संडे स्पेशल में पढ़िए …..पटना की लोक संगीत गायिका मनीषा श्रीवास्तव की चंपारण यात्रा संस्मरण

Featured Post गाँव-किसान पटना बिहार मोतिहारी स्पेशल

नमन वंदन चंपारण की धरती को जिसने मोहनदास करमचंद गांधी को महात्मा गांधी और बापू बनाया, इस पावन धरती पर आने का और गांधीजी पर गीतों को प्रस्तुत करने अवसर मिला यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है। पहले चंपारण के बारे में, चंपारण सत्याग्रह के बारे में और गांधीजी के बारे में सिर्फ किताबों में ही पढ़े थे, आज उन सभी चीजों को साक्षात् देखकर बहुत प्रसन्नता हो रही है। उक्त बातें मशहूर गायिका मनीषा श्रीवास्तव ने NTC NEWS MEDIA के साथ साझा की।

सुश्री मनीषा ने अपनी चंपारण यात्रा का यात्रा वृतांत लिखते हुए बताती हैं कि उनके यात्रा का पहला दिन यानी कि 2 अक्टूबर को सुबह हजारीमल धर्मशाला में कार्यक्रम करने के बाद उनका काफिला भारत के प्रथम बुनियादी विद्यालय राजकीय बुनियादी विद्यालय वृंदावन आश्रम पहुंचा जहां उन्होंने अपनी प्रस्तुति दी एवं उनको यह बात जानकर अति प्रसन्नता हुई कि यह वैसा बुनियादी विद्यालय है जहां पर महात्मा गांधी एवं कस्तूरबा गांधी ने स्वयं ही पढ़ाया था इसके साथ ही साथ उन्होंने वहां पहली बार नील का पौधा देखा।

लोक गायिका मनीषा 120 दिवसीय कार्यक्रम के जिस काफिले के साथ थी वह काफिला अपनी यात्रा के दूसरे दिन पूर्वी चंपारण के चिरैया प्रखंड के मधुबनी आश्रम पहुंचा। इस आश्रम के विषय में कहा जाता है कि चम्पारण सत्याग्रह के दौरान महात्मा गांधी का प्रवास इसी आश्रम में हुआ था।

मधुबनी आश्रम के विषय में सुश्री मनीषा लिखती हैं कि ‘मैंने वहां चरखा के साथ गांधी जी की स्थापित मूर्ति को प्रणाम किया। इतना ही नहीं मैंने मैं सूत कातने का यंत्र देखा और स्वयं चलाया भी।

लगभग 20 प्रकार के गांधी जी पर आधारित गीतों को लेकर मैं गांधीजी को घर-घर गांव-गांव में खोजने निकली हूं इस संस्मरण को साझा करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रहे हैं।

कल शाम यानी 4 अक्टूबर को फेनहरा गांव स्थित कस्तूरबा गांधी विद्यालय में शाम की प्रस्तुति दी और आज यानी 5 अक्टूबर को मधुबन सेंट्रल स्कूल के बाद अब मोतीपुर में कार्यक्रम में प्रस्तुति दिया।

सुश्री मनीषा श्रीवास्तव लिखती है कि मैंने विशेष रूप से लोकगीत में गांधी के विषय में पढ़ा कि जब गांधी जी ने चंपारण सत्याग्रह किया था तो उसका सबसे बड़ा प्रभाव वहां के लोगों पर पड़ा।

जहां स्त्रियों ने लोकगीतों में गांधी को दूल्हा बनाया तो वहीं सरकार को दुल्हन। दूसरी ओर चंपारण सत्याग्रह के समय स्त्रियां अपने पतियों को जमीदारी प्रथा से मुक्त होने के लिए और श्रम रोजगार के लिए प्रेरित करती थी उस पर भी आधारित गीत मैंने प्रस्तुत किया। ….सैया बोअ ना कापास….हम चलाईव चरखा….। उसके बाद फिरंगीया गीत प्रस्तुत किए जिसमें अंग्रेजों के शासन के समय भारत के बिगड़ते हुए स्थिति को वर्णन किया। इसके आगे भी गांधीजी पर कई आयोजन अलग अलग अलग जगहों पर आयोजित किया गया है जिसमें प्रस्तुति दूंगी।

फिलहाल मैं इतना ही कहना चाहूंगी कि चंपारण की धरती पर आकर मैं धन्य हूं यहां के लोगों ने जो प्यार दिया जो मान दिया जो सम्मान दिया वह मेरे लिए बहुत अनमोल है। मैंने कभी सोचा नहीं था कि गांधी जी में मेरी इतनी रुचि कभी हो पाएगी। दिन प्रतिदिन गांधी को जानने की उत्सुकता बढ़ती ही जा रही हैं ।मैंने अपने जीवन में अब तक के सबसे बेहतर आयोजन में भाग ले रही हूं यही सोचकर मैं बहुत प्रसन्न हूँ।

अन्य ख़बरें

अग्रोहा धाम में अग्रसेन समाज की कुलदेवी माँ लक्ष्मी का भव्य मंदिर निर्माण शुरू
गैर सरकारी संस्था और सामाजिक क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बनायी ब्रजेश वर्मा ने
कोरोना की जंग में जरूरतमंद लोगों की मदद के लिये आयी कंचन सिंह
चैंबर के वार्षिक पदस्थापना समारोह में संजय जयसवाल बने अध्यक्ष तो वही हेमंत बने महासचिव
डॉ कलाम के जन्मदिवस पर आयोजित प्रेस वार्ता में गरजे प्लूरल्स पार्टी के उम्मीदवार मुन्ना कुमार, कहा व...
सदन में कानून हाथ में लेने वाले अधिकारियों पर नहीं हुई कार्रवाई तो होगा महाधरना: सहनी
एएन कॉलेज में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय महिला हिंसा उन्मूलन दिवस
उर्दू लाइब्रेरी मोतिहारी में संपन्न मुशायरा कवि सम्मेलन की कुछ झलकियां
ब्रावो फाउंडेशन के द्वारा जरूरतमंदों के बीच लगातर बाटी जा रही हैं खाद्य सामग्री
मोतिहारी में 21 जून को नरसिंह बाबा मठ में होगा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य कार्यक्रम
बिहारश्री रत्न से सम्मानित हुयी निखारिका कृष्णा अखौरी
भोजपुरी फिल्म ‘छलिया’ 18 अक्‍टूबर को होगी रिलीज, सुपर स्‍टार अरविंद अकेला कल्‍लू की हैं फिल्‍म।
पूर्व कृषि मंत्री ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए 3 प्लाई मास्क एवं कार्यालयों के...
अरेराज: इंडियन ऑयल के सामाजिक दायित्व निर्वाहन (2019-20) के तहत 100 फीट ऊंचा धरोहर ध्वज का लोकार्पण
मोदी सरकार ने चरमराती अर्थव्यवस्था को सबसे तेजी से दौड़ने वाली अर्थव्यवस्था बनाया: राधा मोहन सिंह
नागरिकता संशोधन अधिनियम-2019 पर कल्याणपुर में संवाद कार्यक्रम 
पटना: छठ व्रतियों के बीच पूजन सामग्री का हुआ वितरण
रमगढ़वा : शिक्षक सम्मान समारोह का हुआ आयोजन
मेरी बेटी श्रद्धा कपूर हैं लेडी सिंघम : शक्ति कपूर
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा सेवा कार्य का विस्तार जिले के विभिन्न प्रखंड एवं गाँवों तक

Leave a Reply