चंपारण में इको इंडस्ट्री लगा रहे हैं करोड़पति सुशील कुमार

Featured Post slide खोज गाँव-किसान फोटो गैलरी बिहार मोतिहारी सम्पादकीय साइंस स्पेशल न्यूज़
  • 38
    Shares

मोतिहारी। जिस समय करोड़पति सुशील कुमार एक कंप्यूटर ऑपरेटर की नौकरी कर रहे थे उस समय इन्होंने यह कदापि नहीं सोचा था कि ₹6000 की नौकरी करने वाले इस कंप्यूटर ऑपरेटर द्वारा चंपारण में आने वाले दिनों में एक-दो 10 नहीं बल्कि सैकड़ों इको इंडस्ट्री लगाया जाएगा।। इको इंडस्ट्री से तत्पर्य सुशील कुमार एवं उनकी देखरेख में सहयोगियों द्वारा चंपारण में चलाए जा रहे वृक्षारोपण अभियान से है।

करोड़पति बनने के बाद  सुशील कुमार ने चंपारण में चंपा से चंपारण अभियान की शुरुआत की  जिसमें  सुशील कुमार को  चंपारण की जनता का काफी सहयोग एवं समर्थन प्राप्त हुआ। और चंपा से चंपारण कार्यक्रम पूरी तरह से हिट रहा इस कार्यक्रम में उद्योगपति राकेश पांडे की भी सराहनीय भूमिका रही।

करोड़पति सुशील कुमार का एक सपना था कि वह मोतिहारी में एक साइकिल क्लब बनाएं उनका यह सपना तो पूरा नहीं हो सका किंतु उन्होंने छोटी दूरी के लिए साइकिल के उपयोग करके एक अभियान चलाया जिसमें शहर के गणमान्य व्यक्तियों सहित युवा साथियों का अच्छा खासा सहयोग प्राप्त हुआ, इसके पीछे कारण यह है कि मोतिहारी में साइकिल चलाने वालों की संख्या अच्छी-खासी है जिसमें अधिकतर स्कूली छात्र हैं.

 इसके बाद सुशील कुमार ने हमारे घरों में रहने वाली चिड़िया गौरैया के संरक्षण के लिए प्याऊ एवं आवास जैसे कार्यक्रम चलाएं जिसके तहत जन सहयोग से घर घर में गौरैया के रहने के लिए घर में घोंसला एवं पीने के लिए एक कटोरी पानी की व्यवस्था करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया इतना ही नहीं अपने सोशल प्लेटफॉर्म के माध्यम से उन्होंने काफी जनजागृती भी लाई।। यह कार्यक्रम भी पूरी तरह से हिट रहा।

कुछ ही दिन पहले सुशील कुमार ने चंपारण को  भीषण गर्मी से बचाने के लिए चंपा से चंपारण कार्यक्रम में पीपल, बरगद, नीम आदि पौधों को भी सम्मिलित किया, जिसमें मुख्य रुप से 24 घंटा ऑक्सीजन का प्रोडक्शन हाउस पीपल का पौधा शामिल है।

इस बार के वृक्षारोपण का कार्यक्रम चंपा से चंपारण अभियान से भिन्न इस मामले में है कि इस बार प्रत्येक पौधे का अपना एक नंबर है ताकि पौधे को पेड़ बनने तक उसमें निरंतर खाद पानी के साथ साथ उसकी सुरक्षा की जा सके।

29 जून तक करोड़पति सुशील कुमार द्वारा 82 ऑक्सीजन उद्योग लगाया जा चुका है । इसे ऑक्सीजन उद्योग इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि यह पौधा आगे चलकर ऑक्सीजन से वायुमंडल को पोषित करेगा।

सुशील कुमार के  वृक्षारोपण से इतर समाज सेवा में योगदान की बात की जाए तो मोतिहारी एवं इसके आसपास के क्षेत्रों में चमकी बुखार अथवा इंसेफेलाइटिस अथवा जापानी इंसेफेलाइटिस अथवा एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम जैसी बीमारी से बचने के लिए मोतिहारी के विभिन्न डॉक्टरों के सहयोग से चंपारण में कई जगहों  पर स्वास्थ्य जन जागरूकता अभियान चलाया गया जिसमें मुख्य रुप से चमकी बीमारी इसके लक्षण, इसके बचाव आदि के विषय में विशेष जानकारी मोतिहारी के शिशु रोग विशेषज्ञों द्वारा दी गई ।।

अन्य ख़बरें

मोतिहारी में कपडे़ की दुकान में लगी आग, चूहों की करतूत से दुकान सुरक्षित
नव नियुक्त ANM का लॉटरी सिस्टम के माध्यम से पदस्थापन किया गया
देशी चंपारण मटन का स्वाद अब जल्द मिलेगा भागलपुर में
जन अधिकार पार्टी पूर्वी चंपारण ने जिला मुख्यालय पर दिया धरना
आज मेरी फोटो अत्यधिक सुंदर है,क्योंकि इसमें मेरी मां है: काजल राघवानी
पक्षी संरक्षण के लिए KBC विजेता सुशिल के मुहिम को और तेज करेगी, उत्संग फाउंडेशन
अमित राणा बने छात्र जदयू बिहार के प्रदेश सचिव, बधाई देने वालों का लगा तांता
कंटेनमेंट जोन में बदला संक्रमित क्षेत्र, ड्रोन से की जा रही है सतत् निगरानी
नगर विद्यार्थी परिषद की पुरानी इकाई भंग, नई इकाई का हुआ गठन। 
पटना आईएमए हाॅल में 'आइसा' एवं 'ऐपवा' का छात्रा संवाद, छात्राओं ने मुखर रूप कही मन की बात।
चकिया में कलश यात्रा एवं शोभा यात्रा का हुआ भव्य आयोजन 1051 कन्याएं हुई शामिल
BHU IMS से बीएससी नर्सिंग, बी फार्मा, BOT, BPT करना हो तो आज ही फॉर्म ऑनलाइन कीजिए लास्ट डेट 11 मई
इनरव्हील क्लब ने चलाया कैंसर पर जागरूकता अभियान
CPTI की कार्यशैली पर टैक्स कंसल्टेंट मनोज कुमार ने लगाया सवालिया निशान...???
मानव के हनन को रोकना हमारा कर्तव्य- अब्बास अली
एनएसआई डांस अकादेमी के छात्र करेंगे हिंदी फिल्म में कोरियोग्राफी
हरिहरगंज से पटना तक एनएच-139 को फोर लेन में तब्दील किया जायेगा :सुशील सिंह
RJ. Anjali के बिना यह "विश्व रेडियो दिवस" अधूरा
राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत बच्चो का लंबाई और वजन मापा गया
तेज प्रताप यादव लेंगे तलाक..... शादी के 6 महीने भी नहीं हुए

  • 38
    Shares

Leave a Reply