डॉ०नामवर सिंह हिंदी आलोचना के स्टेट्स मैन, पत्रकार भवन में हुई शोक सभा में शहर के नामचीन पत्रकार हुए शामिल

गाँव-किसान बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राजनीति राष्ट्रीय शिक्षा साहित्य स्पेशल न्यूज़

NTC NEWS MEDIA 

डॉ०नामवर सिंह हिंदी आलोचना के स्टेट्स मै

जर्नलिस्ट वेलफेयर सोसायटी  मोतिहारी पूर्वी चंपारण द्वारा  पत्रकार भवन में आज डॉ०नामवर सिंह के निधन पर एक श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन सोसाइटी के अध्यक्ष संजय ठाकुर की अध्यक्षता में किया गया।

श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए श्री ठाकुर ने कहा कि पुलवामा में आतंकवादी हमले में वीर सैनिकों की शहादत से पूरा देश मर्माहत है इसी बीच हिंदी के प्रख्यात आलोचक डॉ०नामवर सिंह के देहावसान का दुखद समाचार मिला। हिंदी साहित्य और आलोचना के शलाका पुरुष नामवर जी का चले जाना एक अपूर्णीय क्षति है।

हिंदुस्तान के कार्यालय प्रभारी सतीशचंद मिश्र ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि पिछले दिनों हिंदी कथा साहित्य की महान लेखिका कृष्णा सोबती हम से बिछड़ गईं और अब डॉ०नामवर सिंह चले गए। पंडित रामचंद्र शुक्ल के बाद इतना बड़ा आलोचक हिंदी साहित्य में दूसरा कोई नहीं हुआ। श्री मिश्र ने नामवर सिंह के व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए उनके संघर्षों और सृजन कर्म बताते हुए कहा कि बकौल नामवर सिंह जीवन यात्रा में पीछे मुड़ कर देखने का कोई औचित्य नहीं है।

वरीय पत्रकार चंद्रभूषण पांडेय ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि हिंदी साहित्य और समालोचना में नामवर सिंह का योगदान इतना बड़ा है कि बिना उसकी चर्चा किया हिंदी साहित्य और समालोचना का इतिहास अधूरा है।

Advertisements

युवा शायर और नगर पार्षद गुलरेज़ शहज़ाद ने कहा कि नामवर सिंह हिंदी आलोचना के वाचिक परंपरा के सृजनधर्मी थे।प्रसिद्धि और प्रतिष्ठा के जिस शिखर पर नामवर जी दिखते हैं वह अज्ञेय के बाद कोई दूसरा नहीं दिखता।

समाजसेविका बिंटी शर्मा ने नामवर जी की कविता – नयन को घेर लेते घन,स्वयं में रह न पाता मन/ लहर से मूक अधरों पर,व्यथा बनती मधुर सिहरन…. के माध्यम से श्रद्धाजंलि अर्पित की।

संजय पांडेय ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने आलोचना के क्षेत्र में जो काम किया है वह अद्वितीय है।उन्होंने अपनी शर्तों पर जीवन जिया कभी समझौता नहीं किया।

ब्रजेश मिश्रा ने कहा कि हिंदी में कोई दूसरा नामवर पैदा नहीं होगा।हिंदी समालोचना की दुनिया में जो रिक्तता आई है वह भरी नहीं जा सकती।नामवर जी ने नागफनी के जैसी जिंदगी गुज़री लेकिन कभी विचलित नहीं हुए बल्कि निरंतर संघर्ष करते रहे।इस अवसर पर राकेश कुमार,कैलाश गुप्ता,रवीश मिश्रा,अमित कुमार,गिरीश मिश्र,अरुण सिंह,सचिन पांडेय,शैलेंद्र मिश्र बाबा और समाजसेवी मनोज कुमार ने अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। धन्यवाद ज्ञापन जर्नलिस्ट वेलफेयर सोसाइटी के सचिव अरुण तिवारी ने किया।

अन्य ख़बरें

मुंशी सिंह कॉलेज मोतिहारी: NSS के समर इंटर्नशिप कार्यक्रम के अन्तर्गत आठवे दिन
मंत्री ने दिया सामुदायिक किचन शुरू करने का आदेश कल से खिलाया जाएगा बाढ़ पीड़ितों को खाना
कोई भी श्रमिक ई-श्रम कार्ड से नहीं रहेंगे वंचित : शकील रजा
ढाका में भी छठ की तैयारियों के बीच खूब हुई खरीदारी
अखिलेश सिंह का पोल खोल प्रेस कॉन्फ्रेंस, मदर डेयरी प्रोजेक्ट को किया कटघरे में खड़ा
उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी से मिली "सेल्फी विद ट्री" की टीम
कोरोना वायरस को लेकर चलाया गया जागरुकता अभियान
इनर व्हील क्लब ऑफ पटना ने बाल श्रमिकों के बीच अवेरनेस प्रोग्राम करवायाA
बाढ़ एवं कोरोना दोनों ही आपदा से बढ़ी संख्या में लोग प्रभावित हुए हैं: पूर्व कृषि मंत्री
उपेंद्र कुशवाहा ने दिया इस्तीफा। महागठबंधन में शामिल होकर मोतिहारी से लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव
पूर्व वार्ड पार्षद भोला गुप्ता की अध्यक्षता में नगर के दक्षिण मंडल में चला संगठन पर्व सदस्यता अभियान
नागरिकता संशोधन अधिनियम-2019 पर कल्याणपुर में संवाद कार्यक्रम 
एशिया कप का महा मुकाबला आज। शाम 5:00 बजे से लाइव
ग्लोबल पीस सम्मान ने नवाजे गए प्रशांत प्रताप
आत्मनिर्भर भारत अभियान आधुनिक भारत की पहचान बन रहा है: प्रकाश अस्थाना
आँसू फिल्म वेब सीरीज का मुहूर्त के साथ साहित्यकार हुए सम्मानित
किसानों एवं उद्यमियों के लिए निर्बाध विद्युत की आपूर्ति वरदान साबित हुआ है: डीएम
गुरु पूर्णिमा विशेष: जीवन दर्शन-गुरु की महत्ता एवं भ्रम से वास्तविकता की ओर' विषय पर एलएनडी कॉलेज मे...
बिटिया से घर आंगन गुलजार....मधुबाला सिन्हा
शहीद सैनिक परिवारों के स्वावलंबन के लिए ब्रावो फार्मा ने उठाया यह जरूरी कदम

Leave a Reply