओर' विषय पर एलएनडी कॉलेज मे...
सुकृष्णा कामर्स इस्टीच्यूट ने धूमधाम से मनाया शिक्षक दिवस
हमारी सरकार पशु धन के विकास और संवर्धन के लिए कृतसंकल्पित: कृषि मंत्री
स्तनपान सप्ताह के अवसर पर महिला वार्ड सदस्यों के द्वारा परिचर्चा का आयोजन
जयंती पर याद किए गए क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद,
Sunday Special : दंत रोग विशेषज्ञ डॉ.रजनीश कुमार शर्मा से दांतों की सुरक्षा कैसे हो...? विषय पर खास...
हमारे पास सबसे ऊंची मूर्ति जरूर है किन्तु इतनी बड़ी सीढ़ी नहीं है जो आगलगी में फंसे बच्चों की जान ब...
'संविधान से समरसता' कार्यक्रम के तहत वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन
ब्रावो फार्मा को मिला भारत सरकार से covid19 किट के लिए लाइसेंस, अब 5 से 7 मिनट में पता चलेगा कोरोना ...
पार्श्वगायन के क्षेत्र में खास पहचान बना चुके हैं अमर आनंद
पकड़ीदयाल: अनुमंडल पदाधिकारी के नेतृत्व में निकली मतदाता जागरूकता बाइक रैली,
जल-जीवन-हरियाली अभियान के अन्तर्गत अधिकाधिक जन भागीदारी की आवश्यकता पर बल दिया गया
रालोसपा नेता ने किया क्षेत्र का दौरा, उठाए कई सवाल, पार्टी को मजबूत करने की अपील
लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया के लिए भी होनी चाहिए आर्थिक पैकेज की घोषणा
होम सेंटर के लिए छात्रों ने घंटों तक किया NH28 जाम। D.El.Ed के परीक्षार्थियों हुई दिक्कतें
पटना: छठ व्रतियों के बीच पूजन सामग्री का हुआ वितरण
राजेश कुमार सुमन को मिला Treeman of India अवार्ड
जिलाधिकारी ने किया बालिका गृह एवं दत्तक गृह का निरीक्षण, बच्चियों ने बांधी राखी
नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर

  • 18
    Shares

Leave a Reply