पढ़िए पूरा सच…तेलंगना कैडर की IAS “स्मिता सभरवाल” के बारे में। इन्हीं का फोटो चंपारण में रानी कुमारी के नाम से वायरल हो रहा है…

Featured Post slide खोज बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राजनीति शिक्षा स्पेशल न्यूज़
  • 25
    Shares

मोतिहारी /नकुल कुमार

मोतिहारी। स्मिता सभरवाल तेलंगाना कैडर से २००१ बैच की भारतीय प्रशासनिक अधिकारी हैं। वह लोगो में “पीपल्स ऑफिसर” नाम से भी लोकप्रिय हैं। वह पहली महिला आईऐएस अधिकारी हैं, जीने मुख्यमंत्री कार्यालय में नियुक्त किया गया हैं।

स्मिता का जन्म पश्चिम बंगाल में हुआ था। उनकी अधिकतर शिक्षा भारत के वभिन्न हिस्सों में हुई। उनके पिता कर्नल प्रणब दास एक सेनानिवृत्त सेना अधिकारी थे, जों की भारतीय सेना में सेवा करते थे। उनकी स्कूली शिक्षा के आखरी दो साल सेट ऐन मार्रेद्पल्ली, हैदराबाद में बीते। बाद में उन्होंने सेंट फ्रांसिस डिग्री कॉलेज से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री की।

वह “संघ लोक सेवा आयोग” की परीक्षा पास करने वाली सबसे कम उम्र के अधिकारियो में शामिल हैं। उन्होंने सम्पूर्ण भारत में राष्ट्रीय स्तर पर चौथा स्थान हासिल किया और IAS के लिए चयन किया।

मसूरी की नेशनल अकादमी से प्रशासनिक प्रशिक्षण पूरा होने के बाद परिवीक्षाधीन दिनों के दौरान उन्हे आदिलाबाद जिले में प्रशिक्षण दिया गया। उनको अपना पहला स्वतंत्र प्रभार मदनपल्ली, चित्तूर के उप कलेक्टर के रूप में मिला था, जिससे उन्हें भूमि अधिग्रहैण प्रबंधन और जिला प्रशासन का अनुभव मिला।

इसके बाद उन्होंने ग्रामीण विकास क्षेत्र में बतौर परियोजना निदेशक, डीआरडीऐ (कडापा) में काम किया। वारंगल में नगर निगम आयुक्त के रूप में उन्होंने अपने कार्यकाल ले दौरान “फण्ड योर सिटी” नामक एक योजना शुरू की जिसके अंतर्गत बड़ी संख्या में सार्वजानिक उपयोगिताएं जैसे ट्राफिक जंक्शन, फुट ओवर-ब्रिज, बस स्टैंड, उद्यान, आदि सार्वजानिक-निजी भागीदारी के साथ बनाये गए थे। इसके बाद उन्होंने वाणिज्य कर, विशाखापट्नम में बतौर उपयुक्त पद संभाला और कुरनूल व हैदराबाद के संयुक्त कलेक्टर के रूप में भी सेवा की।

साल 2011 में अप्रैल में उन्होंने जिला कलेक्टर के रूप में “करीमनगर जिले” में कार्यभार संभाला, जहाँ उन्होंने स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में विशेष योगदान दिया। करीमनगर जिले को प्रधानमंत्री के २० अंक कार्यक्रम के दौरान “सर्वश्रेष्ट जिले” से सम्मानित किया गया था।

 मतदान प्रतिशत बढ़ने के लिए उन्होंने एक “मतदान पंदुगा” नामक एक योजना भी चलायी थी। उन्होंने “लोगो के अधिकारी” के रूप में जाना जाता हैं और तकनीक के क्षेत्र में नवीनतम कार्यक्रमों का उपयोग, विशेष रूप से क्षेत्र में सरकारी कार्यक्रमों को लागू कराने के लिए जाना जाता हैं।

 स्काइप के जरिए सरकारी डॉक्टरों की निगरानी ने सार्वजनिक स्वास्थ्य क्षेत्र में परिदृश्य को पूरी तरह बदल दिया है। विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए सॉफ्टवेयर के माध्यम से सरकारी स्कूलों के प्रदर्शन की निगरानी में करीमनगर और मेडक जिले अपने कार्यकाल के दौरान राज्य में शीर्ष स्थान बन चुके हैं।

Advertisements

अन्य ख़बरें

संघर्ष, चुनौती और कामयाबी का दूसरा नाम है काजल यादव, सामाजिक क्षेत्र में है खास पहचान।
वी एल वैश्यन्त्री बने हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष
बिभा कुमारी के संग परिणय सूत्र में बंधे पीआरओ संजय भूषण पटियाला, पप्‍पू यादव समेत भोजीवुड ने दी बधाई
अखिलेश सिंह ने मदर डेयरी पर बोलकर अपना पोल स्वयं खोल दिया: सचिंद्र सिंह कल्याणपुर विधायक
आज मेरी फोटो अत्यधिक सुंदर है,क्योंकि इसमें मेरी मां है: काजल राघवानी
पटना से शुरू होगी शहादत सम्मान यात्रा, शहीद परिवारों की आर्थिक मदद करना है उद्देश्य
सुपरस्टार अरविंद अकेला कल्लू की फिल्म 'छलिया' का रिलीज से पहले होगा मुंबई में प्रीमियर
ABVP प्रखंड इकाई हरसिद्धि: दो हजार छात्र-छत्राओं को सदस्यता दिलाकर किया गया अभियान का समापन
याद किए गए संपूर्ण क्रांति के नायक जय प्रकाश नारायण
कॉलेजियम व्यवस्था को भारतीय न्याय व्यवस्था में अभिशाप की तरह मानता हूं: माधव आनंद
पत्थरों में खो गई मोरी देवी मैया... बेटियों को समर्पित, पत्रकार नकुल कुमार की अनोखी कविता
भारत लीडरशिप फेस्टिवल में सम्मानित होंगे चंपारण के आदित्य
एनएसएस द्वारा स्वच्छता ही सेवा तहत की जा रहे हैं 7 दिवसीय कार्यक्रम का हुआ समापन
सनकी दरोगा.......प्रेस कॉन्फ्रेंस रवि किशन अंजना सिंह लाइव
जिला पदाधिकारी सहित अन्य पदाधिकारी एवं कर्मियों ने किया रक्तदान
D.El.ED. के तहत अप्रशिक्षित शिक्षकों की परीक्षा आज
लापता नहीं बल्कि पारिवारिक कलह के कारण राजेंद्र साह ने अपना मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया था।।
चांद की कक्षा में पहुंचा chandrayaan-2 अगले माह 7 सितंबर को होगी लैंडिंग
गोलीबारी में घायल शिक्षक की हालत स्थिर, जदयू महिला मोर्चा अध्यक्ष कंचन गुप्ता ने मिलकर दिलाया न्याय ...
दस दिवसीय खादी फेस्ट 2019 का हुआ समापन, आयोजन समिति ने मोतिहारी वासियों का जताया आभार

  • 25
    Shares

1 thought on “पढ़िए पूरा सच…तेलंगना कैडर की IAS “स्मिता सभरवाल” के बारे में। इन्हीं का फोटो चंपारण में रानी कुमारी के नाम से वायरल हो रहा है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *