इंशोयेरेंस सेक्टर और संगीत जगत में विशिष्ट पहचान बना चुके हैं ,कुमार संभव’

Featured Post slide खोज बिहार स्पेशल न्यूज़ हाजीपुर
  • 7
    Shares

पटना। जाने माने पार्श्वगायक और बिरला सन लाइन इंशोरेस में ऐसोशियेट पार्टनर कुमार संभव ने न सिर्फ संगीत जगत बल्कि इंशोयेरेंस की दुनिया में भी अपनी सशक्त पहचान बना ली है।
बिहार के वैशाली जिले के महनार थाना के महनार गांव में वर्ष 1975 में जन्में कुमार संभव के पिता शिव शंकर प्रसाद रत्नाकर और मां उषा सिन्हा बेटे को उच्चाधिकारी बनाने का ख्वाब देखा करती थी। संभव के पिता जाने-माने अभिनेता हैं और उन्होंने कई भोजपुरी सिनेमा और रंगमंच पर अपने अभिनय का जौहर दिखाया जबकि उनकी मां लोकगायिका हैं।
कुमार संभव को कला विरासत में मिली। बचपन के दिनों से ही कुमार संभव गायिकी में रूचि रखा करते थे।आवाज की दुनिया के बेताज बादशाह किशोर कुमार से प्रभावित होने की वजह से कुमार संभव उन्हीं की तरह संगीत की दुनिया में अपनी पहचान बनाने का ख्वाब देखा करते।
कुमार संभव स्कूल और कॉलेज में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम में बतौर गायक शिरकत किया करते जिसके लिये उन्हें काफी सराहना मिला करती। रोचक तथ्य है किशोर कुमार की मौत 13 अक्टूबर को हुयी थी और इसी दिन कुमार संभव का जन्म हुआ वहीं किशोर कुमार का जन्म 04 अगस्त को हुआ था और इसी दिन कुमार संभव के घर चिराग रौशन हुआ।
कुमार संभव ने अपनी प्रारभिक शिक्षा हाजीपुर से पूरी की और इसके बाद वह वह आंखों में बड़े सपने लिये बेहतर शिक्षा के लिये राजधानी पटना आ गये जहां उन्होंने स्नातक की पढाई पूरी की। पढ़ाई पूरी करने के बाद कुमार संभव ने बैंक और रेलवे की परीक्षायें दी लेकिन बात नही बन सकी।
कुमार संभव ने अपने करियर की शुरूआत वर्ष 2002 में स्टॉक कंपनी में बतौर मार्केटिंग एक्सक्यूटिव के तौर पर की।तीन साल तक यहां काम करने के बाद कुमार संभव टाटा आईजी कंपनी के साथ बतौर एडवाजइर जुड़ गये और तीन साल तक इस पद पर काम किया। वर्ष 2007 कुमार संभव के जीवन के लिये न सिर्फ व्यवसायिक बल्कि पारिवारिक जीवन में भी अहम मोड़ लेकर आया। इसी वर्ष कुमार संभव बिरला सन लाइफ के साथ जुड़ गये और दस साल से अधिक समय से बतौर ऐशोसियेट पार्टनर के तौर पर काम कर रहे हैं। कुमार संभव के जीवन में इसी वर्ष जानीमानी गायिका और कत्थक डांस में निपुण प्रगति पल्लवी बहार बनकर आयी और दोनो विवाह के अटूट बंधन में बंध गये।
कुमार संभव के दिल में कुछ कर गुजरने की ख्वाहिश थी । वह संगीत की दुनिया में अपनी पहचान बनाना चाहते थे। इसी को देखते हुये कुमार संभव ने संगीत कार्यक्रम में हिस्सा लेना शुरू कर दिया । कुमार संभव की मेहनत रंग लायी और वह बतौर गायक अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये।
कुमार संभव बिहार,झारंखंड के अलावा दिल्ली ,मुंबई ,कोलकाता , गोआ और नेपाल में भी हजारो शो में बतौर गायक शिरकत कर चुके हैं। बतौर गायक कुमार संभव को कई
सम्मान से नवाजा गया है। इनमें सहारा सम्मान ,इनर व्हील सम्मान , कला कुंज , कला त्रिवेणी ,कला संगम , रोटरी क्लब सम्मान ,बिहार पॉजिटिव सम्मान , मिस्टर एंड मिस पटना में सम्मान , डीएवी स्कूल , सेंटजेवियर्स स्कूल और डॉनबास्को स्कूल में सम्मान मिल चुका है।कुमार संभव अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता के साथ ही पत्नी और अपने शुभचिंतको को भी देते हैं जिन्होंने उन्हे हर कदम उन्हें सपोर्ट किया है।

अन्य ख़बरें

चुनाव के 48 घंटे पहले अब बंद होंगे अखबार, वेब पोर्टल और सोशल मीडिया पर चुनावी विज्ञापन...???
बिहार पुलिस की महिला सिपाही स्नेहा ने की आत्महत्या... कारणों से पर्दा हटना अभी बाकी।।
राजधानी पटना में खुला  मंगलम फुड पार्क, अब लजीज व्यंजनों का लुफ्त उठाइए
कला संस्कृति मंत्री प्रमोद कुमार ने किया सड़क का शिलान्यास
जिला स्कूल मोतिहारी में दिव्यांग जनों के बीच वितरित की गई साइकिल एवं अन्य उपकरण
72वे गणतंत्र दिवस के अवसर पर मोतिहारी के ऐतिहासिक गांधी मैदान में जिलाधिकारी ने किया झंडोत्तोलन
चुनाव 2019 का रण..........
अक्षरा सिंह को मिला छठी मैया का आशिर्वाद रिलीज होते ही देशभर में धूम मचा रही छठ गीत "रोवेले बाँझनिया...
आसाराम बापू द्वारा मार्गदर्शित संस्था ने देश के जवानों संग मनाया, रक्षाबंधन त्योहार
कृष्णाष्टमी पर रिलीज़ हुआ प्रिया मल्लिक का सोहर
आर्मी रैली का रजिस्ट्रेशन शुरू
NRC एवं CAA के समर्थन में निकलने वाली रैली को लेकर बजरंग दल ने किया डोर टू डोर जनसंपर्क
जब रोहित शर्मा ने अपने सबसे बुजुर्ग फैन को गले लगाया
 युवा पत्रकार नकुल कुमार एवं NTC NEWS MEDIA को शुभकामनाएं: डॉ.गोपाल कुमार सिंह
मणिपुर की आयरन लेडी इरोम शर्मिला ने दिया जुड़वा बच्चियों को जन्म, 2017 में हुई थी शादी
पैशन वीस्टा ग्लोबल आइकन 2019 अवार्ड से अमेरिका में सम्मानित होंगे राकेश पांडे
कार्यशाला में पांचवें दिन आंकड़ा विश्लेषण एवं प्राचीन शोध पद्धति पर चर्चा
तैलिक साहू समाज की बैठक संपन्न
मजदूरों की वापसी मुद्दे को लेकर"आप" का एकदिवसीय उपवास पर जदयू ने पूछा इतने दिन से कहां थी केजरीवाल स...
ओल्ड चम्पारण मीट हाउस का भागलपुर में हुआ शुभारंभ

  • 7
    Shares

Leave a Reply