कुर्सियां भी बतियाती होंगी: मंटू कुमार सुशील ( करोड़पति सुशील कुमार)

गाँव-किसान चम्पा से चम्पारण फोटो गैलरी बिहार मोतिहारी स्पेशल राजनीति
  • 13
    Shares

NTC NEWS MEDIA / Motihari

 चंपारण में चंपा से चंपारण के नायक करोड़पति सुशील कुमार आजकल चंपा यात्रा पर निकले हुए हैं और इसके साथ गांव गांव गली गली मोहल्ले मोहल्ले अपनी स्कूटी से जाते हैं वहां चंपा का पौधा लगाते हैं उसके आसपास ग्रामीण संस्कृति को अपने मोबाइल कैमरे में कैद करते हैं ।

क्षण भर के लिए उस संस्कृति में जीते हैं अपनी बचपन की यादों को ताजा करते हैं और फिर उसे सोशल साइट पर पोस्ट करके हम जैसे लोगों को कुछ लिखने के लिए मैटर दे देते हैं।

 अब आपको बताते हैं सुशील कुमार ने ऐसा क्या लिखा जिससे लग रहा है कि उन्होंने कुछ मैटर से दे दिया है हम जैसे लोगों को कुछ लिखने के लिए,  और हां लोकसभा का चुनाव भी नजदीक है । खुद तो चुनाव में उनको खड़ा होना नहीं है, कुर्सियां उनको मिली बैठने के लिए लेकिन इस डर्टी पॉलिटिक्स ने उन्हे कुर्सी पर ही लिखने के लिए विवश कर दिया।

आपको यह भी बता दूं कि करोड़पति सुशील कुमार कोई  प्रोफेशनल कवि नहीं है लेकिन हृदय के तार कभी कभी जुड़ जाते हैं तो पंक्तियां निकाल आती है  और चंपा यात्रा के दौरान ऐसी पंक्तियों का निकलना स्वभाविक है ।

आजकल अपने संगीत वाले गुरु जी के यहां सितार जरूर सीख रहे हैं वह भी मोतिहारी के इकलौते सितार वाले गुरुजी और वह सितार भी मोतिहारी में इकलौता ही है जिसके तार भी कभी कभी टूट जाते हैं । वह तो भला हो सुशील कुमार का जिन्होंने उस सितार को और उसके तार को जोड़े रखा है।

अब आपको ज्यादा पढ़ने पर विवश नहीं करेंगे लेकिन संदर्भ है तो बताना जरूरी है कि आजकल सुशील कुमार चंपा से चंपारण अभियान के तहत चंपा यात्रा पर निकले हैं और इसके तहत वे गांव गांव घूम घूम कर चंपा का पौधा लगा रहे हैं उनका टारगेट है कि इस 1 साल में पूरे चंपारण में चंपा का वृक्षारोपण कर देना है।

 अब भैया हम आपको बताते चलता हूं कि  सुशील कुमार  जो चंपा यात्रा कर रहे हैं  उस के दौरान  काका करते हैं  किन-किन चीजों से मिल रहे हैं….?

इस चंपा यात्रा के दौरान वे बहुत चीजों से रूबरू हो रहे हैं। चाहे वह बच्चे हो, चाहे वह खटिया हो, चारपाई हो,पेड़ हो, मकान हो, दुकान हो, चिड़िया हो, भिन्न-भिन्न तरीके के लोग हो, सब कुछ वे अपने मोबाइल कैमरे में कैद करते हुए अपनी स्कूटी से आगे बढ़ते हैं। मोबाइल कैमरे में कैद 4 कुर्सियों पर उन्होंने एक कविता लिखी है और आपको बताते चलें कि एक उन्हें ये कुर्सिया बैठने के लिए पूर्वी जयसिंहपुर पंचायत के माधव टोला में त्रिलोकी नाथ मिश्रा जोकि एक प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य हैं के यहां मिली थी।

अब भैया सुशील कुमार तो सुशील कुमार ठहरे उन्होंने कुर्सी की फोटो तो ली साथ ही साथ उस पर एक कविता भी बना दी । तो भैया भाग्य कुर्सी का ही है, जिसका फोटोग्राफर करोड़पति है। हम लोग तो रोडपति को भी फोटोग्राफर बना लेते हैं। कुर्सी पर लिखी हुई करोड़पति एवं चंपा यात्रा  के साक्षी सुशील कुमार की कविता पढ़िए……

कभी कभी खाली कुर्सियां भी
अकेले में बतियाती होंगी
बैठने वालों के बारे में
उनके अच्छे बुरे बैठने
के तरीकों पे

उनको सर पे बैठाने या
सीधे पटक कर नीचे रखने
वालों के बारे में

उनको देख कर लार टपकाते
किसी सफेदपोश के बारे में
उनको पाने के लिए
अपनाये जाने वाले
ढोंग और हथकंडों
के बारे में
उनको लेकर होती
मारामारी के बारे में

कुर्सियां भी बतियाती होंगी
हमारी या तुम्हारी तरह
पर वो कभी साजिश
नही रचती होंगी
बस वो साजिशों
की मूकदर्शक
बनी रहती होंगी।

जब वे लोग चले जाते होंगे तब
उनकी बेवकुफीयों पे
हँस हँस कर जरूर बतियाती होंगी
क्योंकि कुर्सियां गवाह होती है
उन जैसे बहुतेरे लोगों की
जो रोज ब रोज ऐसी वैसी
न जाने कितनी बेवकूफियां
फिजूल की करते होंगे
क्योंकि झूठी शान और अंतर्मन
में आजीवन व्याप्त भय/आत्मग्लानि/ के
अलावा साजिशों से
कुछ हासिल नही होता
ये बात कुर्सियों को भी पता है सिर्फ इसलिए क्योंकि इंसान उस पे बैठ के अपने सारे अनुभव किसी न किसी से बताता जरूर है।


सुशील
29.09.2018
#चम्पायात्रा

तो इस तरह से देखा आपने किस तरह से सुशील कुमार ने अपने चंपा यात्रा के अनुभव को साझा किया है और कविता के माध्यम से जिस ढंग से उन्होंने इसकी विवेचना की है वह बार-बार सोचने को विवश करता है की एक ओर जहाँ कुर्सियों के लिए मारामारी चल रही है तो वहीं दूसरी ओर कुर्सियां अपनी आपबीती भावनाएं एक दूसरे से शेयर कर रही हैं।

यहां कुर्सियों का एक दूसरे से अपनी भावनाओं को शेयर करना सिर्फ संकेत मात्र है वास्तव में यह अपने सिस्टम पर चोट करता है , और इसमें भरे वैमनस्यता पर प्रहार करता है।

Advertisements

अन्य ख़बरें

शिक्षक को ज्ञानवान बुद्धिमान एवं चरित्रवान होना चाहिए: पप्पू सर
बाहरी उम्मीदवारों के खिलाफ चंपारण की जनता ने फूंका बिगुल। मोतिहारी, चकिया सहित तमाम जगहों पर हुई बाह...
बैरगनिया की छात्रा के रेप-हत्या मामले में कैंडल मार्च
आत्मनिर्भर भारत अभियान आधुनिक भारत की पहचान बन रहा है: प्रकाश अस्थाना
सप्तक्रांति, गरीबरथ, सत्याग्रह, पूर्वांचल व इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेनों के इलेक्ट्रिक इंजन से संचालन ...
JDU का महासदस्यता अभियान जारी, गांधी चौक मोतिहारी पर हुए सदस्यता अभियान में सैकड़ों लोगों ने सदस्यत...
कृभको के बरियारपुर स्थित गोदाम में घुसा बारिश का पानी, लाखो के क्षति का अनुमान।।
उज्जवला के तहत भारत गैस ने लगाया गैस पंचायत
एयरलाइन कंपनी इंडिगो ने बी फॉर नेशन के गरीब एवं वंचित बच्चों को दी शिक्षण सामग्री
I am responsible for the loss of the 2019 election: Rahul Gandhi
महिला के लिए असंसदीय और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल कितना उचित है ?...SSP हरप्रीत कौर
महात्मा गाँधी और लालबहादुर शास्त्री को आदर्श मान हम सभी युवा को आगे बढ़ना चाहिऐ : पप्पू
नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर हुआ पौधरोपण, पूर्वजों के नाम पर पौधे का नामकरण
बरेली यूपी के पीवीआर में विनोद यादव की फिल्म ‘गुंडा’ के सभी शो हाउसफुल
मुन्ना कु. कुशवाहा उर्फ मुन्ना भाई तिरहुत जोन के चुनाव अभियान समिति के उपाध्यक्ष मनोनीत
अटल उद्यान में मोतिहारी भाजपा की बैठक संपन्न, मोतिहारी विधानसभा के प्रशिक्षण शिविर को लेकर विचार-विम...
अमेरिकी दादागिरी को दरकिनारा कर "आनाज के बदले तेल" शुरू करने का समय
"यादें"..... कवयित्री मधुबाला सिन्हा
पटना फैशन वीक सीजन 4 संपन्न ,मॉडलस से रैंप पर बिखेरे जलवे
राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत बच्चो का लंबाई और वजन मापा गया

  • 13
    Shares

Leave a Reply