दुनिया में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक डाॅ. अब्दुल कादिर खान का हुआ देहांत

अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय

मोतिहारी। दुनिया भर में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के जनक डॉ अब्दुल कादिर खान का रविवार को निधन हो गया वे 85 वर्ष के थे उनका जन्म अविभाजित भारत के भोपाल में 1936 में हुआ था बंटवारे के बाद उनका परिवार पाकिस्तान चला गया था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा पाकिस्तान में हुई थी उसके बाद उन्होंने जर्मनी से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की।
बात 1998 की है जब पश्चिमी देशों के तीसरी आंख को फोड़ते हुए भारत ने राजस्थान के पोखरण रेंज में परमाणु विस्फोट करके पूरी दुनिया को आश्चर्यचकित कर दिया था। दूसरी बार परमाणु विस्फोट करके दुनिया को चुनौती देने वाले भारत को परमाणु संपन्न होता देख उन्हीं दिनों यूरोप में यूरेनियम सेंट्रीफ्यूगल के क्षेत्र में कार्य कर रहे कादिर खान का राष्ट्रवाद उन्हें पाकिस्तान खींच लाया।
1998 में ही पाकिस्तान भी परमाणु परीक्षण करके इस्लामिक जगत का पहला परमाणु संपन्न मुस्लिम राष्ट्र बना। इसके साथ ही कादिर खान को पाकिस्तान के सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया गया लेकिन अपने स्वभाव से कुख्यात इस पाकिस्तानी नागरिक ने ईरान लीबिया इराक एवं उत्तरी कोरिया को परमाणु तकनीकी संवर्धन डिजाइनिंग आदि में मदद भी की थी।
मालूम हो कि डॉक्टर खान कोरोना संक्रमित थे एवं उनका इलाज चल रहा था। शनिवार को उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने पर खान रिसर्च लैबोरेटरीज (KRL) अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन रविवार सुबह सात बजे उन्होंने अस्पताल में ही आखिरी सांस ली।
वही डॉक्टर खान के देहांत पर अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वह देश के नागरिकों के हीरो थे उन्होंने पाकिस्तान को परमाणु संपन्न देश बनाया।

Advertisements
आपको जानकर हैरानी होगी कि डॉ अब्दुल कादिर खान ने 1998 में पाकिस्तान ने परमाणु विस्फोट कराने के बाद। अपने पड़ोसी देश ईरान, लीबिया,इराक के साथ-साथ उत्तरी कोरिया को भी परमाणु संवर्धन डिजाइनिंग आदि में मदद करने के आरोप भी लगे थे। जिसे उन्होंने स्वीकार भी किया था। जिसके बाद अमेरिका ने उनपर प्रतिबंध भी लगाया था।

अन्य ख़बरें

दुल्हनिया चाही पाकिस्तान से एक्टर एक्ट्रेस पहुंचे मोतिहारी
तुरकौलिया: मुखिया बेबी आलम के नेतृत्व में महिलाओं ने निकाला कैंडल मार्च, पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे...
मोतिहारी बड़ी मस्जिद के इमाम जनाब मोहम्मद जलालुद्दीन कासमी साहब
अजीजुल हक साहब के नाम पर सिर्फ पुल का नाम रखना छोटी श्रद्धांजलि होगी बल्कि उनके नाम पर एक स्मारक लाइ...
शहीदों के सम्मान में निकाला गया कैंडल मार्च चाइनीस प्रोडक्ट के बहिष्कार का आवाहन
YouTube फिल्मों की नई दुनिया के साथ कमाई भी
मेहनत और परिश्रम से फैशन की दुनिया में पहचान बनायी प्रज्ञा पांडे ने
हमने एक कुशल नेता एवं राजनीतिज्ञ खो दिया: डॉ आर के गुप्ता
अमन क्लिनिक मोतिहारी में लगा दानपेटी। पेश की मानवता की मिसाल...!
LND College की NSS टीम ने स्वच्छता ही सेवा के तहत गांधी संग्रहालय में की सफाई
कृषि कुंभ 2019 का दूसरा दिन। सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद, उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रत...
मोतिहारी में प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिवस पर नमामि गंगे सहायतार्थ नीलाम की गई उपहारों की लगी प्रदर्...
वैश्विक शांति दूत सम्मान (पत्रकारिता)-2019 से पत्रकार नकुल कुमार सम्मानित।
LND मोतिहारी के NSS वालंटियर्स ने चलाया "स्वच्छता ही सेवा" जन जागरूकता अभियान
सवर्णों के साथ न्याय करो नहीं तो गद्दी छोड़ो: बिंटी शर्मा
गांधी जयंती के अगले दिन भी हुई प्रार्थना एवं सफाई
पटना से शुरू होगी शहादत सम्मान यात्रा, शहीद परिवारों की आर्थिक मदद करना है उद्देश्य
जनवादी लेखक संघ के तत्वावधान में मुंशी प्रेमचंद्र का 139वा जन्मदिन विचार गोष्ठी करके मनाया गया।
नेपाल में ₹2000,₹500 & ₹200 के भारतीय नोट बंद। आर्थिक अपराध एवं हवाला करोबार मुख्य कारण
याद किए गए संपूर्ण क्रांति के नायक जय प्रकाश नारायण

1 thought on “दुनिया में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक डाॅ. अब्दुल कादिर खान का हुआ देहांत

Leave a Reply