संविधान गरीब को भी राजा बनने का अधिकार देता है : मुकेश सहनी

पटना बिहार राजनीति
  • 8
    Shares

पटना 27 नवंबर। भारतीय संविधान आज 70 वर्ष का हो चुका है लेकिन संविधान दिवस मनाने की परंपरा 2015 से शुरू हुई । आखिर आज हम सब यहां हजारों लोगों की भीड़ में संविधान की परिचर्चा और बचाने की बात कर रहे हैं ऐसी जरूरत
क्यों आ पड़ी। कई ऐसे मौके आए जब संविधान की धज्जियां उड़ी, राजनीतिक दल अपने लाभ के लिए संविधान का दुरुपयोग भी किया। भारतीय संविधान की रूपरेखा जितनी सरल है उतनी वह सशक्त भी है, उक्त बातें अष्टांगिक मार्ग द्वारा आयोजित आईएमए हॉल में संविधान दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में वक्ताओं ने रखी।

कार्यक्रम का शुभारंभ बाबासाहेब के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया। विकासशील इंसान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी ने
अपने संबोधन में कहा कि बाबा साहब ने हमें जो विधान का अधिकार दिया है उसका हमें सदुपयोग करना चाहिए और इसी संविधान के बदौलत हम सब कुछ पा सकते हैं, इसी संविधान की बदौलत गरीब का बेटा भी राजा बन सकता है। संविधान के
पहले हम सबको शिक्षा का अधिकार लेना होगा वही हमें मुख्यधारा से जोड़ सकता है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए रंजीत कुमार चंद्रवंशी ने कहा कि हमारा संविधान 70 वर्ष का बूढा नहीं जवान है यह इतनी मजबूत और सशक्त है
की सत्ता और विपक्ष का संबंध ,बना रहता है। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में जिस तरीके से तख्तापलट होते हैं वह एक स्वस्थ्य लोकतंत्र और मजबूत संविधान की देन नहीं है। वहां के संविधान इतने कमजोर हैं कि कभी भी तख्तापलट हो जाते हैं। पर हमारे देश में ऐसी नौबत आज तक नहीं आई है और यह सब संभव हुआ है भारत रत्न भीमराव अंबेडकर के दूरदर्शी विचारों से। जरूरत है हम सबको संविधान में अपनी आस्था बनाए रखने की यही हमारी गीता है कुरान है बाइबिल है और गुरु ग्रंथि भी।

राष्ट्रधर्म के साथ इस ग्रंथ रूपी संविधान के प्रति हम सबको सम्मान रखना चाहिए ।यह सभ्य और संगठित जीवन शैली से जोड़ता है।

बैंककर्मी एवं कानून की छात्रा प्रेरणा केशरी ने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान समय में भारतीय संविधान हमारे भारतीय लोकतंत्र का मार्गदर्शक
बना हुआ है। विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र का यह सबसे बड़ा संविधान है। यह कार्यपालिका न्यायपालिका और विधायिका के बीच सामंजस्य बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। और संविधान के संरक्षण में न्यायपालिका इतनी मजबूती से खड़ी है ,रात को भी सर्वोच्च न्यायालय के दरवाजे खुलते हैं। जरूरत है हम सबको संविधान के प्रति जागरूकता एवं संविधान के प्रति जिम्मेदारी उठाने की।

कार्यक्रम को संबोधित करने वाले में अरुण कुशवाहा, गुड्डू बाबा महबूब आलम , प्रेम शंकर, कौशलेंद्र कुमार ,भंते सुशील पाल, डॉ हरिओम आर्य मोहम्मद जीशान वार्ड पार्षद शोभा देवी ,जयप्रकाश एवं संजीव कुमार आदि ने संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन पी के ए भारतीय ने
किया।

अष्टांगिक मार्ग के राष्ट्रीय अध्यक्ष रंजीत कुमार चंद्रवंशी द्वारा आगत सभी अतिथियों को मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया और संविधान की रक्षा
करने का संकल्प दिलाया गया।

अन्य ख़बरें

नगर अध्यक्षा अंजू देवी, शायर गुलरेज शहजाद, गोविंद सिंह एवं अन्य लोगों ने छठ व्रत पूजन सामग्री का वित...
शिक्षक को ज्ञानवान बुद्धिमान एवं चरित्रवान होना चाहिए: Dr. Hena Chandra
तेली अधिकार रैली को लेकर कंचन गुप्ता को मिल रहा है अपार जनसमर्थन,रैली SKH पटना में 29 Nov को।।
परिणय सूत्र में बँधे PRO सर्वेश कश्यप, फिल्मी गलियारों चर्चा
शुद्ध प्राणवायु एवं प्राकृतिक संतुलन के लिए वृक्षारोपण जरूरी: 'ट्रीमैन' राजेश
होली पर्व को लेकर विधि व्यवस्था के निमित्त गठित डिस्टिक कंट्रोल रूम का जिलाधिकारी रमण कुमार ने किया ...
बॉलीवुड पॉप-रॉक सिंगर कैलाश खेर ने गाया एक्‍टर रूपेश आर बाबू की भोजपुरी फिल्‍म के लिए गाना
छात्र का हिंदी दर्द ...हिंदी पर मुझे गर्व लेकिन प्रतियोगिता परीक्षाओं में अंग्रेजी को महत्व क्यों......
25 बिहार एनसीसी बटालियन के रिले साइकिल एक्सपीडिशन के तीसरे चरण को हरी झंडी दिखाकर रवाना
वट वृक्ष पूजनोत्सव के अवसर पर सभी लोग पौधा लगाएं : ट्री मैन सुजीत कुमार
पकड़ीदयाल डीएसपी दिनेश पांडे ने बच्चों को पढ़ाया शिक्षा,संस्कार एवं नैतिकता का पाठ
पटना गोलघर के प्रांगण में हुआ योगाभ्यास... पर्यटन मंत्री हुए शामिल
केंद्रीय विद्यालय मोतिहारी में हुआ "स्वच्छता ही सेवा" कार्यक्रम का आयोजन ।
वृक्षारोपण करके मनाया गया प्रधानमंत्री का जन्मदिन
ढ़ाका के चंदनबाड़ा में तेज रफ्तार टेम्पो पल्टी , कई घायल
पूर्व विधायक अजीजुल हक के निधन पर मुख्यमंत्री ने व्यक्त की गहरी शोक-संवेदना
योग के बारे में बता रहे हैं...युवा भारत पतंजलि के जिला उपाध्यक्ष ओमकार प्रकाश
राजनीति से हटकर समाज के विभिन्न वर्गों एवं कोरोना योद्धाओं की सेवा के लिए पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्र...
राज्य आयुक्त नि:शकत्ता की अध्यक्षता में बैठक संपन्न, दिव्यांग जनों के परिवाद की सुनवाई हेतु 20 सितंब...
मेरे गुरु मेरे मार्गदर्शक: रजत पाठक की कलम से

  • 8
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *