दुनिया में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक डाॅ. अब्दुल कादिर खान का हुआ देहांत

अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय

मोतिहारी। दुनिया भर में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के जनक डॉ अब्दुल कादिर खान का रविवार को निधन हो गया वे 85 वर्ष के थे उनका जन्म अविभाजित भारत के भोपाल में 1936 में हुआ था बंटवारे के बाद उनका परिवार पाकिस्तान चला गया था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा पाकिस्तान में हुई थी उसके बाद उन्होंने जर्मनी से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की।
बात 1998 की है जब पश्चिमी देशों के तीसरी आंख को फोड़ते हुए भारत ने राजस्थान के पोखरण रेंज में परमाणु विस्फोट करके पूरी दुनिया को आश्चर्यचकित कर दिया था। दूसरी बार परमाणु विस्फोट करके दुनिया को चुनौती देने वाले भारत को परमाणु संपन्न होता देख उन्हीं दिनों यूरोप में यूरेनियम सेंट्रीफ्यूगल के क्षेत्र में कार्य कर रहे कादिर खान का राष्ट्रवाद उन्हें पाकिस्तान खींच लाया।
1998 में ही पाकिस्तान भी परमाणु परीक्षण करके इस्लामिक जगत का पहला परमाणु संपन्न मुस्लिम राष्ट्र बना। इसके साथ ही कादिर खान को पाकिस्तान के सर्वोच्च पुरस्कार से सम्मानित किया गया लेकिन अपने स्वभाव से कुख्यात इस पाकिस्तानी नागरिक ने ईरान लीबिया इराक एवं उत्तरी कोरिया को परमाणु तकनीकी संवर्धन डिजाइनिंग आदि में मदद भी की थी।
मालूम हो कि डॉक्टर खान कोरोना संक्रमित थे एवं उनका इलाज चल रहा था। शनिवार को उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने पर खान रिसर्च लैबोरेटरीज (KRL) अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन रविवार सुबह सात बजे उन्होंने अस्पताल में ही आखिरी सांस ली।
वही डॉक्टर खान के देहांत पर अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वह देश के नागरिकों के हीरो थे उन्होंने पाकिस्तान को परमाणु संपन्न देश बनाया।

Advertisements
आपको जानकर हैरानी होगी कि डॉ अब्दुल कादिर खान ने 1998 में पाकिस्तान ने परमाणु विस्फोट कराने के बाद। अपने पड़ोसी देश ईरान, लीबिया,इराक के साथ-साथ उत्तरी कोरिया को भी परमाणु संवर्धन डिजाइनिंग आदि में मदद करने के आरोप भी लगे थे। जिसे उन्होंने स्वीकार भी किया था। जिसके बाद अमेरिका ने उनपर प्रतिबंध भी लगाया था।

अन्य ख़बरें

पटना आईएमए हाॅल में 'आइसा' एवं 'ऐपवा' का छात्रा संवाद, छात्राओं ने मुखर रूप कही मन की बात।
आज फिर जीने की तमन्ना है... शंकरदास केसरीलाल "शैलेन्द्र"
कन्हैया कुमार 9 Oct. को आऐंगे मोतिहारी..... स्पोर्ट्स क्लब में होगा लाल सलाम
मोतिहारी बड़ी मस्जिद के इमाम जनाब मोहम्मद जलालुद्दीन कासमी साहब
Manohar Parrikar was the first IITian chief minister of India:Anuradha Pal IAS
शहर में निकली मतदाता जागरूकता रैली, जिलाधिकारी रमण कुमार सहित तमाम अधिकारी एवं स्कूली बच्चें हुए शाम...
ब्रावो फार्मा को मिला भारत सरकार से covid19 किट के लिए लाइसेंस, अब 5 से 7 मिनट में पता चलेगा कोरोना ...
प्रतिरोध मार्च..... Live with NTC NEWS MEDIA
आज यानी 25 अप्रैल को मोतिहारी समाहरणालय गेट के बगल में रेत कलाकृति बनाएंगे सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र क...
प्रतिद्वंदी हार गए सामाजिक सरोकार जीत गया। राधा मोहन सिंह को प्रणाम करके आकाश सिंह ने जीता मोतिहारी ...
साइकिल के अविष्कारक मैकमिलन ने भी या नहीं सोचा होगा कि उसके साइकिल आविष्कार के वर्षों बाद भी साईकिल ...
सेवा सप्ताह के अंतर्गत पूर्व केंद्रीय मंत्री ने किया स्वास्थ्य शिविर का उद्घाटन
मेरे गुरु मेरे मार्गदर्शक....अभिनीत कुमार की कलम से
जिला पदाधिकारी सहित अन्य पदाधिकारी एवं कर्मियों ने किया रक्तदान
भारतीय पुरुष और महिला मुक्केबाज़ प्रशिक्षण और प्रतियोगिता के लिए इटली और फ्रांस की यात्रा करेंगे
केंद्रीय कृषि मंत्री ने LCD लगे रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना। ग्रामीण क्षेत्रों में दिखाई जाएगी ...
सेवा सप्ताह के अवसर पर प्लास्टिक वस्तुओं के उपयोग की समाप्ति जल संरक्षण तथा संवर्धन पर सेमिनार का आय...
सपने ले लो........सपने। यहां सपनों के भी खरीददार मिल जाएंगे।
चंपारण पहुंचे "साइकिल मैन" रतन रंजन का हुआ भव्य स्वागत
मोतिहारी जिला महिला जदयु का एकदिवसीय महिला समागम संपन्न, नीतीश कुमार के कार्यों की संपेत स्वर में सर...

1 thought on “दुनिया में परमाणु तस्करी के लिए कुख्यात पाकिस्तान के परमाणु वैज्ञानिक डाॅ. अब्दुल कादिर खान का हुआ देहांत

Leave a Reply