चंपारण में इको इंडस्ट्री लगा रहे हैं करोड़पति सुशील कुमार

Featured Post slide खोज गाँव-किसान फोटो गैलरी बिहार मोतिहारी सम्पादकीय साइंस स्पेशल न्यूज़

मोतिहारी। जिस समय करोड़पति सुशील कुमार एक कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी कर रहे थे उस समय इन्होंने यह कदापि नहीं सोचा था कि ₹6000 की नौकरी करने वाले इस कंप्यूटर ऑपरेटर द्वारा चंपारण में आने वाले दिनों में एक-दो 10 नहीं बल्कि सैकड़ों इको इंडस्ट्री लगाया जाएगा।। इको इंडस्ट्री से तत्पर्य सुशील कुमार एवं उनकी देखरेख में सहयोगियों द्वारा चंपारण में चलाए जा रहे वृक्षारोपण अभियान से है।

करोड़पति बनने के बाद  सुशील कुमार ने चंपारण में चंपा से चंपारण अभियान की शुरुआत की  जिसमें  सुशील कुमार को  चंपारण की जनता का काफी सहयोग एवं समर्थन प्राप्त हुआ। और चंपा से चंपारण कार्यक्रम पूरी तरह से हिट रहा इस कार्यक्रम में उद्योगपति राकेश पांडे की भी सराहनीय भूमिका रही।

करोड़पति सुशील कुमार का एक सपना था कि वह मोतिहारी में एक साइकिल क्लब बनाएं उनका यह सपना तो पूरा नहीं हो सका किंतु उन्होंने छोटी दूरी के लिए साइकिल के उपयोग करके एक अभियान चलाया जिसमें शहर के गणमान्य व्यक्तियों सहित युवा साथियों का अच्छा खासा सहयोग प्राप्त हुआ, इसके पीछे कारण यह है कि मोतिहारी में साइकिल चलाने वालों की संख्या अच्छी-खासी है जिसमें अधिकतर स्कूली छात्र हैं.

 इसके बाद सुशील कुमार ने हमारे घरों में रहने वाली चिड़िया गौरैया के संरक्षण के लिए प्याऊ एवं आवास जैसे कार्यक्रम चलाएं जिसके तहत जन सहयोग से घर घर में गौरैया के रहने के लिए घर में घोंसला एवं पीने के लिए एक कटोरी पानी की व्यवस्था करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया इतना ही नहीं अपने सोशल प्लेटफॉर्म के माध्यम से उन्होंने काफी जनजागृती भी लाई।। यह कार्यक्रम भी पूरी तरह से हिट रहा।

कुछ ही दिन पहले सुशील कुमार ने चंपारण को  भीषण गर्मी से बचाने के लिए चंपा से चंपारण कार्यक्रम में पीपल, बरगद, नीम आदि पौधों को भी सम्मिलित किया, जिसमें मुख्य रुप से 24 घंटा ऑक्सीजन का प्रोडक्शन हाउस पीपल का पौधा शामिल है।

इस बार के वृक्षारोपण का कार्यक्रम चंपा से चंपारण अभियान से भिन्न इस मामले में है कि इस बार प्रत्येक पौधे का अपना एक नंबर है ताकि पौधे को पेड़ बनने तक उसमें निरंतर खाद पानी के साथ साथ उसकी सुरक्षा की जा सके।

29 जून तक करोड़पति सुशील कुमार द्वारा 82 ऑक्सीजन उद्योग लगाया जा चुका है । इसे ऑक्सीजन उद्योग इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि यह पौधा आगे चलकर ऑक्सीजन से वायुमंडल को पोषित करेगा।

सुशील कुमार के  वृक्षारोपण से इतर समाज सेवा में योगदान की बात की जाए तो मोतिहारी एवं इसके आसपास के क्षेत्रों में चमकी बुखार अथवा इंसेफेलाइटिस अथवा जापानी इंसेफेलाइटिस अथवा एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम जैसी बीमारी से बचने के लिए मोतिहारी के विभिन्न डॉक्टरों के सहयोग से चंपारण में कई जगहों  पर स्वास्थ्य जन जागरूकता अभियान चलाया गया जिसमें मुख्य रुप से चमकी बीमारी इसके लक्षण, इसके बचाव आदि के विषय में विशेष जानकारी मोतिहारी के शिशु रोग विशेषज्ञों द्वारा दी गई ।।

अन्य ख़बरें

पटना में मोबाइल वैन से बिकने लगीं सब्जियां... पहले चरण में ब्रांड "तरकारी" से जुड़ेंगे 5 जिले
PM interacts with leaders of political parties
कुर्सियां भी बतियाती होंगी: मंटू कुमार सुशील ( करोड़पति सुशील कुमार)
खुले में शौच से मुक्ति जरूरी: रमण कुमार
बिहार मैट्रिक का रिजल्ट जारी विभिन्न क्षेत्रों के छात्र-छात्राओं ने मारी बाजी
यादव लाल पासवान बने रालोसपा दलित-महादलित प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष
पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी बेस्ट इलेक्रटोरल प्रैक्टिसेज अवार्ड-2020 के स्पेशल अवार्ड से सम्मानित
Super Dancer Anshu
ब्रावो फाउंडेशन का गौ संवर्धन केंद्र के लिए भूमि का चयन
राम जैसा बेटे का इतिहास पढ़ाकर ही, आज के बेटों को मर्यादित किया जा सकता है।
महिला के सिर पर बाल नहीं थे फिर मोतिहारी के इस डॉक्टर से इलाज कराया और बाल उग गए
पूर्व कृषि मंत्री ने किया दो दिवसीय "फिश हार्वेस्टिंग मेला" का उद्घाटन,
युवा क्रांति यात्रा को लेकर यूथ कांग्रेस ने की प्रजापति आश्रम में समीक्षा बैठक
बरेली यूपी के पीवीआर में विनोद यादव की फिल्म ‘गुंडा’ के सभी शो हाउसफुल
केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए भिक्षाटन करते केशव कृष्णा एवं अन्य
सरकार महिला सशक्तीकरण के नाम पर राजनीति कर रही है: मधु मंजरी
तिरंगा यात्रा निकाल कर युवाओं ने दिया राष्ट्रभक्ति के साथ साथ स्वच्छता का संदेश
संत श्री आसाराम बापू आश्रम मोतिहारी द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को दी गई श्रद्धांजलि
शुक्राणुओं की संख्या में हो रही है गिरावट, निःसंतानता के 30 से 40 प्रतिशत मामलों में पुरूष जिम्मेदार
नगर अध्यक्षा अंजू देवी, शायर गुलरेज शहजाद, गोविंद सिंह एवं अन्य लोगों ने छठ व्रत पूजन सामग्री का वित...

Leave a Reply