महिला के लिए असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कितना उचित है ?…SSP हरप्रीत कौर

क्राइम बिहार मुजफ्फरपुर स्पेशल न्यूज़

NTC NEWS MEDIA / Muzaffarpur 

      सांसद पप्पू यादव द्वारा मुजफ्फरपुर की  SSP  हरप्रीत कौर पर  आरोपी की बौछार करने के बाद  हरप्रीत कौर ने अपने फेसबुक पेज पर पप्पू यादव जी को  संसदीय भाषा  में  पूरी तरह से धो डाला ।

सबसे पहले पढ़ते हैं  की हरप्रीत कौर ने अपने Facebook पोस्ट पर  सांसद महोदय की तरफ इशारा करते हुए  क्या कहा आपसे स्वयं ही पढ़िए …..

 सबसे पहले नमस्कार से शुरुआत करते हुए एसपी हरप्रीत कौर  ने लिखा कि…

नमस्कार।
माननीय सांसद पप्पू यादव जी लगातार मीडिया में रोते हुए यह आरोप लगा रहे हैं कि उनके ऊपर बंद के दौरान मुजफ्फरपुर जिले में हमला हुआ, उनकी गाड़ी तोड़ दी गई, उनका मोबाइल तोड़ दिया गया, उनके समर्थकों के साथ मारपीट की गई। इस संदर्भ में मैं अपनी बात रखना चाहती हूँ । जब उन्होंने अपनी बात मीडिया में रखी तो कुछ मीडिया के लोगों ने हमसे संपर्क किया और पुलिस का पक्ष जानना चाहा तो मैंने कहा कि अगर इस तरह की कोई घटना हुई है तो माननीय सांसद महोदय को पुलिस में FIR दर्ज करवानी चाहिए। मुजफ्फरपुर पुलिस को सांसद साहब और बंद समर्थकों के बीच हुए बातचीत का एक वीडियो मिला था जो हमने मीडिया को दिया, जिसमें किसी भी तरह कि हमले जैसी स्थिति नहीं मालूम चल रही थी। जबकि आजतक भी सांसद साहब के द्वारा इस संदर्भ में कोई F.I.R दर्ज नही करवाया गया है। न ही उनके आरोपों की पुष्टि के लिए उनके साथ हुई कथित मारपीट व तोड़फोड़ के सम्बन्ध में कोई साक्ष्य पुलिस या मिडिया के समक्ष रखा गया है ।

वरीय पदाधिकारी के द्वारा पुलिस लाइन का निरीक्षण चल रहा था : SSP हरप्रीत कौर 

माननीय सांसद महोदय का यह आरोप है कि उन्होंने मुझे कॉल किया और मैंने फोन नहीं उठाया जबकि हकीकत यह है कि उस समय वरीय पदाधिकारी के द्वारा पुलिस लाइन का निरीक्षण चल रहा था । और जैसे ही हमें यह मैसेज मिला कि वह बात करना चाहते हैं तो तुरन्त हमने खुद सांसद महोदय से बात की और डीएसपी को घटनास्थल पर रवाना किया ।

एसपी हरप्रीत कौर  ने पप्पू यादव के इस आरोप को खारिज किया कि उन्हें एस्कॉर्ट नहीं किया गया जबकि सच्चाई से रूबरू कराते हुए हरप्रीत कौर लिखती हैं कि उन्होंने लिखित या मौखिक किसी भी रुप में पुलिस को सूचना नहीं दी गई थी।

         बकौल हरप्रीत  “6 तारीख को माननीय सांसद साहब का मधुबनी जिले में कार्यक्रम था और मुज़फ़्फ़रपुर में कोई भी कार्यक्रम प्रस्तावित नहीं था। उनका आरोप है कि मुजफ्फरपुर पुलिस ने उनको एस्कॉर्ट नहीं दिया, यह बिल्कुल ही गलत है क्योंकि उनके उस दिन मुजफ्फरपुर आने की कोई भी लिखित या मौखिक सूचना पुलिस के पास नहीं थी। उनका प्रस्तावित कार्यक्रम मुजफ्फरपुर में 9 और 10 तारीख को है।”

उन्होंने पप्पू यादव  के इशारों को खारिज किया जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि उनकी हत्या की साजिश रची जा रही है ….

बकौल हरप्रीत  “सांसद महोदय मीडिया में आकर बेहद आपत्तिजनक और तथ्यहीन आरोप लगा रहे हैं कि मैं उनकी हत्या की साजिश में शामिल हूँ। इस संदर्भ में उनकी जानकारी के लिए कहना है कि पुलिस का काम आम लोगों को सुरक्षा देना है न कि किसी की हत्या करवाना। हम एक पुलिस अधिकारी हैं जो कि ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ अपना काम कर रहे हैं । हमारी उनसे क्या दुश्मनी है भला । फिर भी लगातार सांसद महोदय इस तरह के निराधार आरोप लगा रहे हैं।

पप्पू यादव के नारी बचाओ  अभियान  पदयात्रा पर  तंज कसते हुए  हरप्रीत लिखती हैं कि……

Advertisements

“दूसरी सबसे बड़ी बात है कि अपनी पद यात्रा के दौरान वह लगातार “नारी बचाओ आंदोलन” चला रहे हैं और स्वयं को महिलाओं के हितों के “रक्षक” बता रहे हैं और दूसरी तरफ एक महिला अधिकारी के संबंध में मिडिया में ऐसी टिप्पणी कर रहे हैं कि ” एस एस पी मुजफ्फरपुर ने अपने चहेते पत्रकारों को लव लेटर लिख रही हैं “। जब कि मेरे द्वारा सिर्फ तथ्यों के आधार पर वस्तु स्थिति को स्पष्ट करने की कोशिश की गई थी उस दिन मीडिया में । एक सांसद महोदय के द्वारा इस तरह की असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल एक महिला के लिए किया जाना कितना उचित है ? और एक तरफ सांसद महोदय नारी सम्मान की बात करते हैं और दूसरी तरफ एक महिला पुलिस अधिकारी के संबंध में मिडिया में लगातार अपमानजनक ,असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं ।

तो इस तरह से आपने देखा कि किस तरह से मुजफ्फरपुर की ssp हरप्रीत कौर ने फ्रंटफुट पर आकर पप्पू यादव के सारे दावे को खारिज ही नहीं किया बल्कि पूरी तरह से धो डाला।

बताते चलें कि पप्पू यादव पूरे बिहार में नारी बचाओ अभियान के तहत पदयात्रा कर रहे हैं जिसके तहत वे जगह जगह जाकर लोगों में नारियों के प्रति सम्मान के लिए उनकी सुरक्षा के लिए अपील कर रहे हैं। देश में झूला दिन महिलाओं के प्रति बढ़ती हिंसा छेड़खानी बलात्कार की घटनाओं से सिर्फ पप्पू यादव ही नहीं बल्कि पूरा समाज चिंतित है अब समय आ गया है कि पूरे समाज को मिल बैठकर इस निर्णय पर पहुंचना होगा कि आखिर महिलाओं के साथ इस तरह की हिंसक वारदात क्यों हो रही है दूसरी और देखा जाए तो पप्पू यादव का एक महिला पुलिस अधिकारी के ऊपर इस तरह के अनर्गल आरोप लगाना किसी भी तरह से उचित नहीं है उस परिस्थिति में जबकि पप्पू यादव स्वयं महिलाओं की हित की बात कर रहे हैं।

अन्य ख़बरें

जदयू ने जारी की 122 विधानसभा क्षेत्रों की लिस्ट जिसमें से सात सीटें "हम" पार्टी के लिए आवंटित
पथ निर्माण विभाग से संबंधित सड़क के किनारे किया जाएगा सघन पौधारोपण
ब्रावो फार्मा की नई पहल... बिहारी युवाओं के रोजगार एवं शिक्षा के क्षेत्र में बिहार एवं महाराष्ट्र सर...
पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के हालिया टिप्पणी को लेकर विभिन्न संगठनों ने किया पुतला दहन
सत्याग्रह की आस ,आओ करें उपवास : मधु मंजरी
देश के भविष्य के साथ ख्वाब फाउंडेशन ने मनाया 11वाँ स्थापना दिवस
वैलेंटाइन डे के विकल्प के रूप में मातृ पितृ पूजन दिवस मनाया गया
प्रतिरोध मार्च..... Live with NTC NEWS MEDIA
बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने कम्युनिटी किचन चलाने एवं गर्भवती, बच्चें, बुज...
यज्ञ आहुति देकर शहीद जवानों को दी गई श्रद्धांजलि
जनता पर बढ़ रहे आर्थिक बोझ कम करने के लिए सरकार के पास कोई उपाय नहीं: मुन्ना कुशवाहा
एलएनडी कॉलेज में चल रहे 10 दिवसीय एनसीसी प्रशिक्षण शिविर का समापन
कृषि कानून के विरोध एवं किसानों के समर्थन में महागठबंधन ने बनाया "मानव श्रृंखला"
मोतिहारी चैंबर ऑफ कॉमर्स ने 23 जून से ही दुकानों को खोलने के लिए जिलाधिकारी को दिया सुझाव
जिला परिवहन पदाधिकारी ने मासिक पत्रिका रोटरी न्यूज़ का किया विमोचन
आज से काला बिल्ला लगाकर काम करेंगी आंगनबाड़ी बहने
सामाजिक संस्था ग्रीन एंड क्लीन के तत्वधान में हुआ सैनिटाइजेशन
चैंबर के 22वी कार्यकारिणी बैठक में विभिन्न मुद्दों पर हुई बातचीत
आजाद पांडे बोल रहा हूं, बहन.......रक्षाबंधन विशेष
JACP एवं युवा शक्ति की संयुक्त बैठक SNS college में संपन्न, पुन्नु सिंह बने काॅलेज अध्यक्ष

Leave a Reply