महिला के लिए असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कितना उचित है ?…SSP हरप्रीत कौर

क्राइम बिहार मुजफ्फरपुर स्पेशल न्यूज़
  • 12
    Shares

NTC NEWS MEDIA / Muzaffarpur 

      सांसद पप्पू यादव द्वारा मुजफ्फरपुर की  SSP  हरप्रीत कौर पर  आरोपी की बौछार करने के बाद  हरप्रीत कौर ने अपने फेसबुक पेज पर पप्पू यादव जी को  संसदीय भाषा  में  पूरी तरह से धो डाला ।

सबसे पहले पढ़ते हैं  की हरप्रीत कौर ने अपने Facebook पोस्ट पर  सांसद महोदय की तरफ इशारा करते हुए  क्या कहा आपसे स्वयं ही पढ़िए …..

 सबसे पहले नमस्कार से शुरुआत करते हुए एसपी हरप्रीत कौर  ने लिखा कि…

नमस्कार।
माननीय सांसद पप्पू यादव जी लगातार मीडिया में रोते हुए यह आरोप लगा रहे हैं कि उनके ऊपर बंद के दौरान मुजफ्फरपुर जिले में हमला हुआ, उनकी गाड़ी तोड़ दी गई, उनका मोबाइल तोड़ दिया गया, उनके समर्थकों के साथ मारपीट की गई। इस संदर्भ में मैं अपनी बात रखना चाहती हूँ । जब उन्होंने अपनी बात मीडिया में रखी तो कुछ मीडिया के लोगों ने हमसे संपर्क किया और पुलिस का पक्ष जानना चाहा तो मैंने कहा कि अगर इस तरह की कोई घटना हुई है तो माननीय सांसद महोदय को पुलिस में FIR दर्ज करवानी चाहिए। मुजफ्फरपुर पुलिस को सांसद साहब और बंद समर्थकों के बीच हुए बातचीत का एक वीडियो मिला था जो हमने मीडिया को दिया, जिसमें किसी भी तरह कि हमले जैसी स्थिति नहीं मालूम चल रही थी। जबकि आजतक भी सांसद साहब के द्वारा इस संदर्भ में कोई F.I.R दर्ज नही करवाया गया है। न ही उनके आरोपों की पुष्टि के लिए उनके साथ हुई कथित मारपीट व तोड़फोड़ के सम्बन्ध में कोई साक्ष्य पुलिस या मिडिया के समक्ष रखा गया है ।

वरीय पदाधिकारी के द्वारा पुलिस लाइन का निरीक्षण चल रहा था : SSP हरप्रीत कौर 

माननीय सांसद महोदय का यह आरोप है कि उन्होंने मुझे कॉल किया और मैंने फोन नहीं उठाया जबकि हकीकत यह है कि उस समय वरीय पदाधिकारी के द्वारा पुलिस लाइन का निरीक्षण चल रहा था । और जैसे ही हमें यह मैसेज मिला कि वह बात करना चाहते हैं तो तुरन्त हमने खुद सांसद महोदय से बात की और डीएसपी को घटनास्थल पर रवाना किया ।

एसपी हरप्रीत कौर  ने पप्पू यादव के इस आरोप को खारिज किया कि उन्हें एस्कॉर्ट नहीं किया गया जबकि सच्चाई से रूबरू कराते हुए हरप्रीत कौर लिखती हैं कि उन्होंने लिखित या मौखिक किसी भी रुप में पुलिस को सूचना नहीं दी गई थी।

         बकौल हरप्रीत  “6 तारीख को माननीय सांसद साहब का मधुबनी जिले में कार्यक्रम था और मुज़फ़्फ़रपुर में कोई भी कार्यक्रम प्रस्तावित नहीं था। उनका आरोप है कि मुजफ्फरपुर पुलिस ने उनको एस्कॉर्ट नहीं दिया, यह बिल्कुल ही गलत है क्योंकि उनके उस दिन मुजफ्फरपुर आने की कोई भी लिखित या मौखिक सूचना पुलिस के पास नहीं थी। उनका प्रस्तावित कार्यक्रम मुजफ्फरपुर में 9 और 10 तारीख को है।”

उन्होंने पप्पू यादव  के इशारों को खारिज किया जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि उनकी हत्या की साजिश रची जा रही है ….

बकौल हरप्रीत  “सांसद महोदय मीडिया में आकर बेहद आपत्तिजनक और तथ्यहीन आरोप लगा रहे हैं कि मैं उनकी हत्या की साजिश में शामिल हूँ। इस संदर्भ में उनकी जानकारी के लिए कहना है कि पुलिस का काम आम लोगों को सुरक्षा देना है न कि किसी की हत्या करवाना। हम एक पुलिस अधिकारी हैं जो कि ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ अपना काम कर रहे हैं । हमारी उनसे क्या दुश्मनी है भला । फिर भी लगातार सांसद महोदय इस तरह के निराधार आरोप लगा रहे हैं।

पप्पू यादव के नारी बचाओ  अभियान  पदयात्रा पर  तंज कसते हुए  हरप्रीत लिखती हैं कि……

Advertisements

“दूसरी सबसे बड़ी बात है कि अपनी पद यात्रा के दौरान वह लगातार “नारी बचाओ आंदोलन” चला रहे हैं और स्वयं को महिलाओं के हितों के “रक्षक” बता रहे हैं और दूसरी तरफ एक महिला अधिकारी के संबंध में मिडिया में ऐसी टिप्पणी कर रहे हैं कि ” एस एस पी मुजफ्फरपुर ने अपने चहेते पत्रकारों को लव लेटर लिख रही हैं “। जब कि मेरे द्वारा सिर्फ तथ्यों के आधार पर वस्तु स्थिति को स्पष्ट करने की कोशिश की गई थी उस दिन मीडिया में । एक सांसद महोदय के द्वारा इस तरह की असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल एक महिला के लिए किया जाना कितना उचित है ? और एक तरफ सांसद महोदय नारी सम्मान की बात करते हैं और दूसरी तरफ एक महिला पुलिस अधिकारी के संबंध में मिडिया में लगातार अपमानजनक ,असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं ।

तो इस तरह से आपने देखा कि किस तरह से मुजफ्फरपुर की ssp हरप्रीत कौर ने फ्रंटफुट पर आकर पप्पू यादव के सारे दावे को खारिज ही नहीं किया बल्कि पूरी तरह से धो डाला।

बताते चलें कि पप्पू यादव पूरे बिहार में नारी बचाओ अभियान के तहत पदयात्रा कर रहे हैं जिसके तहत वे जगह जगह जाकर लोगों में नारियों के प्रति सम्मान के लिए उनकी सुरक्षा के लिए अपील कर रहे हैं। देश में झूला दिन महिलाओं के प्रति बढ़ती हिंसा छेड़खानी बलात्कार की घटनाओं से सिर्फ पप्पू यादव ही नहीं बल्कि पूरा समाज चिंतित है अब समय आ गया है कि पूरे समाज को मिल बैठकर इस निर्णय पर पहुंचना होगा कि आखिर महिलाओं के साथ इस तरह की हिंसक वारदात क्यों हो रही है दूसरी और देखा जाए तो पप्पू यादव का एक महिला पुलिस अधिकारी के ऊपर इस तरह के अनर्गल आरोप लगाना किसी भी तरह से उचित नहीं है उस परिस्थिति में जबकि पप्पू यादव स्वयं महिलाओं की हित की बात कर रहे हैं।

अन्य ख़बरें

कंटेनमेंट जोन में बदला संक्रमित क्षेत्र, ड्रोन से की जा रही है सतत् निगरानी
सरकार महिला सशक्तीकरण के नाम पर राजनीति कर रही है: मधु मंजरी
जिलाधिकारी पूर्वी चंपारण ने की बाल विकास परियोजना के परियोजनावार चल रही योजनाओं की गहन समीक्षा
केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने किया वृक्षारोपण
कोविड-19 महामारी में सरकार को दंत चिकित्सको की भी मदद लेनी चाहिए: डॉ. रजनीश कुमार
विधानसभा निर्वाचन 2020 की तैयारियों के मद्देनजर ईवीएम (EVM) संग्रह केंद्र का जिलाधिकारी ने किया निरी...
लोकसभा 2019 के लिए, मोतिहारी भाजपा कोर कमेटी का हुआ गठन
जिला जदयू का महा सदस्यता अभियान जोरो पर, सैकड़ों लोगों ने ली जदयू की सदस्यता
कला संस्कृति मंत्री ने बाढ़ पीड़ितों के सहायतार्थ चूड़ा एवं गुड़ का किया पैकिंग
राधा कृष्ण मंदिर वृक्षे स्थान मोतिहारी के महंत राम सागर दास से पत्रकार नकुल कुमार की खास बातचीत
कल्याणपुर: चुनावी पाठशाला का आयोजन, मतदाताओं को जागरूक करने के बताए गए तरीके
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की 95 वीं जयंती मनाई गई
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के प्रत्याशी राधा मोहन सिंह का चुनावी दौरा लगातार जा
नाव से हुई दुल्हन की विदाई... घटना बंजरिया के पचरुखा की
चंपारण में इको इंडस्ट्री लगा रहे हैं करोड़पति सुशील कुमार
हमने अपना अटल रत्न खो दिया :नरेंद्र मोदी
शिक्षक दिवस विशेष में सहकारिता मंत्री बिहार राणा रणधीर सिंह
सेविका-सहायिका बहनों ने अपनी मांगों को लेकर किया प्रदर्शन,10 अक्टूबर से काला बिल्ला लगाकर करेंगी काम
नरकटिया विधायक शमीम अहमद ने किया सरकारी भवन का उद्घाटन । बनकटवा प्रखंड अंतर्गत इनरवा फुलवार पंचायत म...
धूमधाम से मनाया गया न्यू पटना सेन्ट्रल स्कूल का वार्षिकोत्सव

  • 12
    Shares

Leave a Reply