कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी ने नियामक निगरानी को मजबूत बनाने के लिए समझौता

Featured Post slide दिल्ली राजनीति राष्ट्रीय
  • 11
    Shares

नई दिल्ली। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के बीच एक औपचारिक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर आज हस्ताक्षर किए गए। ऐसा दो नियामक संगठनों के बीच डेटा के आदान-प्रदान के लिए किया गया है। इस समझौता ज्ञापन पर कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय में संयुक्त सचिव  के.वी.आर. मूर्ति और सेबी की पूर्णकालिक सदस्य माधवी पुरी बुच ने दोनों संगठनों के वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए।यह समझौता ज्ञापन अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण क्षेत्रों को प्रभावित करने वाले कॉरपोरेट धोखाधड़ी मामलों के संदर्भ में निगरानी की बढ़ती हुई आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए किया गया है। जिस प्रकार निजी क्षेत्र आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है उसी प्रकार मजबूत कॉरपोरेट प्रशासन तंत्र समय की जरूरत बन गया है।

इस समझौता ज्ञापन से सेबी और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय के बीच डेटा और सूचनाओं को स्वमेव और नियमित रूप से साझा करने में मदद मिलेगी। इससे निलंबित कंपनियों, सूची से बाहर की गई कंपनियों, सेबी के शेयर धारक पैटर्न के बारे में विशिष्ट जानकारी साझा करने के साथ-साथ कॉर्पोरेट्स द्वारा रजिस्ट्रार के समक्ष दायर वित्तीय विवरणों, शेयरों के आवंटन की रिटर्न,  कॉरपोरेट से संबंधित ऑडिट रिपोर्टों से संबंधित  विशिष्ट विवरणों को साझा करने में मदद मिलेगी। इस समझौता ज्ञापन से नियामक उद्देश्यों के लिए कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी में सहज संबंध सुनिश्चित होंगे। डेटा के नियमित आदान-प्रदान के अलावा सेबी और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालयकिसी भी प्रकार की जांच, निरीक्षण और अभियोजन के उद्देश्य के लिए अपने डेटाबेस में उपलब्ध कोई भी जानकारी का एक-दूसरे के अनुरोध पर  आदान-प्रदान कर सकेंगे।यह समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर किए जाने की तारीख से लागू हो गया है, जो कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय और सेबी की सतत पहल है। जो मौजूदा तंत्र के माध्यम से पहले ही सहयोग कर रहे हैं। इस पहल के लिए डेटा आदान-प्रदान परिचालन समूह का भी गठन किया गया है। डेटा आदान-प्रदान स्थिति की समीक्षा के लिए इस समूह की समय-समय पर बैठकें आयोजित होंगी। जिनमें डाटा साझा करने के तंत्र में और सुधार करने तथा प्रभावशीलता लाने के बारे में भी विचार-विमर्श किया जाएगा। यह समझौता ज्ञापन दोनों नियामकों के बीच सहयोग और तालमेल के नए युग की शुरुआत है।

Advertisements

अन्य ख़बरें

हमारे पास सबसे ऊंची मूर्ति जरूर है किन्तु इतनी बड़ी सीढ़ी नहीं है जो आगलगी में फंसे बच्चों की जान ब...
घरेलु महिलाएं केक बनाना सीख पा सकती है रोजगार : सुमन
पताही थानाध्यक्ष पर शराब माफियाओं ने किया जानलेवा हमला, शरीर में भारी चोट, अनेक हड्डियों के टूटने की...
ग्रामीण क्षेत्र में मोटिवेशनल कार्यशाला का आयोजन, प्रयोगात्मक बातों से बच्चें हुए प्रेरित
मधुबन उत्तरी मुखिया द्वारा अपने स्तर से मधुबन उत्तरी एवं दक्षिणी पंचायतों में कराया गया सैनिटाइजर का...
अटल जी को राजकुमारी गुप्ता जी की श्रद्धांजलि
दिल्ली सरकारी विद्यालयों की दशा दिशा सुधारने के लिए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सम्मानित
मतदाताओं को जागरूक करने के लिए पूर्वी चंपारण के 27 जगहों पर होंगे पैदल मार्च, कैंडल मार्च, साइकिल रै...
रालोसपा के लोग राजनीतिक जमीर बचाने के लिए दिखावा कर रहे हैं: अखिलेश सिंह
अब भोजपुरी में बनेगी फ़िल्म "टारगेट"
राजद नेता सुरेश साहनी ने मोतिहारी प्रखंड के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा
अनीश राना बने मिस्टर और मुस्कान के सिर सजा मिस पर्सनालिटी का खिताब
राष्ट्र निर्माण अभियान के तहत AAP ने चलाया सदस्यता अभियान, किया गया पार्टी विस्तार
पानी में डूबने से भाई बहन की मौत, शोक
राजधानी पटना में दिखायी जायेगी लघु फिल्म "पुर्नजन्म"
मोतिहारी हनुमान मंदिर में बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत सामग्री पैकिंग शुरू
SVEEP आईकन मधुरेंद्र कुमार ने किया मतदान, सैंड आर्ट के जरिए मधुरेंद्र कुमार ने लोगों से किया था अधिक...
वन नेशन, वन कार्ड योजना में तीन और राज्य शामिल किए गए
इनरव्हील क्लब ऑफ पटना ने मनाया शिक्षक दिवस
राजधानी पटना के हूट रेस्टोरेंट में परफार्म करेंगे श्लोका

  • 11
    Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *