चिकित्सा के साथ ही संगीत के क्षेत्र में भी मनीष सिन्हा ने बनायी पहचान

Featured Post slide खोज धार्मिक ज्ञान पटना बिहार मनोरंजन स्पेशल न्यूज़

पटना। बहुमुखी प्रतिभा के धनी डा.मनीष सिन्हा ने चिकित्सा के साथ ही संगीत के क्षेत्र में भी अपनी विशिष्ट पहचान बनायी है। उन्होंने अबतक के करियर के दौरान कई चुनौतियों का सामना किया और कामयाबी का परचम लहराया।
बिहार की राजधानी पटना में जन्में मनीष सिन्हा के पिता
वीरेन्द्र कुमार सिन्हा और मां श्रीमती माधुरी सिन्हा ने पुत्र को अपनी राह चुनने की आजादी दे रखी थी। बचपन के दिनों से ही मनीष सिन्हा की रूचि संगीत की ओर थी। मनीष सिन्हा को संगीत की प्रारभिक शिक्षा अपनी मां और प्रोफेसर माधुरी सिन्हा से मिली। माधुरी सिन्हा पार्श्वगायन किया करती थी। मनीष सिन्हा स्कूल और कॉलेज में होने वाले सांस्क़तिक कार्यक्रमों में पार्श्वगायन किया करते और इसके लिये उन्हें काफी सराहना मिला करती।
मनीषा सिन्हा ने मैट्रिक तक की पढ़ाई राजधानी पटना के पाटलिपुत्रा हाई स्कूल से की। इसके बाद उन्होंने नालंदा मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस और पटना मेडिकल कॉलेज से एमएस की पढ़ाई की। इसके बाद मनीष सिन्हा आंखो में
बड़े सपने लिये मायानगरी मुंबई आ गये जहां उन्होंने एक निजी कंपनी में एक वर्ष तक काम किया। इस दौरान उनकी मुलाकात महान संगीतकार नौशाद साहब से हुयी जिन्होंने उनकी संगीत के प्रति उनकी प्रतिभा को पहचाना और इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
मनीष सिन्हा ने उस्ताद मकबूल हुसैन खान और कुलदीप सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिचा हासिल की। टीसीरीज के सौजन्य से श्री मनीष सिन्हा का पहला अलबम साईधुन निकाला गया जिसे काफी ख्याति मिली। इसके बाद मनीष सिन्हा ने टीसीरीज के लिये शिवगीता ,हनुमान चालीसा ,जलते हैं जिसके लिये, दीया इश्क है, तुझे देखने के बाद, नशा प्यार का समेत कई अलबमों के लिये आवाज दी। मनीष सिन्हा ने वर्ल्ड वाइड रिकार्ड के लिये लव फारएवर, गुजारिश के लिये भी पार्श्वगायन किया जिसके लिये उन्हें काफी सराहना मिली।
मनीष सिन्हा को उनके करियर में मान-सम्मान भी खूब मिला। उन्हें वर्ष 2013 में इंडियन मेडिकल ऐशोसियेशन की ओर से प्रतिभा अवार्ड महाराष्ट्र सम्मान से नवाजा गया। इसके अलावा वह वर्ष 2017 में स्पेशल एचीवर अवार्ड आर्टस्ट डॉक्टर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
मनीष सिन्हा ने न सिर्फ भारत बल्कि देश-विदेश भी अपनी जादुई आवाज से श्रोताओंको मंत्रमुग्ध किया है। मनीष सिन्हा ने गजल गायिकी को नया आयाम दिया और वह अबतक यूएसए,यूके ,कनाडा ,सिंगापुर और काठमांडू समेत कई देशो में परफार्म कर चुके हैं।मनीष सिन्हा आज कामयाबी की बुलंदियों पर है। वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, गुरू और अपने शुभचितंकों को देते हैं।

अन्य ख़बरें

दर्शकों को बेहद पसंद आयेगी "नागधारी" :प्रियंका महाराज
शत्रुघ्न साहू बने आम आदमी पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष
अब कीटनाशक विक्रेताओं के लिए 12 दिन का क्रैश कोर्स, पूर्वी चम्पारण डीलर एसोसिएशन ने मनाया जश्न।
वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से दुर्गा पूजा के अवसर पर जिलावार विधि व्यवस्था तैयारियों की समीक्षा...
वर्तमान एवं भावी पीढ़ियों के प्रेरणा स्रोत है नेताजी: प्रकाश अस्थाना
अखिल भारतीय युवा कुशवाहा समाज (भारत) कमेटी का हुआ विस्तार
शिवहर में मतदान केंद्र पर होमगार्ड जवान की राइफल से चली गोली, मतदान कर्मी की मौत ।
विश्व पर्यावरण दिवस पर कोरंटीन सेंटर के प्रवासियों को पौधा एवं मास्क देकर दी गई विदाई
साइकिल रैली के माध्यम से मतदाताओं से की गई 12 मई को अधिक से अधिक संख्या में मतदान करने की अपील
जिला पदाधिकारी ने चमकी बुखार एवं लू से बचाव हेतु स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों का वीडियो कॉन्फ्रेंसिं...
झूठा आश्वासन देकर नीतीश कुमार सत्ता में बने हुए हैं: डॉ दीपक कुमार (रालोसपा)
ब्रावो फाउंडेशन के के द्वारा जरूरतमंदों के बीच बाटी जा रही हैं खाद्य सामग्री
पूर्वी चंपारण जिलाधिकारी ने किया जॉर्ज ऑरवेल जन्मस्थली, सत्याग्रह पार्क का निरीक्षण
RJ. Anjali के बिना यह "विश्व रेडियो दिवस" अधूरा
सुरों की महफिल में सजी ‘एक शाम कव्वाली के नाम
उद्योग मंत्री श्याम रजक से उद्योगपति राकेश पांडेय ने की शिष्टाचार भेंटवार्ता चंपारण में खादी पार्क स...
महापर्व छठ के दिन रिलीज होगी अभिनेता राजू सिंह माही की फिल्‍म ‘पुलिसगिरी’
कैसे काम करता है टेली मेडिसिन सेंटर जिसका उद्घाटन पूर्वी चंपारण जिला अधिकारी ने अभी अभी किया है
बिहार एक विरासत दो दिवसीय कला और फिल्म महोत्सव संपन्न
बेतिया जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने जिले के थोक खाद्यान्न विक्रेताओं के साथ की आवश्यक बैठक

Leave a Reply