गांधी जयंती के अवसर पर हुई सर्व धर्म प्रार्थना एवं संगोष्ठी

Featured Post मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल राष्ट्रीय स्पेशल न्यूज़

मोतिहारी 2 अक्टूबर रोज शनिवार को महात्मा गांधी की जयंती पूरे जिले में धूमधाम से मनाई गई इस दौरान पूर्वी चंपारण जिले के मुख्यालय मोतिहारी में विभिन्न स्थलों पर कार्यक्रमों का आयोजन करके उन्हें श्रद्धांजलि दी गई इसी क्रम में मोतिहारी के स्थानीय गांधी संग्रहालय में भी एक सर्वधर्म प्रार्थना कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें गांधी संग्रहालय के अध्यक्ष सह जिलाधिकारी, गांधी संग्रहालय के सचिव एवं सदस्य, सदर एसडीओ मोतिहारी सहित शहर के जाने-माने गांधीवादी, महिलाएँ, नौजवान एवं स्कूली बच्चे शामिल हुए।
कार्यक्रम की शुरुआत महात्मा गांधी के प्रिय भजन “वैष्णव जन तो तेने कहिए…” से की गई । इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बिहार के पूर्व कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ने कहा कि महात्मा गांधी ने हमें 200 वर्षों के अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराया उन्होंने कहा कि हम गांधी के स्वराज्य के सपनों को बढ़ा पाए हैं या नहीं यह विचारणीय है।
वहीं दूसरी ओर नव पदस्थापित अनुमंडल पदाधिकारी मोतिहारी सदर आईएएस सौरभ सुमन यादव ने कहा कि महात्मा गांधी ने समाज के हर एक वर्ग के लिए अपना एक विचार दिया है और उस विचार पर हम चलेंगे तो पूरे समाज का विकास हो सकता है। उन्होंने कहा कि यहां सर्व धर्म सभा की गई है जिससे कि शांति और प्रेम का संदेश फैले। इस दौरान उन्होंने अनुमंडल वासियों से गांधी के रास्ते पर चलते हुए शांति और न्याय बनाए रखने की अपील की।
वही गांधी संग्रहालय के अध्यक्ष जिलाधिकारी पूर्वी चंपारण शीर्षत कपिल अशोक ने कहा कि बापू के विचार काफी बृहत है जिसका आकलन करना मेरे लिए थोड़ा कठिन है। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा अवसर है जिस दिन सभी को कुछ ना कुछ संकल्प लेना चाहिए एवं साल भर कुछ त्रुटि हुई हो तो उसमें सुधार कैसे किया जाए इस पर विचार आवश्यक है। उन्होंने युवाओं की ओर इशारा करते हुए कहा कि पढ़ाई करना घर से अच्छे संस्कार लेना एवं कर्म करना बहुत आवश्यक है।
मीडिया से बातचीत के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि शांति का संदेश देने वाली सत्याग्रह और अहिंसा की जो धरती है, इसमें कैसे हम आज के जमाने में गांधी फिलॉसफी के अनुसार संबद्ध हो सके इस संदर्भ में एक संगोष्ठी की गई है।
गांधी संग्रहालय के सचिव सह पूर्व मंत्री सह कार्यक्रम संचालक ब्रजकिशोर सिंह ने कहा कि यह हमारी परंपरा है कि हम अपने देश के महापुरुषों का जन्मदिन मनाते हैं जिनकी उपलब्धियां देश के नवनिर्माण में रही हैं उन्होंने कहा कि गांधी का चंपारण की धरती पर बहुत ही उपयोगी समय बिता और इसके नवनिर्माण में बहुत बड़ा सहयोग मिला।       सर्व धर्म प्रार्थना के दौरान विभिन्न धर्मों के मंचासीन अनुयायियों द्वारा प्रार्थना करके चंपारण एवं मानवता के विकास के लिए सत्य, अहिंसा, सुख, समृद्धि की कामना की गई।
इस दौरान जिलाधिकारी ने लाइब्रेरी में लगाए गए चित्र प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। जारी बरसात के बावजूद गांधी स्मारक के प्रांगण में वृक्षारोपण करके उन्होंने सरकार के सात निश्चय योजना के तहत चल रहे जल जीवन हरियाली अभियान को गति दी।
मालूम हो कि महात्मा गांधी चंपारण आने से पहले नील की खेती भारत में कहां होती है एवं चंपारण से अनजान थे । वे अपनी आत्मकथा सत्य के प्रयोग में लिखते हैं कि “मुझे स्वीकार करना चाहिए कि वहां जाने से पहले मैं चंपारण का नाम तक नहीं जानता था वाह नील की खेती होती है इसका विचार भी नहीं के बराबर ही था नील की गोटिया देखी थी पर यह चंपारण में बनती है और इसके कारण हजारों किसानों को कष्ट भोगना पड़ता है इसका जरा भी जानकारी नहीं थी”
एवं चंपारण आने के बाद गांधीजी लिखते हैं कि याद रहे कि चंपारण में मुझे कोई नहीं पहचानता था किसान वर्ग बिल्कुल निरक्षर था चंपारण गंगा के उस पार ठेठ हिमालय की तराई में नेपाल का निकट निकट तस्य प्रदेश है यानी नई दुनिया है।
गौनाहा में चंपारण सत्याग्रह के दौरान गांधी जी ने यह महसूस किया था कि यहां के लोगों में शिक्षा और जागृति मुख्य समस्या है। यहां के लोगो के अंदर अंग्रेजों के जूल्म से डर का एक मूल कारण अशिक्षा है । इस कमी को दूर करने के लिए गांधी ने जनसहयोग से चंपारण में तीन पाठशालाओं की स्थापना भी की ।

अन्य न्यूज़:-

मोतिहारी के परिचय कुमार ने UPSC में मारी बाजी, आया 410वाँ रैंक। पिछली बार आया था इतना रैंक…

गांधीजी के असाधारण व्यक्तित्व व जीवन ने विश्व को अहिंसा, सत्यनिष्ठा, मानवता का मार्ग दिखाया: शैलेंद्र शुक्ला

Advertisements

सामाजिक महापरिवर्तन गठबंधन(SRA) की मांग, भारत के सभी सामाजिक समूहो की जातिवार जनगणना कराये केंद्र सरकार

 

अन्य ख़बरें

लोकसभा चुनाव तारीख़ घोषणा : 7 चरणाों में होगा चुनाव पहला चरण 11 अप्रेल से तो अंतिम 19 मई को ।
कला-क्षेत्र में वर्ल्ड रिकार्ड  बनाना  चाहती है: निहारिका
कोचिंग के चारो ओर लगवाएं कैमरा: एसपी.... बिहार नवयुवक सेना का चांदमारी बंद हुआ सफल
राज्य के शिक्षकों ,आंगनबाड़ी एवं आशा सेविकाओं को कोरोना योद्धा के रूप में 1 करोड़ तक का विशेष बीमा कवर...
ओरिएंटल क्लास के माध्यम से नए नामांकित छात्रों का बीसीए विभाग ने किया स्वागत
सारा खान और नेहा मार्दा ने रैंप पर बिखेरा जलवा
खेसारीलाल यादव की फिल्‍म ‘कुली No.1’ बनी साल की पहली छमाही में सबसे बड़ी फिल्‍म
रमगढ़वा : शिक्षक सम्मान समारोह का हुआ आयोजन
दिल्ली मॉडल के साथ पूरे बिहार में चुनाव लड़ेगी आम आदमी पार्टी
राजस्थान के रण में सेना के जवानों संग, राजनाथ सिंह मनाएंगे दशहरा
श्रीनगर के लाल चौक पर 1990 में तिरंगा फहराने वाले कार्यकर्ताओं को अभाविप ने किया सम्मानित
अगर आप की उम्र 60 वर्ष है तो आपको मिलेगा ₹3000 का मासिक पेंशन... पढ़िए कैसे उठाएंगे आप इस योजना का ल...
11 सितंबर को आयोजित होगी भाजपा क्रीड़ा प्रकोष्ठ की प्रदेश कार्यसमिति बैठक- सतीश राजू
टोक्यो ओलंपिक में भारत का सिल्वर से खुला खाता। प्रधानमंत्री ने दी बधाई
हाँ, मैं डरपोक हूँ... "जनता कर्फ्यू" विरोधियों को डाॅ.स्वर्णिमा शर्मा का जवाब
पकड़ीदयाल के सुरेश ने BPSC में 275 रैंक लाकर किया क्षेत्र का नाम रौशन, पहले पत्रकार बनना चाहते थे अ...
किसी बड़े नौकर से तो छोटा मालिक बनना लाख गुणा अच्छा होता है।
समस्याओं का करेंगे समाधान मोतिहारी को खुशहाल बनाएंगे: डॉ. दीपक कुमार
शिक्षक दिवस के अवसर पर विभिन्न स्कूल और कोचिंग संस्थानों में हुआ कार्यक्रम
याद किए गए संपूर्ण क्रांति के नायक जय प्रकाश नारायण