अमेरिकी दादागिरी को दरकिनारा कर “आनाज के बदले तेल” शुरू करने का समय

अंतर्राष्ट्रीय राजनीति राष्ट्रीय

NTC NEWS MEDIA

अरबी कहानियों की सीरीज पढ़ रहा था, पुराने समय की बात बताई जा रही है। मुसाफिर अपने ऊंट के साथ जा रहा था चलते चलते रात हो गई उसने देखा कि एक गांव है। गांव के बाहर मकान था वहां जाकर दुआ सलाम कि और अपने रात को ठहरने की व्यवस्था उस घर के मालिक को करने का आग्रह किया और कहा कि मुझे कुछ नहीं चाहिए ऐसा कीजिए “ऊंट का पेट भर जाए मेरी रात कटे” मुझे सिर छुपाने की जगह मिल जाए।

तभी उस घर के मालिक ने कहा यह स्टूल उठाओ और ऊट के पीछे से ऊंट के अंदर घुस जाओ। तुम्हारी रात कट जाएगी, और ऊट का पेट भर जाएगा। ऐसा ही आंशिक रूप से अनाज और तेल समस्या का समाधान करने का प्रयास इस पोस्ट में भी किया गया है, जो कि भारत और वेनेजुएला के बारे में है।

वेनेजुएला आज के समय आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहे हैं, और और भारत के लोग तेल की महंगी होती कीमतों के संकट से जूझ रहे हैं। वेनेजुएला सबसे ज्यादा निर्यात किया जाने वाला उत्पाद तेल है। जिसका निर्यात वेनेजुएला 96% दुनिया में करता है । दूसरे देशों द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने पर इनका निर्यात रुक गया है।

इसके कारण वहां आर्थिक संकट आ गया आर्थिक संकट के कारण आलम यह है कि वहां के लोग एक वक्त का खाना नहीं जुटा पा रहे। ऐसे में भारत के पास मौका है ईरान से तेल लेना बंद करे, वेऩेजुएला से लेना शुरू कर दे, प्रतिबंध का डर नहीं होना चाहिए। क्यूँकि प्रतिबंध के बाद भी हम ईरान से आखिर तेल ले ही रहे हैं ना, और दूसरी चीज और कैश के बदले यहां से अनाज, और खाने पीने का सामान भेजे। और उस अनाज और सामान को सीधा किसानों से खरीदे और तेल से होने वाली कमाई से किसानों को पेमेंट दे और अपना राजस्व भी रखे।

साथ ही कुछ उनकी करेंसी और गोल्ड को भी स्टोर करके विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ाए और जब वहां आर्थिक स्थितिकरण हो जाए तब उसे वापस निर्यात कर दे या उस गोल्ड को भारतीयों को ही बेच कर उससे भी आन्तरिक मुद्रिकरण कर अपने देश की भी अर्थ व्यवस्था को मजबूत कर ले।

हमारे देश में भंडारण की समुचित व्यवस्था ना होने के कारण यहां अनाज सड़ रहा है वेनेजुएला में खाने के लिए अनाज ना होने के कारण वहां के लोग भूखे मर रहे हैं। उनके पास तेल पर्याप्त है। हमारे पास सड़ाने के लिए अनाज है, हमारा देश तेल के बड़ते दाम के संकट से जूझ रहा है वेनेजुएला खाने के संकट को लेकर जूझ रहा है।

ऐसे में भारत के पास एक अच्छा मौका है,उनके पास पर्याप्त तेल है, जो भारत में तेल के बढ़ते हुए दामों को सामान्य स्थिति में ले आएगा हमारे पास जो अनाज सड़ता है, उतने अनाज के बदले अगर हम बिना मुद्रा आयात निर्यात वेनेजुएला के साथ करेंगे तो भी भारत के लिए यह फायदे का सौदा सिद्ध होने वाला है।

हमारे देश के किसान पहले तो प्राकृतिक आपदाओं से जूझते हैं। फिर मंडी के साहूकारौ के साथ, फिर सरकारों के साथ। इन सब के बावजूद उन्हें अपनी फसलों की सही कीमत नही मिल पाती और ना हमारे देश के लोगों को सस्ता अनाज मिल पाता।

अगर ऐसा कुछ व्यापारिक अनुबंध वेनेजुएला के साथ किया जाए, तो कुछ फायदा हमारे देश के किसानों को भी हो सकता है। हमारे देश के किसानों की भी स्थिति में सुधार हो जाएगा जिन की फसलें मंडी में पड़ी बड़ी खराब हो जाती है। सरकार द्वारा नहीं खरीदी जाती उनके चावल गेहूं सीधे निर्यात किए जाएं तो भारत का किसान भी समृद्ध हो सकता है। पर इस विषय की ओर कोई ध्यान नहीं देगा यह बहुत गंभीर मसला है,अब सरकार को इस और ध्यान देने की सख्त जरूरत है।

नोट: उपरोक्त लेखक के अपने विचार हैं जिससे आप सहमत और असहमत हो सकते हैं। एवं नीचे के कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया दे सकते हैं।

लेखक: नरेन्द्र सहारण ( पत्रकार,  हरिभूमि, बिलासपुर, छत्तीसगढ़ )

 

Advertisements

अन्य ख़बरें

एमएस कॉलेज के आई एम बी डिपार्टमेंट में धूमधाम से मना शिक्षक दिवस
कारसेवकों के बलिदान दिवस पर विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान
आशा है यह मंत्रिमंडल पिछली सरकारों के मुकाबले अच्छा काम करेगी: डॉ वेद प्रताप वैदिक
हत्या, अपहरण, लूट और भ्रष्टाचार का समय समाप्त हो चुका है : रघुबर दास
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के जन्मदिन की खूब-खूब बधाई
भारत ने बांग्लादेश और नेपाल को दिया इतना वैक्सीन
पूर्वी चंपारण में शांतिपूर्ण ढंग से 58.62% मतदान, जिला नियंत्रण कक्ष से लगातार होती रही मॉनिटरिंग।
कोविड-19 के बारे में भ्रामक सूचना के 'वायरस' तो तत्काल रोकना आवश्यक : उपराष्ट्रपति
जंगलराज के राजा के उत्तराधिकारी संविधान बचाने की झूठी दुहाई दे रहे हैं: पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार
पूर्व कृषि मंत्री के सौजन्य से सभी जन वितरण प्रणाली विक्रेताओं को सैनिटाइजर एवं मास्क वितरित
भारतीय जनता पार्टी क्रीड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रवक्ता बने सुमीत श्रीवास्तव
डॉ कलाम के जन्मदिवस पर आयोजित प्रेस वार्ता में गरजे प्लूरल्स पार्टी के उम्मीदवार मुन्ना कुमार, कहा व...
तेली अधिकार रैली को लेकर कंचन गुप्ता को मिल रहा है अपार जनसमर्थन,रैली SKH पटना में 29 Nov को।।
बिना हेलमेट के सड़कों पर निकलता है ये शख्स, देखकर पुलिस भी नहीं काटती चालान
Radhamohan Singh Live ऑल इंडिया एग्रो इनपुट डीलर एसोसिएशन मीटिंग
कांग्रेस आईटी सेल प्रखंड अध्यक्षों की हुई नियुक्ति
सरकार महिला सशक्तीकरण के नाम पर राजनीति कर रही है: मधु मंजरी
कला संस्कृति मंत्री ने किया क्वॉरेंटाइन सेंटर का निरीक्षण पदाधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा निर्देश
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रखी डॉ बी आर अंबेडकर विश्वविद्यालय के धीरपुर एवं रोहिणी कैं...
सवर्ण न्याय आंदोलन का प्रचार प्रसार हुआ तेज़: पीयूष पंडित

Leave a Reply