औरंगाबाद, एनटीपीसी परियोजना से बिहार को मिलेगी 1683 मेगावाट बिजली

Featured Post slide औरंगाबाद बिहार
  • 12
    Shares

औरंगाबाद । एनटीपीसी लिमिटेड की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी नबीनगर पावर जेनरेटिंग कंपनी एनपीजीसी की सुपर थर्मल पावर परियोजना से बिहार को आगामी जून 2021 से 1683 मेगावाट बिजली मिलने लगेगी ।
एनपीजीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विजय सिंह ने आज बताया कि औरंगाबाद जिले के बारुन और नवीनगर प्रखंड की सीमा पर स्थापित एनपीजीसी की सुपर थर्मल पावर परियोजना की पहली इकाई से बिहार को अभी 565 मेगावाट से अधिक बिजली मिल रही है और अगले जून महीने तक इस परियोजना की दोनों इकाइयों के चालू हो जाने से 1683 मेगावाट बिजली बिहार को मिलने लगेगी ।
उन्होंने बताया कि परियोजना की दूसरी इकाई से आगामी दिसंबर माह से बिजली का व्यवसायिक उत्पादन प्रारंभ हो जाएगा । इस इकाई में 660 मेगावाट बिजली उत्पादन होगा ।इस इकाई के व्यावसायिक उत्पादन शुरू करने की सभी तैयारियां अंतिम चरण में है और इसके परीक्षण का सभी कार्य लगभग पूरा किया जा चुका है ।
श्री सिंह ने बताया कि इस परियोजना में 660 – 660 मेगावाट की कुल 3 इकाइयां स्थापित की जा रही हैं और इसके तीनों इकाइयों से कुल 1980 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा जिसका 85% भाग बिहार को मिलना है ।
उन्होंने बताया कि पहली इकाई से अभी 660 मेगावाट बिजली उत्पादन हो रहा है जबकि दूसरी इकाई दिसंबर से और तीसरी इकाई जून 2021 से चालू हो जाएगी । इन तीनों इकाइयों के चालू हो जाने से बिहार बिजली के मामले में और बेहतर स्थिति में हो जाएगा ।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने बताया कि इस परियोजना के निर्माण पर कुल 17000 करोड़ रुपए से अधिक की लागत आई है और इसका निर्माण 2800 एकड़ से अधिक भू भाग में किया गया है ।
उन्होंने बताया कि इस परियोजना के बनने से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से हजारों की संख्या में स्थानीय कामगारों को रोजगार मिल रहा है तथा क्षेत्र की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ करने में मदद मिली है ।
श्री सिंह ने बताया कि यह परियोजना सुपर क्रिटिकल तकनीक पर आधारित है और इससे प्रदूषण नहीं के बराबर होता है । उन्होंने बताया कि एनपीजीसी की ओर से परियोजना विस्थापित क्षेत्र तथा आसपास के इलाके में पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन कार्यक्रम के तहत 60 करोड रूपये से अधिक खर्च किए जा रहे हैं ।
इनमें सड़क पेयजल स्वास्थ्य शिक्षा एवं अन्य बुनियादी सुविधाओं से संबंधित योजनाएं शामिल हैं ।अभी कंपनी की ओर से औरंगाबाद को रोहतास जिले से जोड़ने वाली एक महत्वपूर्ण सड़क मेंह इंद्रपुरी का नवनिर्माण कराया जा रहा है ।
कोविड-19 एवं लॉकडाउन के दौरान एनपीजीसी की ओर से जरूरतमंदों की सहायता के लिए खाद्य सामग्री का पैकेट सैनिटाइजर मास्क आदि उपलब्ध कराए गए तथा जिला प्रशासन को पीपीई कोविड-19 कीट मास्क आदि सुलभ कराया गया ।

अन्य ख़बरें

कला संस्कृति मंत्री ने किया बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा
प्रोफेसर संजय कुमार के पक्ष में,आज होगा प्रतिरोध मार्च
समाजसेवियों ने किया गरीब असहायों के बीच कंबल का वितरण
अरेराज: किसान कल्याण मेले में महिला किसान सम्मानित
शोकसभा का आयोजन
सत्याग्रह की आस ,आओ करें उपवास : मधु मंजरी
संत श्री आसाराम बापू आश्रम मोतिहारी द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को दी गई श्रद्धांजलि
सारा खान और नेहा मार्दा ने रैंप पर बिखेरा जलवा
"थैंक्यू कोरोना वॉरियर्स" का हो रहा समुदाय मे असर
एशिया कप का महा मुकाबला आज। शाम 5:00 बजे से लाइव
शिक्षक दिवस विशेष में सहकारिता मंत्री बिहार राणा रणधीर सिंह
धारा 370 और 35 A के संबंध में जन जागरण एवं सदस्यता प्रमाण के लिए कई समितियां गठित
संडे स्पेशल में पढ़िए .....पटना की लोक संगीत गायिका मनीषा श्रीवास्तव की चंपारण यात्रा संस्मरण
पश्चिमी चंपारण के सांसद संजय जयसवाल पहुंचे जनता के बीच
डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को पुष्प एवं माल्यार्पण करके शिक्षक संघ ने मनाया संविधान दिवस
सदर अस्पताल मोतिहारी की बिगड़ती व्यवस्था
लोगों के दिमाग को ODF करने की आवश्यकता, तभी हंड्रेड परसेंट ODF हो पाएगा
पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज का आरोप, टुकड़े-टुकड़े गैंग देश के न...
बिहार के नए राज्यपाल महामहिम लालजी टंडन का पटना एयरपोर्ट पर हुआ स्वागत
जनसंपर्क के दौरान बोले पूर्व कृषि मंत्री आत्मनिर्भर भारत एवं बिहार के लिए गांव को भी आत्मनिर्भर बनान...

  • 12
    Shares

Leave a Reply