डॉ हेना चंद्रा के “चंद्रा लाइफ लाइन हॉस्पिटल” में हुआ विचित्र बच्चे का जन्म

Featured Post गाँव-किसान बिहार मोतिहारी स्पेशल न्यूज़

मोतिहारी शहर की सुप्रसिद्ध स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हेना चंद्रा के बेलवन में स्थित नर्सिंग होम में एक विचित्र या anencephalic बच्चे का जन्म हुआ है जिसकी मृत्यु जन्म के तुरंत बाद ही हो गई।नीरपुर के रहने वाले संतोष पांडे की पत्नी किरण देवी को 8 महीने का गर्भ था और पेट में दर्द की शिकायत के बाद मोतिहारी स्थित डॉक्टर चंद्रा नर्सिंग होम में एडमिट कराया गया जहां उन्होंने एक विचित्र बच्चे को जन्म दिया जिसका मस्तिष्क एवं शरीर का अन्य भाग पूरी तरह से डेवलप नहीं था और जन्म के तुरंत बाद ही इस बच्चे की मृत्यु हो गई।

इस विषय पर जब रिपोर्टर नकुल कुमार ने डॉक्टर हेना चंद्रा से बातचीत की तो उन्होंने बताया कि ऐसी स्थिति को anencephalic कहते हैं इस स्टेज में बच्चे का शरीर का कोई मेजर हिस्सा या मस्तिष्क या तो अनुपस्थित रहता है अथवा उसका डेवलपमेंट ठीक से नहीं हुआ रहता है। ऐसे बच्चे के जन्म के बाद उसके बचने का चांस लगभग शून्य होता है। ऐसे बच्चों के जन्म का कारण या तो अनुवांशिक होता है अथवा पोषक तत्वों की कमी से होती है।

यह पूछे जाने पर कि किसी प्रेग्नेंट स्त्री को कैसे मालूम चलेगा कि उसका बच्चा नॉर्मल है या एबनॉर्मल इसबात डॉक्टर चंद्रा ने बताया कि….. इसका सबसे आसान तरीका है अल्ट्रासाउंड। अल्ट्रासाउंड के द्वारा ही पता किया जा सकता है कि गर्भ की स्थिति कैसी है…? उस में पल रहा बच्चा कैसा है…? सीधा है, उल्टा है या उसका वास्तविक पोजीशन क्या है…?

आगे डॉक्टर चंद्रा कहती हैं कि प्रत्येक गर्भस्थ महिला को कम से कम तीन-चार बार अल्ट्रासाउंड अवश्य ही कराना चाहिए, ताकि बच्चे की वास्तविक स्थिति की जानकारी मिलती रहे एवं समय रहते उसका समुचित इलाज किया जा सके ।

गर्भवती स्त्री के लिए अल्ट्रासाउंड के विभिन्न स्टेज:-

  • प्रथम अल्ट्रासाउंड स्टेज( प्रेगनेंसी होते ही) –

जब आपको पता चला कि आप प्रेग्नेंट हैं उस समय अल्ट्रासाउंड कराना होता है ताकि पता चले कि सब कुछ सही पोजीशन पर है अथवा नहीं।

  • दूसरा अल्ट्रासाउंड स्टेज (18 से 20 वीक में )-

इसे लेवल 2 अल्ट्रासाउंड स्टेज भी कहा जाता है स्टेज में पता चलता है कि बच्चा का सारा और जन ठीक से काम कर रहा है अथवा नहीं सारा सिस्टम नॉर्मल है अथवा नहीं

  • तीसरा अल्ट्रासाउंड स्टेज (सातवें माह में):-

             इस स्टेज में अल्ट्रासाउंड के द्वारा पता चलता है कि गर्भ में जो बच्चा है उसका ग्रोथ कम तो नहीं है, गर्भ में पानी की कमी तो नहीं है ताकि समय रहते उसको मैनेज किया जा सके।

  • चौथा अल्ट्रासाउंड स्टेज (डिलीवरी अथवा लेबर पेन के समय):-

              चौथा एवं अंतिम अल्ट्रासाउंड लेबर पेन के समय कराया जाता है ताकि इस स्थिति में बच्चे का सही पोजीशन पता चल सके कि बच्चा सीधा है, आडे तिरछा है, उल्टा है या उसका एक्जेक्ट पोजीशन क्या है…?

           यह पूछे जाने पर कि बहुत बार मरीजों की शिकायत होती है कि डॉक्टर अल्ट्रासाउंड अपने फायदे के लिए कराते हैं……..इसपर डॉक्टर चंद्रा मुस्कराते हुए कहतीं हैं कि डॉक्टर सिर्फ डॉक्टर है भगवान नहीं । मरीज को क्या प्रॉब्लम है यह या तो डॉक्टर जानता है या फिर भगवान ही।
चुकि डॉक्टर ने उस विषय की पढ़ाई की है और कुछ उसके अपने अनुभव है जिसके आधार पर वह देखकर अथवा छूकर बहुत हद तक पता कर लेता है कि उसके पेशेंट को क्या प्रॉब्लम है किंतु जो पेशेंट है, जो प्रेग्नेंट महिला है उसको कैसे मालूम चलेगा कि उसको क्या प्रॉब्लम है उसके गर्भ में जो बच्चा है उसका एग्जैक्ट पोजीशन क्या है…? बच्चा सीधा है…? बच्चा टेढ़ा है…? बच्चा उल्टा है या बच्चे की सही स्थिति क्या है….? और इस बात की सही जानकारी मरीज को प्रमाणिक तौर पर अल्ट्रासाउंड के द्वारा ही दी जा सकती है।

                            अपने नर्सिंग होम में जन्मे इस विचित्र बच्चे के जन्म पर उन्होंने कहा कि इसतरह के केसेज को रेयरेस्ट कह सकते हैं। क्योंकि इस तरह के मामले काफी कम देखने को मिलते हैं ,जेनरल केसेज में नॉर्मल डिलीवरी होती है और जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ होते हैं।।

अन्य ख़बरें

72वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर मोतिहारी के ऐतिहासिक गांधी मैदान में जिलाधिकारी ने किया झंडोत्तोलन
शपथ ग्रहण के दौरान दिल्ली के कौन-कौन से रास्ते रहेंगे बंद...पढ़िए
नरकटिया विधायक शमीम अहमद ने किया सरकारी भवन का उद्घाटन । बनकटवा प्रखंड अंतर्गत इनरवा फुलवार पंचायत म...
अपराधियों ने किया घात लगाकर फेरीवाले पप्पू दास पर किया हमला
11 महिलाओं ने जीता मिसेज़ एंड मिस इंडिया यूनिवर्सल 2019 का ताज और टाइटल
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने लिखी दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल को चिट्ठी...
खाद व्यवसायी की बेटी ने IIT JEE ADVANCED में पाई सफलता
परसौनी कृषि फॉर्म में केंद्रीय कृषि मंत्री ने किया 70 लाख की योजनाओं का उद्घाटन एवं 50 लाख की योजनाओ...
विद्यार्थी परिषद के प्रांतीय कार्यालय में पुलिस के द्वारा हुई छापेमारी के खिलाफ नीतीश कुमार का पुत...
भोजपुरी फिल्म बदले की आग की शूटिंग भोपाल में शुरू
ताकत एवं पैसे के बल पर चुनाव जीतने वाले बाहुबली नेता लोकतंत्र के लिए खतरा हैं : प्रोफेसर दुर्गेशमणि ...
ढाका में स्थिति हुआ सामान्य... अफवाह फैलाने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई
केंद्र सरकार सबका साथ-सबका विकास एवं सबका विश्वास मंत्र के साथ चल रही है: राधा मोहन सिंह
GGPC-2019 के दौरान सैंड आर्टिस्ट मधुरेंद्र कुमार वैश्विक शांति राजदूत पुरस्कार से सम्मानित
29 नवंबर की रैली को सफल बनाने के लिए बैठक संपन्न, जनसंख्या के अनुसार सत्ता में भागीदारी चाहिए: चंद्र...
दूसरों की मदद कर अपने वैलेंटाइन को बनाए खास : मौसम शर्मा
राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर चंपारण का प्राण Logo का जिलाधिकारी रमण कुमार ने किया अनावरण
कोरोना का टीका नहीं लेने वाले लोगों को नहीं मिलेगा राशन और...
ऑटो एंव ई-रिक्शा चालक संघ ने बलुआ चौक पर लगाया प्याऊ
जीविका दीदीयों ने पुराने वृक्षों को बांधा राखी, उनकी रक्षा का लिया संकल्प

Leave a Reply