फोड़ा,फुंसी,एक्ज़िमा का होम्योपैथिक इलाज संभव है

Uncategorized

                               क्या आप खाज ,खुजली, फोड़ा, फुंसी, एक्ज़िमा,दाद ,दिनाय , या किसी भी तरह  के चरम रोग से ग्रस्त है तो निश्चित रूप से या पूरा पोस्ट आपके लिए ही है।आज हमारे साथ हैं मोतिहारी के जाने-माने होम्योपैथिक  चिकित्सक .  डॉ सबा अख्तर। जो आपको बताएंगे कि यदि आपको खाज खुजली एग्जिमा फोड़ा फुंसी  आदि  हो गई हो तो उससे होम्योपैथिक इलाज के द्वारा निजात कैसे पाएंगे।

      चूँकि अभी ये बीमारियां आम हो चुकी हैं । और चरम रोग के नाम पर लोगों के पॉकिट से काफी पैसे कट रहे हैं। आराम तो हो जाता है  मगर कुछ दिन बाद फिर उससे ज़्यादा एरिया में ये  फुंसियां निकल जाती  है चूहा को बिल से निकाले बिना बिल को बंद कर देंगे तो चूहा फिर कहीं न कहीं अपना बिल बनाएगा ना।

    दोस्तों …किसी भी मरहम को जब आप लगाते है तो वहां से फंगल बैक्टीरिया वहां से अन्दर ही दब जाता है और जैसे मौक़ा मिलता है वो बहार आ निकलता है। 

     चूँकि इसका मेयाज़म सोरा होता है जो बड़ा ही ज़िद्दी मेयाज़म होता है ।  और मेयाज़ मेटिक इलाज सिर्फ होमियो पैथ  ही के पास है । ये पहले जिस्म में छुपे मेयाज़म को बहार लाता है फिर उसके बॅक्टेरिया को मारता है तब वो इंटरनल दवा से ब्लड को साफ करता है और बीमारी से हमेशा हमेश के लिए मुक्ती मिल जाती है।

      ये फंगल अनेको प्रकार के होते हैं और हर प्रकार के लिए दवाइयाँ भी सिम्पटोम के मुताबिक अलग् अलग  होती है। 
कुछ खानदानी भी होती हैं तो कुछ  ऐलर्जिकल भी होती है । जिसका तसखिस करना भी जरुरी होता है । होमियो पैथ  में भी एक से एक दवाइयाँ   आगइ हैं । जैसे मदर टिंक्चर , ट्राईट्रियूशन   पेटेंट वगैरह । जो कीमती भी होती है और असर भी।

Advertisements

 इलाज करने का तरीका

1 पहले हम मेयाज़म की तलाश कर  एंटी सोरिक दवा देते है।
2  फिर उसको मारने के लिये   एंटी फंगल दवा देते है।
3 फिर  परेशानी से बचने के लिय एंटी सेप्टिक  लोशन देते है।
      जैसे 
सुल्फार, ग्रैफाइटिस, सोरिनम ,पेट्रोलियम एंटी सोरीक हैं तो 
मार्क सोल,कैल्केरिया सल्फ ,नेट्रम सल्फ , मेज़ेरियम्, टेलुरियाम् ,  अर्स सल्फ रुबेरम्, सकुचम् चक ,  एस करीसोरोबियम् etc के इलावा अनेको दवाइयाँ एंटी फंगल हैं तो वहीँ  नेट्रम मयूर, जुग्लान्स रेजिया , एंटी पाईरिंन  हिस्टा मुनियम् etc  के इलावा  अनेकों दवाइयाँ एंटी एलर्जिक  हैं ।

तो चलमोग्रा  आयल  एंटी सेप्टिक हैं तो  वहीँ इचिनिसिया  हाइड्रो  कोटाइल, अज़ादिरिकटा खून साफी का काम करती हैं ।
लेहाज़ा कमाल तो दवाइयों का मुनासिब चुनाव का है ।जो एक डॉ की तज़ुर्बा कारी पर मुनहसर है।  .

 इस नंबर पर आप डॉक्टर साहब  से फ्री सलाह ले सकते है

डॉ एम् एस सिद्दीकी 

जर्मन होमियो किलिनिक 
पंच मन्दिर चौक मोतिहारी
9852592060

contact for advertisment and more
Nakul Kumar
8083686563

अन्य ख़बरें

कुशवाहा छात्र संगठन ने निकाला आक्रोश मार्च, पीड़ित परिवार को मिले पचास लाख का मुआवजा
Who is Supiya Bharti.....???
शासन भ्रष्ट प्रशासन निरस्त:शिवम कुमार साह
शिक्षा और चिकित्सा के बाद अब कला के क्षेत्र में पहचान बना रहे हैं 'मृदुल शरण', MS College मोतिहारी ए...
निपाह वायरस का सच.....
ज्ञानी है महादानी
नकुल कुमार के प्यार की अधूरी कहानी भाग-01
..........यादों में 2017...?...?...?
ग्रीन स्कूल क्लीन स्कूल के बच्चों को स्वच्छता उपकरण प्रदान किया गया
ब्रह्माण्ड दर्शन
जनादेश एक्सप्रेस के मोतिहारी कार्यालय का हुआ उद्घाटन
BPA1 बचपन पढ़ाओं आन्दोलन -1
दलितों पर अत्याचार.......आखिर कब तक...???
बिहार सरकार के बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने किया स्वास्थ्य शिविर का उद्घाटन
प्यार साश्वत है पर............ भरोसे का कत्ल न करें युवा पीढ़ी
भरोसे का कत्ल
आज से ABVP चलाएगी "हर घर तुलसी अभियान" संस्कृति के साथ-साथ स्वास्थ्य सुरक्षा का अनोखा प्रयास
आसाराम बापू के साधक के साथ हुआ यह अद्भुत चमत्कार
चम्पारण के लाल सुनिल कविराज ने सोनी टीवी के पोरस सिरिल में बनाया पहचान ।

1 thought on “फोड़ा,फुंसी,एक्ज़िमा का होम्योपैथिक इलाज संभव है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *