अपनी दमदार प्रस्तुति के बल पर संगीत के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी है प्रिया राज

Featured Post slide कटिहार किशनगंज बिहार मधेपुरा मनोरंजन साहित्य
  • 5
    Shares

“जब टूटने लगे हौंसले तो बस ये याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख्तो ताज नहीं होते।
ढूंढ़ लेना अंधेरों में मंजिल अपनी,
जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते।”

पटना। अपनी हिम्मत और लगन के बदौलत प्रिया राज आज संगीत की दुनिया में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं लेकिन इन कामयाबियों को पाने के लिये उन्हें अथक परिश्रम का सामना भी करना पड़ा है।

बिहार में मधेपुरा जिले में कुमारखंड थाना क्षेत्र के परसाही गांव में जन्मी प्रिया राज के पिता अरूण कुमार सिंह और मां तथा पूर्व जिला पार्षद वार्ड रूबी कुमारी की लाडली बड़ी बेटी प्रिया राज को अपनी राह खुद चुनने की आजादी दे रखी थी।

प्रिया राज को संगीत का माहौल घर में मिला। उनके दादा महेन्द्र कुमार सिंह लोकगायक थे। इसी वजह से बचपन के दिनों से ही प्रिया का रूझाण संगीत की ओर थी और वह इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। यही कारण है कि उनके पिता ने महज चार वर्ष के उम्र में ही उन्हें संगीत की शिक्षा दिलाने लगे थे।

स्वर कोकिला लता मंगेश्कर, मशहूर गायिका अलका याज्ञनिक और कल्पना पटौरी को अपना आदर्श मानने वाली प्रिया राज स्कूल में होने वाले कार्यक्रम में शिरकत किया करती उनके परफॉर्मेंस को देखकर स्कूल दिनों से ही उन्हें प्रशंसा मिलने लगा था।

प्रिया राज ने नवोदय विद्यालय से मैट्रिक की पढ़ाई पूरी की। विद्यालय की ओर से प्रिया राज को देश भर में होने वाले कई सांस्कृतिक कार्यक्रम में पार्श्वगायन का अवसर मिला और प्रिया राज ने अपनी विलक्षण प्रतिभा से अपने विद्यालय को सम्मान भी दिलाया।

Advertisements

वर्ष 2010 में प्रिया राज ने महुआ पर प्रसारित संगीत रियालिटी शो सुर संग्राम में शिरकत की हालांकि वह शो की विजेता नही बन सकी लेकिन जज के तौर पर आये रूप कुमार राठौर, मनोज तिवारी, रवि किशन, शारदा सिन्हा, मालिनी अवस्थी, कल्पना पटौरी ने उनके शानदार प्रदर्शन की भरपुर सराहना की।

वर्ष 2013 में प्रिया राज ने दूरदर्शन पर प्रसारित संगीत रियलिटी शो “भारत की शान” में हिस्सा लिया और टॉप 10 में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही। प्रिया राज ने कई अलबमों और फिल्मों के लिये पार्श्वगायन किया है।प्रिया राज को उनके करियर में कोसी महोत्सव सोनपुर महोत्सव , मनहार महोत्सव, विद्यापति महोत्सव, दशहर महोत्सव, अंग महोस्तव और मंजूषा महोत्सव समेत कई महोत्सव में सम्मानित किया जा चुका है। प्रिया राज आज संगीत के क्षेत्र में अपनी पहचान बना चुकी है। वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और प्रशंसकों को देती हैं जिन्होंने उन्हें हमेशा सपोर्ट किया।

NTC NEWS MEDIA प्रिया राज के उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

अन्य ख़बरें

"थैंक्यू कोरोना वॉरियर्स" का हो रहा समुदाय मे असर
अल्लामा इकबाल की जयंती पर जनवादी लेखक संघ के बैनर तले कवि गोष्ठी का आयोजन
कुंडलपुर महोत्सव में जीवंत हो उठी रेत से बनी हुई भगवान महावीर की मूर्तियां
फिल्‍मों में काम करने के लिए अभिनय की बारिकियों को जानना है जरूरी
लायंस क्लब पटना शिव शक्ति द्वारा पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने का अभियान शुरू
परिवार नियोजन पखवाड़ के अंतर्गत महिला जनप्रतिनिधियों का जागरूकता कार्यक्रम
जानिये तेजप्रताप यादव के घुंघराले बालों का राज...???
तुरकौलिया: मुखिया बेबी आलम के नेतृत्व में महिलाओं ने निकाला कैंडल मार्च, पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे...
शालिनी मिश्रा ने साधा राजद पर निशाना, कहा रघुवंश बाबू के निधन के बाद राजद के पास बचा गया है "लोटा भर...
दम्मा एवं सांस से संबंधित दिक्कत है...? तो आइए मोतिहारी में यहां लग रहा है फ्री मेडिकल कैंप
NTC NEWS MEDIA
भाजपा बिहार प्रदेश के व्यापार प्रकोष्ठ का प्रदेश संयोजक नियुक्त हुए बबलू गुप्ता, शुभचिंतकों से मिलने...
बीएचयू के AMATA-35 वें सेमिनार में मधुबन के डॉ राकेश कुमार सिंह हुए शामिल।
गोलीबारी में घायल शिक्षक की हालत स्थिर, जदयू महिला मोर्चा अध्यक्ष कंचन गुप्ता ने मिलकर दिलाया न्याय ...
मातृत्व-शिशु स्वास्थ्य एवं पोषण सेवाओं की उपलब्धता एवं गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु प्रखंड स्तरीय ब...
आसाराम बापू द्वारा मार्गदर्शित संस्था ने देश के जवानों संग मनाया, रक्षाबंधन त्योहार
NTC NEWS MEDIA वेबसाइट के निदेशक नकुल कुमार जी को बहुत बहुत बधाई
जिलाधिकारी ने की सात निश्चय योजना की गहन समीक्षा, 15 दिन के भीतर सभी योजनाओं को पूरा करने का निर्देश
ओल्ड चम्पारण मीट हाउस का भागलपुर में हुआ शुभारंभ
जिलाधिकारी द्वारा कंटेनमेंट जोन में चलाए जा रहे सैंपलिंग कार्यो का किया गया निरीक्षण

  • 5
    Shares

Leave a Reply