फोड़ा,फुंसी,एक्ज़िमा का होम्योपैथिक इलाज संभव है

Uncategorized

                               क्या आप खाज ,खुजली, फोड़ा, फुंसी, एक्ज़िमा,दाद ,दिनाय , या किसी भी तरह  के चरम रोग से ग्रस्त है तो निश्चित रूप से या पूरा पोस्ट आपके लिए ही है।आज हमारे साथ हैं मोतिहारी के जाने-माने होम्योपैथिक  चिकित्सक .  डॉ सबा अख्तर। जो आपको बताएंगे कि यदि आपको खाज खुजली एग्जिमा फोड़ा फुंसी  आदि  हो गई हो तो उससे होम्योपैथिक इलाज के द्वारा निजात कैसे पाएंगे।

      चूँकि अभी ये बीमारियां आम हो चुकी हैं । और चरम रोग के नाम पर लोगों के पॉकिट से काफी पैसे कट रहे हैं। आराम तो हो जाता है  मगर कुछ दिन बाद फिर उससे ज़्यादा एरिया में ये  फुंसियां निकल जाती  है चूहा को बिल से निकाले बिना बिल को बंद कर देंगे तो चूहा फिर कहीं न कहीं अपना बिल बनाएगा ना।

    दोस्तों …किसी भी मरहम को जब आप लगाते है तो वहां से फंगल बैक्टीरिया वहां से अन्दर ही दब जाता है और जैसे मौक़ा मिलता है वो बहार आ निकलता है। 

     चूँकि इसका मेयाज़म सोरा होता है जो बड़ा ही ज़िद्दी मेयाज़म होता है ।  और मेयाज़ मेटिक इलाज सिर्फ होमियो पैथ  ही के पास है । ये पहले जिस्म में छुपे मेयाज़म को बहार लाता है फिर उसके बॅक्टेरिया को मारता है तब वो इंटरनल दवा से ब्लड को साफ करता है और बीमारी से हमेशा हमेश के लिए मुक्ती मिल जाती है।

      ये फंगल अनेको प्रकार के होते हैं और हर प्रकार के लिए दवाइयाँ भी सिम्पटोम के मुताबिक अलग् अलग  होती है। 
कुछ खानदानी भी होती हैं तो कुछ  ऐलर्जिकल भी होती है । जिसका तसखिस करना भी जरुरी होता है । होमियो पैथ  में भी एक से एक दवाइयाँ   आगइ हैं । जैसे मदर टिंक्चर , ट्राईट्रियूशन   पेटेंट वगैरह । जो कीमती भी होती है और असर भी।

Advertisements

 इलाज करने का तरीका

1 पहले हम मेयाज़म की तलाश कर  एंटी सोरिक दवा देते है।
2  फिर उसको मारने के लिये   एंटी फंगल दवा देते है।
3 फिर  परेशानी से बचने के लिय एंटी सेप्टिक  लोशन देते है।
      जैसे 
सुल्फार, ग्रैफाइटिस, सोरिनम ,पेट्रोलियम एंटी सोरीक हैं तो 
मार्क सोल,कैल्केरिया सल्फ ,नेट्रम सल्फ , मेज़ेरियम्, टेलुरियाम् ,  अर्स सल्फ रुबेरम्, सकुचम् चक ,  एस करीसोरोबियम् etc के इलावा अनेको दवाइयाँ एंटी फंगल हैं तो वहीँ  नेट्रम मयूर, जुग्लान्स रेजिया , एंटी पाईरिंन  हिस्टा मुनियम् etc  के इलावा  अनेकों दवाइयाँ एंटी एलर्जिक  हैं ।

तो चलमोग्रा  आयल  एंटी सेप्टिक हैं तो  वहीँ इचिनिसिया  हाइड्रो  कोटाइल, अज़ादिरिकटा खून साफी का काम करती हैं ।
लेहाज़ा कमाल तो दवाइयों का मुनासिब चुनाव का है ।जो एक डॉ की तज़ुर्बा कारी पर मुनहसर है।  .

 इस नंबर पर आप डॉक्टर साहब  से फ्री सलाह ले सकते है

डॉ एम् एस सिद्दीकी 

जर्मन होमियो किलिनिक 
पंच मन्दिर चौक मोतिहारी
9852592060

contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

मदरसा इस्लामिया फैजुल उलूम, पकड़ीदयाल ने निकली मतदाता जागरूकता रैली, लोगों से भारी संख्या में मतदान क...
प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) के कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु, हुई समीक्षात्मक बैठक
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में हुई आशाओं की बैठक।
हिलोर मेरे मन की : धर्मेन्द्र
प्रथम पाली में होने वाली M.I.L Arts (For Hons. Students) की परीक्षा का विस्तारित केंद्र एम.जे.के इंट...
बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार पहुंचे देवघर, की पूजा अर्चना
क्या मदद करके फंस गए थे...चम्पारण के अजय सिंह.....???
किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सारा अनाज न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार द्वारा खरीदा जाए, यह सुनिश्चि...
कवि पथ की अनुभूति
मुख्तार अंसारी के मौत की उच्चस्तरीय जांच की मांग......
डॉ दीपक कुमार एक खोज
बुद्ध पूर्णिमा
बालीवुड फिल्म बेलगाम में दिखेगा बिहारी छोरा सुनील कविराज का जलवा
व्यवस्था ठीक होने तक अनशन पर रहेंगे छात्र
चौकीदार बहाली में हुई अनियमितता के खिलाफ चौकीदार बहाली संघ एवं बिहार नवयुवक सेना का प्रदर्शन
बोधगया में सैंड आर्ट से बनी मधुरेन्द्र की कलाकृतियां देंगी, मतदाता जागरूकता का संदेश।
कुछ बच्चों के शरारत से अधिकांश बच्चों के मेहनत पर पानी फिर रहा था... और फिर जो हुआ उससे सब कुछ ठीक ह...
चम्पारण का प्रण: मतदाता जागरूकता अभियान के दौरान जिला निर्वाचन पदाधिकारी रमण कुमार
बीएसएस क्लब:- निःशुल्क शैक्षणिक संस्थान रोसड़ा,समस्तीपुर के छात्रों ने मारी Bihar ITI में बाजी
अगर पीडीपी को किसी ने तोड़ने की कोशिश की तो हालात 1990 की जैसे होंगे :महबूबा मुफ्ती

Leave a Reply