विशेष वार्ड सभा के द्वारा गर्भावस्था के दौरान पोषण की जरूरतें (तिरंगा भोजन) विषय पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित

Featured Post slide गाँव-किसान छौडादानौ बिहार मुजफ्फरपुर मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राष्ट्रीय स्पेशल न्यूज़ स्वास्थ्य
  • 7
    Shares

6 सितम्बर। राष्ट्रीय पोषण सप्ताह के अवसर पर महिला वार्ड सदस्यों के द्वारा गर्भावस्था के दौरान पोषण (तिरंगा भोजन) के महत्व पर परिचर्चा का आयोजन किया गया।राष्ट्रीय पोषण सप्ताह के अवसर पर सेंटर फॉर कैटेलाईजिंग चेंज द्वारा चैंपियन परियोजना के अंतर्गत पूर्वी चंपारण जिला के मोतिहारी एवं छौरादनो प्रखंड की महिला वार्ड सदस्यों के द्वारा अपने अपने वार्ड में विशेष वार्ड सभा का आयोजन कर उन्हें गर्भवस्था के दौरान संतुलित पोषण की आवश्यकता विषय पर विस्तृत रूप से जानकारी दिया गया। महिला वार्ड सदस्यों ने अपने अपने समुदाय में बताया की हर महिला कि यह इच्छा होती है कि वह एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे। इस इच्छा को पूर्ण करने के लिए गर्भावस्था मे पौष्टिक आहार का सेवन पर्याप्त मात्रा मे करना बेहद जरुरी है। गर्भस्थ शिशु का विकास माता के आहार पर निर्भर होता है। गर्भवती महिला को ऐसा आहार करना चाहिए जो उसके गर्भस्थ शिशु के पोषण कि आवश्यकताओं को पूरा कर सके।

Advertisements

?तिरंगा भोजन:-
दरपा पंचायत वार्ड नंबर 11 की कांति देवी ने बताया की अपने खानपान संबंधी जरूरतों को तिरंगा झंडा से जोड़ कर याद रखा जा सकता है, जिस तरह भारत के राष्ट्रीय तिरंगा झंडा में तीन रंग होते हैं उसी तरह हमारे भोजन में इन तीन रंगों से मिलते जुलते शाग, सब्जियों एवं अन्य खाद्य पदार्थों की बहुत ही अहमियत होती है।

?गर्भवती महिला को प्रतिदिन चाहिए 2400 कैलोरी आहार
चर्चा के दौरान यह बताया गया की सामान्य महिला को प्रतिदिन 2100 कैलोरीज का आहार करना चाहिए। फूड व न्यूट्रीशन बोर्ड के अनुसार गर्भवती महिला को आहार के माध्यम से 300 कैलोरीज अतिरिक्त मिलनी ही चाहिए। यानि सामान्य महिला कि अपेक्षा गर्भवती महिला को 2400 कैलोरीज प्राप्त हो इतना आहार लेना चाहिए और विविध विटामिन, मिनिरल्स अधिक मात्रा में प्राप्त करना चाहिए।कार्यक्रम के दौरान उपस्थित सेविका एवं ए एन एम दीदी द्वारा बताया गया की गर्भावस्था में महिला को आहार में किन किन चीजों को कितनी मात्र में शामिल करना चाहिए…??
?गर्भवती महिला के लिए प्रोटीन आवश्यक तत्व
प्रोटीन के बारे में यह जानकारी दी गई की गर्भवती महिला को आहार मे प्रतिदिन 60 से 70 ग्राम प्रोटीन मिलना चाहिए। यह बताया गया की गर्भवती महिला के गर्भाशय, स्तनों तथा गर्भ के विकास और वृद्धि के लिये प्रोटीन एक महत्वपूर्ण तत्व है। शरीर में प्रोटीन प्राप्त करने के लिए दूध और दूध से बने व्यंजन, मूंगफली, पनीर, चीज़, काजू, बदाम, दलहन, मांस, मछली, अंडे आदि का सेवन किया जाना चाहिए।
? मां बनने के लिए फोलिक एसिड आवश्यक:-
फोलिक एसिड के बारे में बताया गया की पहली तिमाही वाली महिलाओं को प्रतिदिन 4 एमजी फोलिक एसिड लेने की आवश्यकता होती है। दूसरी और तीसरी तिमाही मे 6 एमजी फोलिक एसिड लेने की आवश्यकता होती है। पर्याप्त मात्रा में फोलिक एसिड लेने से जन्मदोष और गर्भपात होने का खतरा कम हो जाता है। इस तत्व के सेवन से उलटी पर रोक लग जाती है। आपको फोलिक एसिड का सेवन तब से कर लेना चाहिए जब से आपने माँ बनने का मन बना लिया हो। फोलिक एसिड युक्त आहार मे दाल, राजमा, पालक, मटर, मक्का, हरी सरसो, भिंड़ी, सोयाबीन, काबुली चना, स्ट्रॉबेरी, केला, अनानस, संतरा, दलीया, साबुत अनाज का आटा, आटे कि ब्रेड आदि का समावेश होता है।महिला वार्ड सदस्यों द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम का उद्देश्य इस महत्वपूर्ण विषय पर लोगों की समझदारी विकसित करना ताकि सभी गर्भवती माताओं को संतुलित पोषण की प्राप्ति हो सके एवं सुरक्षित, पोषित एवम सुदृढ़ बच्चे के आने का मार्ग प्रशस्त हो सके।चैंपियन परियोजना में शामिल वार्ड सदस्यों को यह आशा है कि वे इन सामुदायिक गतिविधियों एवं परिचर्चाओं के माध्यम से गर्भवती महिलाओं के पोषण संबंधी आवश्यकताओं एवं जरूरतों पर समुदाय, परिवार एवं महिलाओं को जागरूक कर संतुलित भोजन ग्रहण करने के लिए प्रेरित कर पायेंगे एवं गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य एवं आने वाले बच्चों में कुपोषण की समस्या को हमेशा के लिए मिटा पायेंगे।

अन्य ख़बरें

कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर राजेश कुमार सुमन ने लगाया पौधा
जिले में 44 केंद्रों पर होगी इंटरमीडिएट परीक्षा, सूची जारी
भोजपुरी सिनेमा संकट के दौर में गुजर रहा : मृदुल शरण
मिस इंडिया दिवा की फायनलिस्ट बनी आकांक्षा, पिता है बिजनेसमैन तो वही मां है पुलिस ऑफिसर
ढाका में भी छठ की तैयारियों के बीच खूब हुई खरीदारी
मिसेज ब्यूटी मॉम्स ऑफ बिहार का फायनल आडिशन संपन्न
भाजपा बिहार प्रदेश के व्यापार प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त हुए बबलू गुप्ता, शुभचिंतकों से मिलने...
शिव धनुष को राम नही सीता ने तोड़ी थी- रामायणी रामलला अयोध्या
गुरु पूर्णिमा विशेष: जीवन दर्शन-गुरु की महत्ता एवं भ्रम से वास्तविकता की ओर' विषय पर एलएनडी कॉलेज मे...
केंद्रीय विश्वविद्यालय में विद्यार्थी उन्मुखीकरण समारोह के दौरान पत्रकारिता के विभिन्न पक्षों पर हुई...
फिल्‍म ‘वंश’ के खलनायक पप्‍पू यादव ने की सीएम योगी और खेसारीलाल की तारीफ
कला-क्षेत्र में वर्ल्ड रिकार्ड  बनाना  चाहती है: निहारिका
बंजरिया प्रखंड के पूर्व कार्यालय में स्थानांतरित हो नाका नंबर 3 : अनिकेत पाण्डेय
चुनाव को लेकर जिलाधिकारी ने सभी कोषांगों के वरीय पदाधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक
गायघाट हरसिद्धि मुख्य मार्ग के लिए जल सत्याग्रह
सामाजिक संस्था ग्रीन एंड क्लीन के तत्वधान में हुआ सैनिटाइजेशन
उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने किया मदर डेयरी का उद्घाटन
केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने किया वृक्षारोपण
रामबाबू कुँअर बने AIDA बिहार प्रदेश के प्रदेश उपाध्यक्ष, संगठन के अन्य सदस्यों ने दी बधाई
शिक्षक को चाणक्य एवं शिष्य चंद्रगुप्त होना चाहिए: पप्पू सर

  • 7
    Shares

Leave a Reply