“वेलेंटाइन डे ” स्पेशल…। वैलेंटाइन डे की पार्टी पूरे शबाब पर थी और फिर…!!!

गाँव-किसान बिहार शिक्षा साहित्य स्पेशल न्यूज़

NTC NEWS MEDIA 

कभी कभी हम अपनी खुशियों में इतना मशगूल हो जाते हैं की हमें अपने घर के बुजुर्ग अथवा बीमार लोगों के होने का एहसास तक नहीं हो पाता है ।दूसरी ओर आज के पश्चिमी सभ्यता की अंधी दौड़ में संवेदना और सहानुभूति शब्द सिर्फ शब्द बनकर ही रह गए हैं। यही कारण है कि इस वैलेंटाइन डे के शोर में एक बूढ़ी मां की आवाज दबकर रह गई……. अब पूरी कहानी पढ़िए….

कमरे में उपस्थित लोग तेज संगीत पर डाँस और मस्ती कर रहे थे। रोहन और उसके दोस्तों के परिवार के साथ वैलेंटाइन डे की पार्टी पूरे शबाब पर थी ,जिसमे लिविंग रूम में हँसी ठहाकों के साथ कई तरह के लजीज व्यंजन मिठाइयाँ और ड्रिंक्स चल रहा था ।पूरे घर में लजीजदार खाने की खुशबू फैली हुई थी।इस पार्टी में खाने पीने की जबरदस्त व्यवस्था की गई थी।एक तरफ नर्म और गर्म पूरियां थीं तो दूसरी तरफ मटर पनीर की बहार थी।आलूदम और वेज मंचूरियन के स्वाद का तो कहना ही न था।खोए में लिपटी गाजर के हलवे की सोंधी सोंधी खुशबू से मुँह में पानी आ रहा था । गुलाब जामुन ऐसे लग रहे थे जैसे मुँह में डालते ही मक्ख़न की तरह पिघल जाएँ।

परंतु इस पार्टी के बीच रोहन की नौ साल की बेटी फलक बहुत उदास बैठी थी,क्योंकि इस पार्टी की तैयारियों में व्यस्त होने के कारण किसी को दादी का खाना और दवाइयों का ध्यान न था ।

जब फलक ने पापा मम्मी को दादी की याद दिलाया तो जोरों की डाँट पड़ गयी क्योंकि उन्हें शाम वाली पार्टी में कोई कमी न रहे इसकी ज्यादा चिंता थी।फलक को दादी से बेहद लगाव था ।दादी जबतक ठीक थीं उन्होंने फलक को पालने पोसने में किसी तरह की कोई कसर न छोड़ी थीं।

दादी पैरालिसिस अटैक से पीड़ित थी और सुबह से दवाइयाँ तो दूर उन्हें खाने को भी कुछ न मिला था ।वो भूख से बुरी तरह व्याकुल थीं पर किस्मत ऐसी खराब थी कि वो चाह कर भी कुछ नहीं कर सकती थीं

फलक सबसे नज़रें बचाकर अपनी दोनों मुट्ठी में थोड़ी मिठाईयाँ लेकर स्टोर रूम पहुँची जहाँ किसी तरह से दादी को एक छोटे से बेड पे एडजस्ट किया हुआ था ।

इतना बड़ा चार बड़े बड़े कमरे का घर जिसे दादा दादी ने बड़े प्यार से बनाकर रोहन को उसके विवाह में तोहफा के तौर पर दिया था परंतू दादी को रानी की तरह रखने वाले दादा के मरने के बाद उस मकान में दादी के लिए जगह न थी।जबतक दादा जिंदा थे दादी को कभी भी इतनी देर तक भूखा प्यासा नहीं छोड़ते थे और घर पर कोई भी पार्टी होती तो पहला कौर दादी को ही खिलाते थे।दादा दादी ने काफी संघर्षों से ये मकान बनवाया था।साधारण कपड़े और साधरण खान पान के साथ उन्होंने जीवन बिताया ताकि ये घर बनवा सकें।

जब भूख प्यास से कराहते हुए दादी के मुँह में फलक ने जैसे ही मिठाइयाँ डाली ,दादी को अपने वैलेंटाइन दादा की याद आ गयी जिन्होंने जीते जी कभी दादी को भूखा न रहने दिया था।

दादी के शरीर में कोई हरकत न हो रही थी पर मिठाई खाते वक़्त आँखों से लगातार आँसू बह रहे थे और फलक के लिए दुआएँ निकल रही थी

फिर अचानक दादी की गर्दन एक तरफ लुढक गयी और वो अपना वैलेंटाइन डे मानाने दादा के पास चली गयी जो उनका इंतज़ार काफी पहले से कर रहे थे ।

दादी माँ को मरा देख फलक की चीख वहाँ बज रहे तेज संगीत में दब कर रह गयी…….

Written By –

संजीव कुमार ,CEO next Generation Computer Pvt. Patna 

 

Advertisements

अन्य ख़बरें

स्वर्गीय अटल जी की मासिक पुण्यतिथि पर हुआ काव्यांजलि का आयोजन
कंचन गुप्ता के चंपारण आगमन एवं पटना तैलिक सम्मेलन को लेकर बैठक संपन्न
झूठा आश्वासन देकर नीतीश कुमार सत्ता में बने हुए हैं: डॉ दीपक कुमार (रालोसपा)
ताकत एवं पैसे के बल पर चुनाव जीतने वाले बाहुबली नेता लोकतंत्र के लिए खतरा हैं : प्रोफेसर दुर्गेशमणि ...
सेवा सप्ताह के अंतर्गत सदर हॉस्पिटल मोतिहारी में स्वच्छता अभियान चलाया गया
मिशन "प्रयास" के तहत UPSC एवं BPSC की तैयारी कर रहे छात्र-छात्राओं के लिए कार्यशाला आयोजित
सभी मान्यता प्राप्त दलों के साथ जिला निर्वाचन पदाधिकारी पूर्वी चंपारण ने की बैठक
विश्व हेपेटाइटिस दिवस पर कुमार हेल्थ केयर छतौनी में नि: शुल्क जांच व टीकाकरण शिविर
बेटियों के सम्मान में चांदमारी में कोचिंग-ट्यूशन बंद, बेटा बचाओ आंदोलन की आवश्यकता
मृतक परिवार से मिला जदयू प्रतिनिधिमंडल, पीड़ित परिवार को न्याय एवं सुरक्षा का दिलाया भरोसा
सशक्त लोकतंत्र के लिए यह आवश्यक है कि प्रतेयक मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करे: अखिलेश कुमार सिंह, ...
कोविड-19 को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री ने की समीक्षा बैठक
गणेश उत्सव....
मतदाता जागरूकता के लिए मोतिहारी में आज शाम 6:00 बजे से कैंडल मार्च
शालिनी मिश्रा ने साधा राजद पर निशाना, कहा रघुवंश बाबू के निधन के बाद राजद के पास बचा गया है "लोटा भर...
बिहार दिवस के अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिता का हुआ आयोजन
केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ 10 सितंबर को महागठबंधन का भारत बंद
आवारा पशुओं का गांधी चौक पर अनवरत रूप से रात्रि का धरना प्रदर्शन जारी.......
कॉमेडी किंग का अवार्ड पाकर भावुक हुए मशहूर कॉमेडियन रोहित सिंह मटरू
ए बी पी एल ए की नई पूर्वी चंपारण इकाई गठित, प्रशासनिक पदों का सृजन

Leave a Reply