डॉ०नामवर सिंह हिंदी आलोचना के स्टेट्स मैन, पत्रकार भवन में हुई शोक सभा में शहर के नामचीन पत्रकार हुए शामिल

गाँव-किसान बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राजनीति राष्ट्रीय शिक्षा साहित्य स्पेशल न्यूज़

NTC NEWS MEDIA 

डॉ०नामवर सिंह हिंदी आलोचना के स्टेट्स मै

जर्नलिस्ट वेलफेयर सोसायटी  मोतिहारी पूर्वी चंपारण द्वारा  पत्रकार भवन में आज डॉ०नामवर सिंह के निधन पर एक श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन सोसाइटी के अध्यक्ष संजय ठाकुर की अध्यक्षता में किया गया।

श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए श्री ठाकुर ने कहा कि पुलवामा में आतंकवादी हमले में वीर सैनिकों की शहादत से पूरा देश मर्माहत है इसी बीच हिंदी के प्रख्यात आलोचक डॉ०नामवर सिंह के देहावसान का दुखद समाचार मिला। हिंदी साहित्य और आलोचना के शलाका पुरुष नामवर जी का चले जाना एक अपूर्णीय क्षति है।

हिंदुस्तान के कार्यालय प्रभारी सतीशचंद मिश्र ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि पिछले दिनों हिंदी कथा साहित्य की महान लेखिका कृष्णा सोबती हम से बिछड़ गईं और अब डॉ०नामवर सिंह चले गए। पंडित रामचंद्र शुक्ल के बाद इतना बड़ा आलोचक हिंदी साहित्य में दूसरा कोई नहीं हुआ। श्री मिश्र ने नामवर सिंह के व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए उनके संघर्षों और सृजन कर्म बताते हुए कहा कि बकौल नामवर सिंह जीवन यात्रा में पीछे मुड़ कर देखने का कोई औचित्य नहीं है।

वरीय पत्रकार चंद्रभूषण पांडेय ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि हिंदी साहित्य और समालोचना में नामवर सिंह का योगदान इतना बड़ा है कि बिना उसकी चर्चा किया हिंदी साहित्य और समालोचना का इतिहास अधूरा है।

Advertisements

युवा शायर और नगर पार्षद गुलरेज़ शहज़ाद ने कहा कि नामवर सिंह हिंदी आलोचना के वाचिक परंपरा के सृजनधर्मी थे।प्रसिद्धि और प्रतिष्ठा के जिस शिखर पर नामवर जी दिखते हैं वह अज्ञेय के बाद कोई दूसरा नहीं दिखता।

समाजसेविका बिंटी शर्मा ने नामवर जी की कविता – नयन को घेर लेते घन,स्वयं में रह न पाता मन/ लहर से मूक अधरों पर,व्यथा बनती मधुर सिहरन…. के माध्यम से श्रद्धाजंलि अर्पित की।

संजय पांडेय ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने आलोचना के क्षेत्र में जो काम किया है वह अद्वितीय है।उन्होंने अपनी शर्तों पर जीवन जिया कभी समझौता नहीं किया।

ब्रजेश मिश्रा ने कहा कि हिंदी में कोई दूसरा नामवर पैदा नहीं होगा।हिंदी समालोचना की दुनिया में जो रिक्तता आई है वह भरी नहीं जा सकती।नामवर जी ने नागफनी के जैसी जिंदगी गुज़री लेकिन कभी विचलित नहीं हुए बल्कि निरंतर संघर्ष करते रहे।इस अवसर पर राकेश कुमार,कैलाश गुप्ता,रवीश मिश्रा,अमित कुमार,गिरीश मिश्र,अरुण सिंह,सचिन पांडेय,शैलेंद्र मिश्र बाबा और समाजसेवी मनोज कुमार ने अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित की। धन्यवाद ज्ञापन जर्नलिस्ट वेलफेयर सोसाइटी के सचिव अरुण तिवारी ने किया।

अन्य ख़बरें

इनर व्हील क्लब ऑफ पटना ने बाल श्रमिकों के बीच अवेरनेस प्रोग्राम करवायाA
मोतिहारी नीतीश सम्मेलन के दौरान राज्य सभा सांसद सुशील मोदी ने गिनाई कृषि कानून की खूबियां
चलो गाँव की ओर के तहत रमगढ़वा के शिवनगर पंचायत का हुआ भम्रण
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान नेता जी सो रहे थे अथवा आंख बंद करके केंद्रीय मंत्री को गंभीरता से सुन रहे ...
तबे एकला चलो रे......... रविन्द्र नाथ टैगोर
बारात में आए बच्चे को छोड़कर बराती हुए रफूचक्कर, परिजनों की खोजबीन जारी
दिल्ली सरकारी विद्यालयों की दशा दिशा सुधारने के लिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सम्मानित
NSS ( राष्ट्रीय सेवा योजना )....???
रेलवे के अधिकारियों के साथ बैठक में जिला में रेलवे के कई योजनाओं की समीक्षा
पटना में मोबाइल वैन से बिकने लगीं सब्जियां... पहले चरण में ब्रांड "तरकारी" से जुड़ेंगे 5 जिले
Save Child Beggar संस्था के द्वारा मेडिकल कैंप का हुआ आयोजन
कार्यपालिका की संसद के प्रति जवाबदेही विषय पर तीन दिवसीय कार्यक्रम का हुआ आयोजन
प्रोटेक्ट गांधी दर्शन के अवसर पर बोले पूर्व कृषि मंत्री गांधी का मूल दर्शन सबका साथ सबका विकास था
चकिया में कलश यात्रा एवं शोभा यात्रा का हुआ भव्य आयोजन 1051 कन्याएं हुई शामिल
अंतरराष्ट्रीय संस्था द्वारा कर्मवीर चक्र से सम्मानित होंगे मोटिवेशनल गुरु मुन्ना कुमार
पटना से शुरू होगी शहादत सम्मान यात्रा, शहीद परिवारों की आर्थिक मदद करना है उद्देश्य
कला संस्कृति मंत्री ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने नरकटिया/रक्सौल विधानसभा क्षेत्रों के आम निर्वाचन के तहत की गई तैयारियों ...
Munshi Singh College live: अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का सदस्यता अभियान अंतिम चरण में
कंचन गुप्ता बनी अखिल भारतीय तैलिक महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष

Leave a Reply