जेएनयू के पूर्व छात्र कन्हैया कुमार की कलम से…फीस बढ़ाना ज़रूरत या साज़िश…?

Featured Post खोज राष्ट्रीय शिक्षा
  • 25
    Shares

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार जेएनयू के वर्तमान प्रकरण पर अपनी बेबाक राय रखते हुए कहते हैं कि फीस की बढ़ोतरी जरूरत थी अथवा एक साजिश…!

नई दिल्ली। जेएनयू की फ़ीस बढ़ाकर और लोन लेकर पढ़ने का मॉडल सामने रखकर सरकार ने एक बार फिर साफ़ कर दिया है कि विकास की उसकी परिभाषा में हमारे गाँव-कस्बों के लोग शामिल ही नहीं हैं। जिन किसान-मजदूरों के टैक्स के पैसे से विश्वविद्यालय बना, उनके ही बच्चों को बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा तो देश के युवा चुप बैठेंगे, ऐसा हो ही नहीं सकता

सरकार अभी सब कुछ बेच देने के मूड में है। देश के लोगों के टैक्स के पैसे से बने सरकारी उपागम लगातार निजी क्षेत्र के हवाले किए जा रहे हैंI हर साल दिल खोलकर अमीरों के करोड़ों अरबों रु के लोन माफ़ करने वाली ये सरकार सरकारी शिक्षण संस्थानों के बजट में लगातार कटौती कर रही है और शिक्षा को बाज़ार के हवाले कर रही हैI सरकारी स्कूलों की हालत किसी से छुपी नहीं है और निजी स्कूल देश की बहुसंख्यक आबादी के बजट से बाहर हो चुके हैंI दम तोड़ते इन्ही सरकारी स्कूलों से पढ़कर अखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा पास करके जब गरीबों के बच्चे देश के सर्वश्रेठ विश्वविद्यालय में पहुच रहे हैं तो ये बात भी देश के करोडपति सांसदों और सरकार के राग-दरबारियों को अखर रही हैI शिक्षा के जेएनयू मॉडल पर लगातार हमला इसलिए किया जा रहा है ताकि जिओ यूनिवर्सिटी के मॉडल को देश में स्थापित किया जा सके जहाँ सिर्फ अमीरों के बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकेंI फूको ने कहा है कि “नॉलेज इज पॉवर”I देश के सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक संसाधनों पर कब्ज़ा करके रखने वाले लोग गरीबों को ज्ञान प्राप्ति से भी दूर कर देना चाहते हैं और इसीलिए इन्हें जेएनयू मॉडल से इतनी नफरत है।

अजीब बात है कि देश के प्रधानमंत्री लगातार 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने की बात कह रहे हैं लेकिन 5000 बच्चों को पढ़ाने के लिए देश की सरकार के पास पैसा नहीं हैI सरकार एक मूर्ति पर 3 हज़ार करोड़ रुपये खर्च कर सकती है, नेताओं के लिए 200 करोड़ के प्राइवेट जेट खरीद सकती है, लेकिन विश्वविद्यालयों के लिए उसके पास बजट नहीं हैं। विश्वविद्यालय कोई मॉल नहीं है जहाँ आप 50% डिस्काउंट का बोर्ड लटका दें। एक प्रगतिशील समाज को शिक्षा को निवेश के नज़रिये से देखना चाहिए न कि खर्च के।

असल में मामला पैसे का है ही नहीं, बल्कि ग़रीब किसान-मज़दूरों के बच्चों और लड़कियों को कैंपसों से दूर रखने की साज़िश का है। सरकार ने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा दिया और काम किया ‘फ़ीस बढ़ाओ, बेटी हटाओ’ का। जिस जेएनयू में लगातार कई सालों से लड़कियों की संख्या लड़कों से अधिक रही है, वहाँ फ़ीस बढ़ने से न जाने कितनी लड़कियों के बेहतर कल के सपने चकनाचूर हो गए हैं। पिछले कुछ सालों में प्रवेश परीक्षा का मॉडल बदलकर वंचित समुदायों के बच्चों को जेएनयू से दूर रखने की तमाम साजिशों के बावजूद आज भी जेएनयू में 40% विद्यार्थी उन परिवारों से आते हैं जिनकी मासिक आय 12000 रु से कम हैI सरकार फीस बढाकर इन तबकों से आने वाले विद्यार्थियों के हौसलों और उम्मीदों को तोड़ देना चाहती है।

सत्ता में काबिज ताकतों ने हमेशा से वंचित लोगों को ज्ञान से दूर रखने के लिए तमाम तरह के षड़यंत्र रचें हैंI द्रोणाचार्य ने एकलव्य का अंगूठा इसलिए कटवा दिया ताकि राजा का बेटा अर्जुन सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर बना रहेI आज भी सरकार ज्ञान पर मुट्ठी भर लोगों का कब्ज़ा बनाए रखना चाहती है, क्योंकि ज्ञान में वो ताकत है जिसके बलबूते गरीब लोगों के बच्चे अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैंI फ़ीस इतनी अधिक हो कि ग़रीब का बच्चा पीएचडी करके किसी यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर न बने। वह या तो दसवी पास करके ढाबा पर काम करे या बीए करके घर-घर जाकर सामान डिलीवरी करे। अमीर के बच्चे निश्चिंत होकर पढ़ें और ग़रीब के बच्चे पार्ट टाइम जॉब करके फ़ीस चुकाएँ, यह असमानता बढ़ाने वाली बात है या नहीं?

सरकार चाहती है की किसानों को उनकी फसल पर सब्सिडी न मिले लेकिन उसी किसान की फसल पर बने खाने पर संसद की कैंटीन में देश को करोडपति सांसदों को सब्सिडी मिलती रहनी चाहिएI यूनिवर्सिटी में गरीब बच्चों को रहने के लिए फ्री में हॉस्टल न मिले लेकिन सरकार से लाखों रु तन्खाव्ह पाने वाले इन्ही करोडपति सांसदों को लुटियंस में फ्री में रहने के लिए बंगला मिलता रहना चाहिएI राजनीतिक दलों को चंदा देने वाले अरबपति उद्योगपतिओं के बैंक के लोन माफ़ हो जाने चाहिए और गरीब बच्चों को लोन के जाल में फसने पर मजबूर किया जाना चाहिए।

सरकार युवाओं की ऐसी पीढ़ी बनाना चाहती है जो लोन लेकर पढ़ाई करे और बाद में कर्ज़ चुकाने में ही उसकी हालत इतनी ज़्यादा ख़राब हो जाए कि उसके पास बुनियादी सवाल उठाने का न ही समय हो न ही ताकत। साज़िश करके जेएनयू के बारे में ग़लत बातें फैलाई जा रही हैं। जैसे, यह कहा जा रहा है कि यहाँ हॉस्टल फ़ीस बस 10 रुपये महीना है, जबकि सच तो यह है कि यहाँ के हॉस्टल में विद्यार्थी पहले से ही लगभग तीन हज़ार रुपये महीने मेस बिल देते आए हैं। यही नहीं, जो लोग जेएनयू में पाँच साल में पीएचडी करने की बात कहते हैं, उन्हें असल में यह पूछना चाहिए कि यूपी-बिहार के सरकारी कॉलेजों में आज भी तीन साल का बीए पाँच साल में क्यों हो रहा है। लेकिन उन्हें दिक्कत इस बात से है कि सब्जी का ठेला लगाने वाले का बच्चा रशियन या फ्रेंच भाषा पढके टूरिज्म के क्षेत्र में अपनी कंपनी क्यूँ खोल रहा है, या फिर अफ्रीकन या लेटिन अमेरिकन स्टडीज में पीएचडी करके फोरेन पालिसी एक्सपर्ट कैसे बन रहा है।

आज उन तमाम लोगों को सामने आकर जेएनयू के संघर्ष में शामिल होना चाहिए जो सरकारी शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई करने के बाद सरकार को इनकम टैक्स और जीएसटी दोनों दे रहे हैं। अगर आज वे चुप रहे तो कल उनके बच्चों को लोन लेकर या पार्ट टाइम जॉब करके पढ़ाई करनी पड़ेगी। पूरे देश में सरकारी कॉलेजों की फीस लगातार बढाई जा रही है और जेएनयू ने हर बार इसके खिलाफ आवाज़ उठाई हैI आज जेएनयू को बचाने का संघर्ष किसी एक विश्वविद्यालय को बचाने का संघर्ष नहीं है, बल्कि यह समानता और न्याय के उन मूल्यों को बचाने का संघर्ष है जिनकी बुनियाद पर हमारे लोकतंत्र की स्थापना की गई है।

याद रखिए, आज अगर खामोश रहे तो कल सन्नाटा छा जाएगा।

Advertisements

अन्य ख़बरें

वी एल वैश्यन्त्री बने हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष
चौथा वनडे वेस्टइंडीज बुरी तरह से हारा, भारत की 2-1 से बढ़त
शिक्षक-सभ्य समाज का आइना...Rajeev Kumar Mishra
दिल्ली सरकारी विद्यालयों की दशा दिशा सुधारने के लिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सम्मानित
मधुबनी फिल्म फेस्टिवल’ में प्रदर्शित होगी राहुल वर्मा की फिल्म ‘तिरंगा’
उत्तरी ढ़ेकहां के बूथ अध्य्क्ष एवम पंचायत अध्य्क्ष का चुनाव सम्पन्न
अपनी दमदार प्रस्तुति के बल पर संगीत के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी है प्रिया राज
विधना नाच नचाबे 13 दिसंबर को कृष्णा टॉकीज में होगी प्रदर्शित
द ड्रीमर की ओर से आयोजित दस दिवसीय एक्टिंग एंड पर्सनालिटी वर्कशॉप संपन्न
बारात में आए बच्चे को छोड़कर बराती हुए रफूचक्कर, परिजनों की खोजबीन जारी
रेमॉन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित हुये चम्पारण के लाल रवीश कुमार, सैंड आर्टिस्ट ने अनोखे अंदाज में...
ब्रेन हेमरेज के शिकार लखनदेव कुँअर को मिला नया जीवन, कहा...थैन्क यू धरती के भगवान(डाॅक्टर)
भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर की ठुकाई, बाप बाप चिल्लाते चाइना पहुँचें इमरान
नवनियुक्त जिला कृषि पदाधिकारी चन्द्रदेव प्रसाद ने संभाला पदभार
श्रद्धांजलि के नाम पर तोड़फोड़ या किसी का अहित ना करें :अनिकेत पांडे
शिक्षक दिवस विशेष में सहकारिता मंत्री बिहार राणा रणधीर सिंह
गांधी संकल्प यात्रा निकाल दिया गया स्वच्छता एवं शांति का संदेश
20 वां अंतर्राज्जीय कराटे प्रतियोगिता 2019 का पुरस्कार वितरण संपन्न
विभिन्न समस्याओं को लेकर छात्र प्रतिनिधिमंडल ने की प्राचार्य से मुलाकात,निराकरण के लिए मिला आश्वासन
केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार अब हमारे बीच नहीं रहे कृतज्ञ राष्ट्र उन्हें दे रहा है भावभीनी श्रद्धांजलि

  • 25
    Shares

1 thought on “जेएनयू के पूर्व छात्र कन्हैया कुमार की कलम से…फीस बढ़ाना ज़रूरत या साज़िश…?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *