कड़े संघर्ष के बाद फिल्म इंडस्ट्री में पहचान बनायी सुरेश कुमार चौधरी ने

Featured Post खोज

पटना। बतौर जूनियर आर्टिस्ट अपने फिल्मी करियर की शुरूआत करने वाले सुरेश चौधरी ने फिल्म इंडस्ट्री में फिल्म निर्माता के तौर पर विशिष्ट पहचान बनायी है ।

उनकी ज़िन्दगी संघर्ष, चुनौतियों और कामयाबी का एक ऐसा सफ़रनामा है, जो अदम्य साहस का इतिहास बयां करता है।

सुरेश कुमार चौधरी ने अपने करियर के दौरान कई चुनौतियों का सामना किया और हर मोर्चे पर
कामयाबी का परचम लहराया।

मां सीता की जन्मभूमि बिहार के सीतामढ़ी जिले के मेजरगंज में जमींदार परिवार में वर्ष 1944 में जन्में सुरेश चौधरी के पिता श्याम सुंदर प्रसाद चौधरी और मां श्रीमती गिरीजा चौधरी घर के लाडले छोटे बेटे को अपनी राह खुद चुनने की आजादी दी थी।

मेजरगंज में मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद कुछ बड़ा करने की तमन्ना लिये सुरेश कुमार चौधरी मायानगरी मुंबई आ गये। कुछ समय तक मुंबई में रहने के बाद सुरेश चौधरी सीतामढ़ी आ गये। वर्ष
1965 में सुरेश चौधरी की शादी श्रीमती कौशल्या देवी से हो गयी।

आंखो में बड़े सपने लिये सुरेश चौधरी ने एक बार फिर मुंबई का रूख किया।मुंबई आने के बाद सुरेश चौधरी ने जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर फिल्मों में काम करना शुरू किया।

इसी क्रम में सुरेश चौधरी की मुलाकात मशहूर अभिनेता दारा सिंह से हुयी। दारा सिंह , सुरेश चौधरी की कसरती बदन को देखकर काफी खुश हुये और अपनी एक फिल्म में काम करने का अवसर दिया।

सुरेश चौधरी की प्रतिभा को देखते हुये दारा सिंह ने अपनी कई फिल्मो में सुरेश चौधरी को अभिनय करने का अवसर दिया।

इसी क्रम में सुरेश र्चौधरी की मुलाकात जाने माने हास्य कलाकार ओम प्रकाश से हुयी। ओम प्रकाश ने सुरेश चौधरी को सलाह दी यदि मुंबई में लंबे
समय तक टिकना है तो तकनीकी शिक्षा हासिल करनी होगी।

ओम प्रकाश ने सुरेश चौधरी को गुरूदत्त फिल्मस प्रोडक्शन के मैनेजर लक्ष्मी नारायण वर्मा से मिलने की सलाह दी। ओम प्रकाश की सलाह पर अमल करते हुये सुरेश चौधरी गुरूदत्त फिल्म में बतौर सहायक कैमरामैन के तौर पर काम करने लगे। इस बीच उन्होंने जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर काम करना जारी रखा।

इन्ही दिनों सुरेश चौधरी, प्रख्यात फिल्मकार मनमोहन देसाई के संपर्क में आ गये। मनमोहन देसाई ने सुरेश चौधरी को अपनी निर्मित कई फिल्मों में सहायक के तौर पर काम दिया।

इसके बाद सुरेश चौधरी शशि कपूर के प्रोडक्शन हाउस से भी जुड़ गये और सहायक के तौर पर काम किया। सुरेश चौधरी कुछ बड़ा करने की
हसरत रखते थे।

इसी को देखते हुये वर्ष 1984 में उन्होंने अपनी खुद की प्रोडक्शन कंपनी सुरेश इंटरनेशनल की नींव रखी। वर्ष 1992 में सुरेश चौधरी ने वक्त का बादशाह का निर्माण किया। मनमोहन के साबिर के निर्देशन में बनी धर्मेन्द्र , विनोद खन्ना , राज बब्बर , नवीन निश्चल और अमजद खान जैसे सितारो से सजी वक्त का बादशाह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुयी।

वक्त का बादशाह की सफलता के बाद सुरेश चौधरी ने जैकी श्राफ और डिंपल कपाड़िया को लेकर फिल्म शेयर बाजार का निर्माण किया। इसके बाद सुरेश चौधरी ने कम बजट की फिल्म 500 का नोट का निर्माण किया हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अपेक्षित सफलता हासिल नही कर सकी। सुरेश चौधरी इन दिनों फिल्म चौपाटी बना रहे हैं। सुरेश चौधरी फिल्म निर्माण के साथ ही जूनियर आर्टिस्ट रिटायरमेंट फंड से जुड़े है और चेयरमैन के तौर पर कार्यरत हैं।

सुरेश चौधरी को हाल ही में राजधानी पटना में वंदे मातरम फाउंडेशन की ओर से आयोजित भारत रत्न लाल बहादुर शास्त्री सम्मान से अलंकृत किया गया है।

सुरेश चौधरी, संजय दत्त को लेकर फिल्म बनाने की भी प्लानिंग कर रहे हैं। सुरेश चौधरी ने बताया कि
वह फिल्मकार और लेखक ख्वाजा अहमद अब्बास को अपना गॉडफादर मानते हैं और उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में जो कुछ मुकाम बनाया है उसमें ख्वाजा अहमद अब्बास का अहम योगदान रहा है।

अन्य ख़बरें

एक साथ दो अलग-अलग डिग्री हासिल करने के लिए...
मतदाता जागरूकता के लिए निकाली गई मोटरसाइकिल रैली, 12 मई को है क्षेत्र में मतदान
बारिश के कारण पटना पुलिस लाइन शस्त्रागार पर गिरा पेड़ कई जवान घायल बचाव कार्य अभी भी जारी
गोपनीय शाखा के प्रधान सहायक की बहन ने GPAT-2021 परीक्षा में मारी बाजी, जिलाधिकारी ने दी शुभकामनाएं
दस दिवसीय खादी फेस्ट 2019 का हुआ समापन, आयोजन समिति ने मोतिहारी वासियों का जताया आभार
व्यवसायी हित से ही संबंधित रिपोर्ट सभी पार्टियों को चुनावी मेनिफेस्टो में शामिल करने के लिए भेजेगी च...
स्थानीय विधायक सा मंत्री ने किया 1 करोड़ 6 लाख की लागत से बनने वाली सड़क का शिलान्यास
इस लॉकडाउन में गुम हुयी खुशियों पर बजने वाली किन्नरों की ताली
जल, जीवन व हरियाली की रेत कलाकृति देख, मधुरेन्द्र के हुए मुरीद मुख्यमंत्री नीतिश कुमार
बेटी के जन्मदिन पर याद कर भावुक हुए केंद्र सरकार के मंत्री रमेश पोखरियाल
जयंती पर याद किए गए क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद,
रालोसपा नेता ने किया क्षेत्र का दौरा, उठाए कई सवाल, पार्टी को मजबूत करने की अपील
सुगौली के गन्ना किसानों की भुगतान समस्या को लेकर अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार काउंसिल ने चीनीमील मैनेजर ...
पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी बेस्ट इलेक्रटोरल प्रैक्टिसेज अवार्ड-2020 के स्पेशल अवार्ड से सम्मानित
प्रदेश कार्यसमिति के बैठक हेतु क्रीड़ा प्रकोष्ठ ने की आयोजन समिति की बैठक
बी फॉर नेशन ने कोरोना वायरस को लेकर चलाया जागरूकता अभियान
12 वर्ष की लड़की की शादी तिगुना उम्र के व्यक्ति साथ चुपके चोरी हो रही थी... फिर हुआ 6 घंटे का संघर्...
कृभको के बरियारपुर स्थित गोदाम में घुसा बारिश का पानी, लाखो के क्षति का अनुमान।।
जिला परिवहन पदाधिकारी ने मासिक पत्रिका रोटरी न्यूज़ का किया विमोचन
मैट्रिक परीक्षा में पूर्वी चम्पारण(जिला) टॉपर्स को सम्मानित करेगी प्रभाग्लोबल

Leave a Reply