चिकित्सा के साथ ही संगीत के क्षेत्र में भी मनीष सिन्हा ने बनायी पहचान

Featured Post slide खोज धार्मिक ज्ञान पटना बिहार मनोरंजन स्पेशल न्यूज़

पटना। बहुमुखी प्रतिभा के धनी डा.मनीष सिन्हा ने चिकित्सा के साथ ही संगीत के क्षेत्र में भी अपनी विशिष्ट पहचान बनायी है। उन्होंने अबतक के करियर के दौरान कई चुनौतियों का सामना किया और कामयाबी का परचम लहराया।
बिहार की राजधानी पटना में जन्में मनीष सिन्हा के पिता
वीरेन्द्र कुमार सिन्हा और मां श्रीमती माधुरी सिन्हा ने पुत्र को अपनी राह चुनने की आजादी दे रखी थी। बचपन के दिनों से ही मनीष सिन्हा की रूचि संगीत की ओर थी। मनीष सिन्हा को संगीत की प्रारभिक शिक्षा अपनी मां और प्रोफेसर माधुरी सिन्हा से मिली। माधुरी सिन्हा पार्श्वगायन किया करती थी। मनीष सिन्हा स्कूल और कॉलेज में होने वाले सांस्क़तिक कार्यक्रमों में पार्श्वगायन किया करते और इसके लिये उन्हें काफी सराहना मिला करती।
मनीषा सिन्हा ने मैट्रिक तक की पढ़ाई राजधानी पटना के पाटलिपुत्रा हाई स्कूल से की। इसके बाद उन्होंने नालंदा मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस और पटना मेडिकल कॉलेज से एमएस की पढ़ाई की। इसके बाद मनीष सिन्हा आंखो में
बड़े सपने लिये मायानगरी मुंबई आ गये जहां उन्होंने एक निजी कंपनी में एक वर्ष तक काम किया। इस दौरान उनकी मुलाकात महान संगीतकार नौशाद साहब से हुयी जिन्होंने उनकी संगीत के प्रति उनकी प्रतिभा को पहचाना और इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
मनीष सिन्हा ने उस्ताद मकबूल हुसैन खान और कुलदीप सिंह से शास्त्रीय संगीत की शिचा हासिल की। टीसीरीज के सौजन्य से श्री मनीष सिन्हा का पहला अलबम साईधुन निकाला गया जिसे काफी ख्याति मिली। इसके बाद मनीष सिन्हा ने टीसीरीज के लिये शिवगीता ,हनुमान चालीसा ,जलते हैं जिसके लिये, दीया इश्क है, तुझे देखने के बाद, नशा प्यार का समेत कई अलबमों के लिये आवाज दी। मनीष सिन्हा ने वर्ल्ड वाइड रिकार्ड के लिये लव फारएवर, गुजारिश के लिये भी पार्श्वगायन किया जिसके लिये उन्हें काफी सराहना मिली।
मनीष सिन्हा को उनके करियर में मान-सम्मान भी खूब मिला। उन्हें वर्ष 2013 में इंडियन मेडिकल ऐशोसियेशन की ओर से प्रतिभा अवार्ड महाराष्ट्र सम्मान से नवाजा गया। इसके अलावा वह वर्ष 2017 में स्पेशल एचीवर अवार्ड आर्टस्ट डॉक्टर पुरस्कार से भी सम्मानित किये गये।
मनीष सिन्हा ने न सिर्फ भारत बल्कि देश-विदेश भी अपनी जादुई आवाज से श्रोताओंको मंत्रमुग्ध किया है। मनीष सिन्हा ने गजल गायिकी को नया आयाम दिया और वह अबतक यूएसए,यूके ,कनाडा ,सिंगापुर और काठमांडू समेत कई देशो में परफार्म कर चुके हैं।मनीष सिन्हा आज कामयाबी की बुलंदियों पर है। वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, गुरू और अपने शुभचितंकों को देते हैं।

अन्य ख़बरें

मसहूर किसान नेता ध्रुव त्रिवेदी ने दी अटल जी को श्रद्धांजलि
जिंदगी और मौत से जूझ रहा था खलील अंसारी, अधिवक्ता आलोक चंद्र ने अपना खून देकर पेश की मानवता की मिसाल
 युवा पत्रकार नकुल कुमार एवं NTC NEWS MEDIA को शुभकामनाएं: डॉ.गोपाल कुमार सिंह
मुखिया पति मृत मोहम्मद अलीशान के परिजनों से मिले आप के प्रदेश अध्यक्ष शत्रुघ्न साहू, हर संभव सहायता ...
व्यवसायियों पर हुए FIR के सामूहिक निरस्तीकरण के लिए मोतिहारी चेंबर ऑफ कॉमर्स ने भेजी मुख्यमंत्री को ...
उड़ान द फर्स्ट स्टेप प्रेप/प्ले स्कूल में केक काटकर मना शिक्षक दिवस।
कंचन गुप्ता......
रमगढ़वा। मुखिया ने की महादलित के घर मे घुसकर की मारपीट।
हमारे पास सबसे ऊंची मूर्ति जरूर है किन्तु इतनी बड़ी सीढ़ी नहीं है जो आगलगी में फंसे बच्चों की जान ब...
मोतिहारी ईस्ट चंपारण डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन कमेटी ऑफ मैनेजमेंट की पहली सम्पन्न
छठ का पहला अर्ध्य आज, प्रशासन पूरी तरह से तैयार, मोती झील में रेस्क्यू बोट के साथ SDRF की टीम तैनात
एयरलाइन कंपनी इंडिगो ने बी फॉर नेशन के गरीब एवं वंचित बच्चों को दी शिक्षण सामग्री
रक्षाबंधन:: स्वर्ग से सुंदर सपनों से न्यारा , भाई बहन का प्यार.... ABVP
संसद में कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण हो, के लिए राज्यपाल को ज्ञापन
कला संस्कृति मंत्री का अपने क्षेत्र एवं राज्य वासियों के नाम संदेश
इनर व्हील क्लब ऑफ़ पटना ने मनाया आत्महत्या निवारण दिवस
पताही थानाध्यक्ष पर शराब माफियाओं ने किया जानलेवा हमला, शरीर में भारी चोट, अनेक हड्डियों के टूटने की...
मोतिहारी जिला महिला जदयु का एकदिवसीय महिला समागम संपन्न, नीतीश कुमार के कार्यों की संपेत स्वर में सर...
चकिया: मिशन साहसी के तहत, लड़कियों के सेल्फ डिफेंस के कार्यक्रम का हुआ समापन
एलएनडी कॉलेज में चल रहे 10 दिवसीय एनसीसी प्रशिक्षण शिविर का समापन

Leave a Reply