फोड़ा,फुंसी,एक्ज़िमा का होम्योपैथिक इलाज संभव है

Uncategorized

                               क्या आप खाज ,खुजली, फोड़ा, फुंसी, एक्ज़िमा,दाद ,दिनाय , या किसी भी तरह  के चरम रोग से ग्रस्त है तो निश्चित रूप से या पूरा पोस्ट आपके लिए ही है।आज हमारे साथ हैं मोतिहारी के जाने-माने होम्योपैथिक  चिकित्सक .  डॉ सबा अख्तर। जो आपको बताएंगे कि यदि आपको खाज खुजली एग्जिमा फोड़ा फुंसी  आदि  हो गई हो तो उससे होम्योपैथिक इलाज के द्वारा निजात कैसे पाएंगे।

      चूँकि अभी ये बीमारियां आम हो चुकी हैं । और चरम रोग के नाम पर लोगों के पॉकिट से काफी पैसे कट रहे हैं। आराम तो हो जाता है  मगर कुछ दिन बाद फिर उससे ज़्यादा एरिया में ये  फुंसियां निकल जाती  है चूहा को बिल से निकाले बिना बिल को बंद कर देंगे तो चूहा फिर कहीं न कहीं अपना बिल बनाएगा ना।

    दोस्तों …किसी भी मरहम को जब आप लगाते है तो वहां से फंगल बैक्टीरिया वहां से अन्दर ही दब जाता है और जैसे मौक़ा मिलता है वो बहार आ निकलता है। 

     चूँकि इसका मेयाज़म सोरा होता है जो बड़ा ही ज़िद्दी मेयाज़म होता है ।  और मेयाज़ मेटिक इलाज सिर्फ होमियो पैथ  ही के पास है । ये पहले जिस्म में छुपे मेयाज़म को बहार लाता है फिर उसके बॅक्टेरिया को मारता है तब वो इंटरनल दवा से ब्लड को साफ करता है और बीमारी से हमेशा हमेश के लिए मुक्ती मिल जाती है।

      ये फंगल अनेको प्रकार के होते हैं और हर प्रकार के लिए दवाइयाँ भी सिम्पटोम के मुताबिक अलग् अलग  होती है। 
कुछ खानदानी भी होती हैं तो कुछ  ऐलर्जिकल भी होती है । जिसका तसखिस करना भी जरुरी होता है । होमियो पैथ  में भी एक से एक दवाइयाँ   आगइ हैं । जैसे मदर टिंक्चर , ट्राईट्रियूशन   पेटेंट वगैरह । जो कीमती भी होती है और असर भी।

Advertisements

 इलाज करने का तरीका

1 पहले हम मेयाज़म की तलाश कर  एंटी सोरिक दवा देते है।
2  फिर उसको मारने के लिये   एंटी फंगल दवा देते है।
3 फिर  परेशानी से बचने के लिय एंटी सेप्टिक  लोशन देते है।
      जैसे 
सुल्फार, ग्रैफाइटिस, सोरिनम ,पेट्रोलियम एंटी सोरीक हैं तो 
मार्क सोल,कैल्केरिया सल्फ ,नेट्रम सल्फ , मेज़ेरियम्, टेलुरियाम् ,  अर्स सल्फ रुबेरम्, सकुचम् चक ,  एस करीसोरोबियम् etc के इलावा अनेको दवाइयाँ एंटी फंगल हैं तो वहीँ  नेट्रम मयूर, जुग्लान्स रेजिया , एंटी पाईरिंन  हिस्टा मुनियम् etc  के इलावा  अनेकों दवाइयाँ एंटी एलर्जिक  हैं ।

तो चलमोग्रा  आयल  एंटी सेप्टिक हैं तो  वहीँ इचिनिसिया  हाइड्रो  कोटाइल, अज़ादिरिकटा खून साफी का काम करती हैं ।
लेहाज़ा कमाल तो दवाइयों का मुनासिब चुनाव का है ।जो एक डॉ की तज़ुर्बा कारी पर मुनहसर है।  .

 इस नंबर पर आप डॉक्टर साहब  से फ्री सलाह ले सकते है

डॉ एम् एस सिद्दीकी 

जर्मन होमियो किलिनिक 
पंच मन्दिर चौक मोतिहारी
9852592060

contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

युवाओं के विभिन्न समस्याओं को उठाने वाले अनिकेत पाण्डेय को 2058 ही मत क्यों मिला...? एक समीक्षा।
इस बार BiggBoss शो में आम जनता की इंद्री नही। Tiktok, Facebook कलाकारों को मिल सकता है मौका: दीपक ठ...
सहज निवेदन
मदरसों में लागू होगा ड्रेस कोड, बच्चे नहीं पहनेंगे कुर्ता पायजामा
किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सारा अनाज न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार द्वारा खरीदा जाए, यह सुनिश्चि...
How long should the oppressed.....???
बिहार नवयुवक सेना ने की CBI जांच की मांग
Love Poem by Nakul Kumar
राम मंदिर बनाम बाबरी मस्जिद......
मुखिया ने किया छठ घाट का निरीक्षण, क्षेत्र की जनता को महापर्व मिलजुलकर मनाने का दिया संदेश
A MAN-MIDWIFE-RARE PAINTING : Bharat Vaidya, USA read full article....
डॉक्टर के लापरवाही से एक और कैदी मरीज की हुई मौत
जुलूस निकालकर जताया विरोध
ढ़ाका के चंदनबाड़ा में तेज रफ्तार टेम्पो पल्टी , कई घायल
राम मिलादे राधे राधे... धर्मेंद्र कुमार सिंह के साथ चित्रकूट यात्रा वृतांत
मधुरेन्द्र ने रेत पर चम्पारण की ऐतिहासिक विरासत बनाकर लोगों को आखिरी दिन भी मतदान के लिए किया जागरूक...
चाटी माई मंदिर सिघिया हिब्बन मोतिहारी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जबरदस्ती गले मिल हंसी के पात्र बने हैं राहुल गांधी
कोरोना की जंग में जरूरतमंद लोगों की मदद के लिये मसीहा बनें विनय पाठक
व्यवस्था ठीक होने तक अनशन पर रहेंगे छात्र

Leave a Reply