किसानों एवं उद्यमियों के लिए निर्बाध विद्युत की आपूर्ति वरदान साबित हुआ है: डीएम

Administration Featured Post बिहार मोतिहारी मोतिहारी स्पेशल स्पेशल न्यूज़

मोतिहारी। आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य पावर @2047 महोत्सव का भव्य आयोजन आज स्थानीय हॉर्टिकल्चर कॉलेज सभागार पिपराकोठी में किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित बतौर मुख्य अतिथि जिलाधिकारी ,  शीर्षत कपिल अशोक के द्वारा कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर किया गया
इस अवसर पर पवन जयसवाल, विधायक ढाका, सांसद राधामोहन सिंह के प्रतिनिधि भाजपा के डा• लालबाबू प्रसाद , डीपीआरओ  पूर्वी चम्पारण, गुप्तेश्वर कुमार, जिला नोडल अधिकारी उपेंद्र प्रसाद सुमन, आर के सिंह अधीक्षण अभियंता गौतम गोविंदा, एवं विद्युत आपूर्ति अंचल, मोतिहारी तथा NTPC काँटी के अधिकारीगण मौजूद थे ।
इस दौरान जिलाधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार और बिहार सरकार के संयुक्त प्रयास से आज विद्युत के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन नजर आता है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि विद्युत विभाग की कई महत्वपूर्ण योजनाओं का क्रियान्वयन प्रभावी ढंग से करते हुए एक तरफ जहां आम लोगों के घरों में विद्युत की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है वही किसानों एवं उद्यमियों के लिए निर्बाध विद्युत की आपूर्ति वरदान साबित हुआ है।
उन्होंने कहा कि जन हितैषी केंद्र व प्रदेश सरकार अपने विकासात्मक योजनाओं से जन-जन को लाभ पहुंचाने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के संकल्प “हर घर बिजली” की उपलब्धता की दिशा में पूरी प्रतिबद्धता और समर्पण के साथ कार्य करते हुए जन आकांक्षाओं मूर्त रूप दिया गया है।उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों और कर्मियों की भी भूरी -भूरी प्रशंसा की।
कार्यक्रम में उपस्थित, विधायक ढाका पवन जयसवाल तथा अन्य वक्ताओं ने भी इस संबंध में अपने विचार रखे। नोडल पदाधिकारी उपेंद्र प्रसाद सुमन, प्रेम कुमार विद्युत कार्यपालक अभियंता  एवं अधीक्षण अभियंता गौतम गोविंदा ने अपने संबोधन में विधुत के क्षेत्र में जिले की उपलब्धियों की विस्तृत जानकारी दी बताया कि महोत्सव का उद्देश्य अधिक से अधिक जनभागीदारी एवं बिजली के क्षेत्र में हुए विकास को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाना है।
 उपस्थित लाभुकों ने अपने अनुभव को साझा करते हुए बताया कि किस प्रकार बिजली उनके जीवन में एक वरदान की तरह कार्य करती है। आज की जीवनशैली से जुड़ी हुई हर छोटी से छोटी बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल करके हम अपने जीवन यापन को कितना सुगम बना सकते हैं। साथ ही हमारे बच्चे की शिक्षा में भी अब कोई बाधा नहीं होती है। उन्होंने कहा कि बिजली से हमारे गांव और घरों में खुशहाली का माहौल है।
इस दौरान विशेष तौर पर केंद्र सरकार की ओर से बिजली क्षेत्र में हासिल किए गए प्रमुख उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए बताया गया कि 2014 में बिजली उत्पादन क्षमता 2,48,554 मेगावाट से बढ़कर आज 4,00,000 मेगावाट हो गई है, जो हमारी मांग से 1,85,000 मेगावाट ज्यादा है। इतना ही नहीं भारत अब अपने पड़ोसी देशों को बिजली निर्यात कर रहा है।
वहीं दूसरी ओर पूरे देश को एक ग्रिड में जोड़ने के लिए 1,63,000 सीकेएम ट्रासमिशन लाइनें जोड़ी गईं, जो एक फ्रीक्वेंसी से संचालित हो रही है। लद्दाख से कन्याकुमारी तक और कच्छ से म्यांमार तक यह दुनिया के सबसे बड़े एकीकृत ग्रिड के रूप में उभरा है। इस ग्रिड का इस्तेमाल करके हम देश के एक कोने से 1,12,000 मेगावाट बिजली पहुंचा सकते हैं।
बताया गया कि हमने COP-21 में वचन दिया गया था कि 2030 तक अक्षय ऊर्जा स्रोतों से हमारी उत्पादन क्षमता का 40 फीसदी पहुंच जाएगी जबकि यह लक्ष्य शेड्यूल से 9 साल पहले नवंबर 2021 में ही हासिल कर लिया गया है।

अक्षय ऊर्जा स्रोत:-

आज अक्षय ऊर्जा स्रोतों से 1,63,000 मेगावाट से भी अधिक बिजली पैदा किया जा रहा है। 2,01,722 करोड़ रुपये के कुल लागत के साथ विद्युत वितरण व्यवस्था को सुदृढ़ किया गया है। पिछले पांच वर्षों में बिजली के आधारभूत संरचना के तहत कई कार्यों को पूरा किया गया है। इनमें 2,921 नए सब-स्टेशन बनाना, 3,926 सब-स्टेशन का विस्तार, 6,04,465 सीकेएम एलटी लाइन स्थापित करना, 2,68,838 11 केवी एचटी लाइनें स्थापित करना, 1,22,123 सीकेएम कृषि फीडरों का फीडर पृथक्करण और स्थापना आदि शामिल है।
– 2015 में ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति की उपलब्धता औसतन 12.5 घंटे था, जो अब बढ़ कर औसतन 22.5 घंटे तक हो गया है.
-सरकार द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के अधिकार के तहत नियम, 2020 पेश किया गया,इसके तहत;
i. नए बिजली कनेक्शन प्राप्त करने की अधिकतम समय-सीमा अधिसूचित की गई है.
ii. उपभोक्ता अब रूफ टॉप सोलर को अपना सकते हैं.
iii. समय पर बिलिंग सुनिश्चित की जाएगी.
iv. मीटर संबंधी शिकायतों को दूर करने के लिए समय-सीमा अधिसूचित किया गया
v. राज्य नियामक प्राधिकरण अन्य सेवाओं के लिए समयसीमा अधिसूचित करेगा
vi. उपभोक्ताओं की शिकायतों का निवारण करने के लिए DISCOMs द्वारा 24X7 कॉल सेंटर स्थापित किया जाएगा.
– वर्ष 2018 में सिर्फ 987 दिनों में गांव (18,374) में 100 फीसदी विद्युतीकरण हासिल किया गया।
– 18 महीनों में 100 फीसदी घरेलू विद्युतीकरण (2.86 करोड़) लक्ष्य हासिल किया। जिसे दुनिया का सबसे बड़ा विद्युतीकरण अभियान माना गया।
– सौर पंपों को अपनाने के लिए शुरू की गई योजना जिसके तहत– केंद्र सरकार 30 फीसदी सब्सिडी देगी और राज्य सरकार 30 फीसदी सब्सिडी देगी. इसके अलावा, 30 फीसदी ऋण सुविधा उपलब्ध होगी.
इस कार्यक्रम में स्थानीय कलाकारों के द्वारा नुक्कड़ नाटक के द्वारा  विद्युत के महत्व , इसके  उपयोग एवं विद्युत विभाग की विभिन्न उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी। वहीं स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी किया गया।

अन्य ख़बरें

युवा क्रांति यात्रा को लेकर यूथ कांग्रेस ने की प्रजापति आश्रम में समीक्षा बैठक
सात दिवसीय शोध प्रविधि कार्यशाला का हुआ शुभारंभ
जिलाधिकारी ने की सात निश्चय योजना की गहन समीक्षा, 15 दिन के भीतर सभी योजनाओं को पूरा करने का निर्देश
मोतिहारी में मंत्री लेसी सिंह ने "भाग्यलक्ष्मी सम्मान समारोह- 2022" कार्यक्रम का किया उद्घाटन
भाजपा जिला के नव गठित कार्यसमिति की प्रथम बैठक सम्पन्न
अखिलेश सिंह ने चंपारण के सभी दलों के साथ धोखा किया है: राधा मोहन सिंह
24 जनवरी को मानव कतार लगायेगी रालोसपा
तीन दिवसीय युवा महोत्सव की धूमधाम से हुई शुरुआत
भाजपा सम्मान समारोह में सम्मानित किया गए पदाधिकारी
क्या आपको पता है...? आज मोतिहारी के किस सड़क का नाम बदल गया...??? पूरा पढ़िए
जिलाधिकारी द्वारा कंटेनमेंट जोन में चलाए जा रहे सैंपलिंग कार्यो का किया गया निरीक्षण
कंटेनमेंट जोन में बदला संक्रमित क्षेत्र, ड्रोन से की जा रही है सतत् निगरानी
कोरोना के समय सेंटर फॉर कैटेलाईजिंग चेंज कर रहा सराहनीय कार्य: CDPO
सरकार बांध एवं नदियों को जोड़ने के परियोजना में विफल है जिसके कारण बांध टूट रहा है : डॉ दीपक कुमार
कुर्सियां भी बतियाती होंगी: मंटू कुमार सुशील ( करोड़पति सुशील कुमार)
केन्द्र सरकार की कारपोरेटपरस्त नीतियों के कारण देश की अर्थव्यवस्था लगातार गर्त्त में डूबती जा रही है...
कोरोना का टीका नहीं लेने वाले लोगों को नहीं मिलेगा राशन और...
घर में लगी आग घरेलू सामान सहित मवेशी हुए खाक
चित्रगुप्त सभागार सह लोकनायक जयप्रकाश नारायण सांस्कृतिक भवन का लोकार्पण
इनर व्हील क्लब ऑफ पटना ने बाल श्रमिकों के बीच अवेरनेस प्रोग्राम करवायाA

Leave a Reply