पार्श्वगायन के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी हैं देवी

Featured Post slide अंतर्राष्ट्रीय खोज गाँव-किसान फोटो गैलरी बिहार मनोरंजन सिवान
  • 6
    Shares

मुंबई। अपनी हिम्मत और लगन के बदौलत देवी संगीत के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने में कामयाब हुयी हैं लेकिन इन कामयाबियों को पाने
के लिये उन्हें अथक परिश्रम का सामना भी करना पड़ा है।

बिहार के सीवान जिले में जन्मी देवी के पिता प्रमोद  कुमार और मां सावित्री वर्मा प्रोफेसर हैं। देवी की दो बहन और एक भाई है। देवी के परिवार वालों
ने अपनी राह खुद चुनने की आजादी दे रखी थी। बचपन के दिनों से ही देवी की रूचि संगीत की ओर थी और वह इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। जब वह महज चार-पांच वर्ष की थी तभी से उन्होंने संगीत की साधना शुरू कर दी।

देवी ने गुरू जवाहर राय से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी। पार्श्वगायिका रेशमा और महान पार्श्वगायक मुकेश को आदर्श मानने वाली देवी
ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा छपरा से पूरी की। मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह दिल्ली चली गयी जहां उन्होंने गंधर्व संगीत महाविद्यालय से संगीत का छह वर्षीय कोर्स प्रभाकर पूरा किया। इस बीच उन्होंने जे पी यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई भी पूरी की। इसके साथ ही देवी ने श्री राम भरतीय कला केन्द्र से शास्त्रीय संगीत और कत्थक की शिक्षा भी हासिल की।

कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं। इस बात को साबित कर दिखाया है देवी ने। वर्ष 2003 में देवी के पहले अलबम पूर्वा बयार ने धूम मचा दी। इसके बाद देवी ने राजधानी पकड़ के आ जइवो, बावरिया, यारा और अइवो मोरे आंगन समेत 100 से अधिक अलबम में अपनी जादुई आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। देवी को पहचान हालांकि छठ के गीतों से अधिक मिली।

स्वर कोकिला शारदा सिन्हा के बाद देवी के गाये छठ गीतों को श्रोताओं ने बेहद पसंद किया। इसके बाद देवी को राज्यस्तरीय कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाने लगा जहां उन्होंने अवनी विशिष्ट गायन शैली से लोगों का दिल जीत लिया।

देवी की प्रतिभा अब सात समंदर पार भी सराही जाने लगी। दुबई में आयोजित एक कार्यकम में देवी को भोजपुरी फोक क्वीन सम्मान से अंलकृत किया गया। इस बीच देवी ने यूरोप, मास्को, दोहा कतर, थाइलैंड ,बैंकाक ,जर्मनी और मॉरीशस में अपनी शानदार प्रस्तुति से लोगों का दिल जीत लिया।

देवी ने कई फिल्मों में भी पार्श्वगायन किया है। अक्षय कुमार की मुख्य भूमिका वाली फिल्म थैक्यू में दवी ने आइटम नंबर रजिया गुडो में फंस गयी गीत को अपनी आवाज दी जिसे लोगों ने काफी पसंद किया।

बहुमुखी प्रतिभा की धनी देवी ने फिल्म जलसाधर की देवी का निर्माण भी किया जिसमें उन्होंने मुख्य भूमिका निभायी है। देवी ने हाल ही में अपनी रचित किताब माई डायरी नोट्स 2 का विमोचन किया है। देवी आज संगीत के क्षेत्र में अपनी विशिट पहचान बना चुकी है। वह अपनी सफलता का श्रेय कठिन परिश्रम के साथ ही अपने माता-पिता,गुरू और शुभचिंतको को भी देती है जिन्होंने उन्हें हर कदम
सपोर्ट किया।

अन्य ख़बरें

मोनू सिंह की अध्यक्षता में युवा शक्ति ने किया संगठन का विस्तार
कोरोना वायरस को लेकर चलाया गया जागरुकता अभियान
इंटरनेशनल यूथ सेंटर, मलेशिया में Guest Speaker के रूप में शामिल होंगे LND College के प्रोफेसर मुन्ना...
विद्यालयी सांस्कृतिक कार्यक्रम में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए बच्चें हुए पुरस्कृत
"थैंक्यू कोरोना वॉरियर्स" का हो रहा समुदाय मे असर
पटना: वंदे मातरम फाउंडेशन ने एक दीया शहीदों के नाम जलाने का किया आह्वान
MGCU के प्रोफ़ेसर संजय कुमार पर हुए हमले के विरोध में 11 छात्र संगठनों का प्रतिरोध मार्च
औरंगाबाद में मेडिकल कॉलेज के लिए 20 एकड़ निजी जमीन दान देंगे सांसद
थाना क्षेत्र में शराब पकड़ी गई तो सिर्फ थानेदार ही दोषी क्यों...डीएसपी, एसपी क्यों नहीं....?
कमेंटेटर लिटिल गुरु, वैश्विक शांति राजदूत पुरस्कार से सम्मानित
मिस इको इंटरनेशनल में भारत का प्रतिनिधत्व करेंगी आकांक्षा
M S College Motihari में एबीवीपी ने बाबा साहब की पुण्यतिथि सामाजिक समरसता के रूप में मनाया
सनोज मिश्रा की मर्डर मिस्‍ट्री फिल्‍म 'लफंगे नवाब' 27 सितंबर को देशभर में होगी रिलीज
स्वच्छता अभियान के तहत रामगढ़वा में भी चला स्वच्छता अभियान
पूर्व मंत्री राधा मोहन सिंह ने नगर विकास विभाग एवं जीविका के पदाधिकारियों के साथ की बैठक, स्वरोजगार ...
विश्व पर्यावरण दिवस पर सेमिनार का आयोजन,
Sunday Special में मिलिए : दाँत के डाॅक्टर, डाॅ. रजनीश कुमार शर्मा
आसाराम जी बापू का 55 वां आत्मसाक्षात्कार दिवस धूमधाम से मनाया गया
भोजपुरी फिल्म बदले की आग की शूटिंग भोपाल में शुरू
डॉ०नामवर सिंह हिंदी आलोचना के स्टेट्स मैन, पत्रकार भवन में हुई शोक सभा में शहर के नामचीन पत्रकार हुए...

  • 6
    Shares

4 thoughts on “पार्श्वगायन के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी हैं देवी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *