कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी ने नियामक निगरानी को मजबूत बनाने के लिए समझौता

Featured Post slide दिल्ली राजनीति राष्ट्रीय
  • 11
    Shares

नई दिल्ली। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के बीच एक औपचारिक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर आज हस्ताक्षर किए गए। ऐसा दो नियामक संगठनों के बीच डेटा के आदान-प्रदान के लिए किया गया है। इस समझौता ज्ञापन पर कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में संयुक्त सचिव  के.वी.आर. मूर्ति और सेबी की पूर्णकालिक सदस्य माधवी पुरी बुच ने दोनों संगठनों के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए।यह समझौता ज्ञापन अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण क्षेत्रों को प्रभावित करने वाले कॉरपोरेट धोखाधड़ी मामलों के संदर्भ में निगरानी की बढ़ती हुई आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए किया गया है। जिस प्रकार निजी क्षेत्र आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है उसी प्रकार मजबूत कॉरपोरेट प्रशासन तंत्र समय की जरूरत बन गया है।

इस समझौता ज्ञापन से सेबी और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय के बीच डेटा और सूचनाओं को स्वमेव और नियमित रूप से साझा करने में मदद मिलेगी। इससे निलंबित कंपनियों, सूची से बाहर की गई कंपनियों, सेबी के शेयर धारक पैटर्न के बारे में विशिष्ट जानकारी साझा करने के साथ-साथ कॉर्पोरेट्स द्वारा रजिस्ट्रार के समक्ष दायर वित्तीय विवरणों, शेयरों के आवंटन की रिटर्न,  कॉरपोरेट से संबंधित ऑडिट रिपोर्टों से संबंधित  विशिष्ट विवरणों को साझा करने में मदद मिलेगी। इस समझौता ज्ञापन से नियामक उद्देश्यों के लिए कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी में सहज संबंध सुनिश्चित होंगे। डेटा के नियमित आदान-प्रदान के अलावा सेबी और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालयकिसी भी प्रकार की जांच, निरीक्षण और अभियोजन के उद्देश्य के लिए अपने डेटाबेस में उपलब्ध कोई भी जानकारी का एक-दूसरे के अनुरोध पर  आदान-प्रदान कर सकेंगे।यह समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर किए जाने की तारीख से लागू हो गया है, जो कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी की सतत पहल है। जो मौजूदा तंत्र के माध्यम से पहले ही सहयोग कर रहे हैं। इस पहल के लिए डेटा आदान-प्रदान परिचालन समूह का भी गठन किया गया है। डेटा आदान-प्रदान स्थिति की समीक्षा के लिए इस समूह की समय-समय पर बैठकें आयोजित होंगी। जिनमें डाटा साझा करने के तंत्र में और सुधार करने तथा प्रभावशीलता लाने के बारे में भी विचार-विमर्श किया जाएगा। यह समझौता ज्ञापन दोनों नियामकों के बीच सहयोग और तालमेल के नए युग की शुरुआत है।

Advertisements

अन्य ख़बरें

तेल के दामों में वृद्धि से प्राप्त राजस्व से संकटकाल में गरीबों तक आर्थिक लाभ का प्रावधान किया गया: ...
अभिनेता गौरव झा और ऋतु सिंह स्‍टारर फिल्‍म ‘भूल ना जाना पिया’ का मुहूर्त संपन्‍न
India Post payment Bank ( IPPB) का पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार ने किया शुभारंभ
प्रतिभा को रोजगार में बदलने का समय आ गया है:अनिकेत रंजन
11 सितंबर को ढेकहाँ में सजही महोत्सव एवं लखौरा में शिव महोत्सव का होगा आयोजन
पटना आईएमए हाॅल में 'आइसा' एवं 'ऐपवा' का छात्रा संवाद, छात्राओं ने मुखर रूप कही मन की बात।
संविधान गरीब को भी राजा बनने का अधिकार देता है : मुकेश सहनी
मेरी बेटी श्रद्धा कपूर हैं लेडी सिंघम : शक्ति कपूर
NTC NEWS MEDIA ने की सच की तहकीकात...मोतिहारी की नई डीएम रानी कुमारी...?
युवा दिवस पर दलित बस्ती में कॉपी,कलम,चॉकलेट वितरित
आज गाँधी जयंती के अवसर पर, मोतिहारी में होने वाले कार्यक्रम
मुफ्त चिकित्सा शिविर का हुआ आयोजन
चीन की सेनाओं में हताहत होने वालों की संख्या हमारे देश से अधिक है: राधा मोहन सिंह
संविधान बचाओ न्याय यात्रा...RJD
आखिर तेजस्वी यादव की रैली में क्यों हुआ मोदी मोदी पूरा पढ़िए
AES, JE, चमकी बुखार व डायरिया से बचने के लिए जन जागरूकता अभियान को लेकर बैठक संपन्न
चैंपियन परियोजना के तहत महिला जनप्रतिनिधियों के बीच चैंपियन सभा का आयोजन
पक्षी संरक्षण के लिए KBC विजेता सुशिल के मुहिम को और तेज करेगी, उत्संग फाउंडेशन
देश के पहले मल्टी मॉडल टर्मिनल का... प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन, वाराणसी हल्दिया जल मार्ग से पूर्व...
महिलाओं को सशक्त बनने की जररूत : इति प्रज्ञा सिंह

  • 11
    Shares

Leave a Reply