अपनी दमदार प्रस्तुति के बल पर संगीत के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बना चुकी है प्रिया राज

Featured Post slide कटिहार किशनगंज बिहार मधेपुरा मनोरंजन साहित्य

“जब टूटने लगे हौंसले तो बस ये याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख्तो ताज नहीं होते।
ढूंढ़ लेना अंधेरों में मंजिल अपनी,
जुगनू कभी रौशनी के मोहताज़ नहीं होते।”

पटना। अपनी हिम्मत और लगन के बदौलत प्रिया राज आज संगीत की दुनिया में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं लेकिन इन कामयाबियों को पाने के लिये उन्हें अथक परिश्रम का सामना भी करना पड़ा है।

बिहार में मधेपुरा जिले में कुमारखंड थाना क्षेत्र के परसाही गांव में जन्मी प्रिया राज के पिता अरूण कुमार सिंह और मां तथा पूर्व जिला पार्षद वार्ड रूबी कुमारी की लाडली बड़ी बेटी प्रिया राज को अपनी राह खुद चुनने की आजादी दे रखी थी।

प्रिया राज को संगीत का माहौल घर में मिला। उनके दादा महेन्द्र कुमार सिंह लोकगायक थे। इसी वजह से बचपन के दिनों से ही प्रिया का रूझाण संगीत की ओर थी और वह इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। यही कारण है कि उनके पिता ने महज चार वर्ष के उम्र में ही उन्हें संगीत की शिक्षा दिलाने लगे थे।

स्वर कोकिला लता मंगेश्कर, मशहूर गायिका अलका याज्ञनिक और कल्पना पटौरी को अपना आदर्श मानने वाली प्रिया राज स्कूल में होने वाले कार्यक्रम में शिरकत किया करती उनके परफॉर्मेंस को देखकर स्कूल दिनों से ही उन्हें प्रशंसा मिलने लगा था।

प्रिया राज ने नवोदय विद्यालय से मैट्रिक की पढ़ाई पूरी की। विद्यालय की ओर से प्रिया राज को देश भर में होने वाले कई सांस्कृतिक कार्यक्रम में पार्श्वगायन का अवसर मिला और प्रिया राज ने अपनी विलक्षण प्रतिभा से अपने विद्यालय को सम्मान भी दिलाया।

Advertisements

वर्ष 2010 में प्रिया राज ने महुआ पर प्रसारित संगीत रियालिटी शो सुर संग्राम में शिरकत की हालांकि वह शो की विजेता नही बन सकी लेकिन जज के तौर पर आये रूप कुमार राठौर, मनोज तिवारी, रवि किशन, शारदा सिन्हा, मालिनी अवस्थी, कल्पना पटौरी ने उनके शानदार प्रदर्शन की भरपुर सराहना की।

वर्ष 2013 में प्रिया राज ने दूरदर्शन पर प्रसारित संगीत रियलिटी शो “भारत की शान” में हिस्सा लिया और टॉप 10 में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही। प्रिया राज ने कई अलबमों और फिल्मों के लिये पार्श्वगायन किया है।प्रिया राज को उनके करियर में कोसी महोत्सव सोनपुर महोत्सव , मनहार महोत्सव, विद्यापति महोत्सव, दशहर महोत्सव, अंग महोस्तव और मंजूषा महोत्सव समेत कई महोत्सव में सम्मानित किया जा चुका है। प्रिया राज आज संगीत के क्षेत्र में अपनी पहचान बना चुकी है। वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और प्रशंसकों को देती हैं जिन्होंने उन्हें हमेशा सपोर्ट किया।

NTC NEWS MEDIA प्रिया राज के उज्जवल भविष्य की कामना करता है।

अन्य ख़बरें

CPIM ने जुलूस निकालकर जताया विरोध
जोरू का गुलाम में प्रवीण सप्पू के अदायगी से मंत्रमुग्ध हुये दर्शक
अपूर्वा सोनी - राजस्थान की गलियों से मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री तक का सफर
पूर्व कृषि मंत्री राधामोहन सिंह को राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी बनाए जाने पर उनके संसदीय क्षेत्र में खुशी...
बिहार में भाजपा,जदयू और लोजपा के बीच सीटों के बंटवारे का पूरा लिस्ट इस लिंक पर देखिए।
जल प्रलय से तबाह पटनावासियों के बीच अपनी एकजुटता प्रदर्शित करने पटना क्लब में जुटे भोजपुरिया सितारे
CAA एवं NRC के समर्थन में ABVP का जुलूस
मतदाता सत्यापन अभियान (EVP) की जानकारी देते हुए जिला अधिकारी रमण कुमार
जिंदगी और मौत से जूझ रहा था खलील अंसारी, अधिवक्ता आलोक चंद्र ने अपना खून देकर पेश की मानवता की मिसाल
बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 900 के पार, अब तक 7 लोगों की हुई मौत
मिसेज ब्यूटी मॉम्स ऑफ बिहार का फायनल आडिशन संपन्न
विधानसभा निर्वाचन 2020 की तैयारियों के मद्देनजर ईवीएम (EVM) संग्रह केंद्र का जिलाधिकारी ने किया निरी...
पेमा खांडू दूसरी बार बने अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री, 11 अन्य मंत्रियों ने ली पद एवं गोपनीयता की श...
जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक ने पकड़ीदयाल प्रखंड भ्रमण क्रम में बेलवा घाट में जल स्तर का जायजा
मोतिहारी पुलिस जिंदाबाद के नारे से गूंजा मोतिहारी, स्थानीय संस्था ने किया सम्मानित
सुरों की महफिल में सजी ‘एक शाम कव्वाली के नाम
तेरा जाना......
वी एल वैश्यन्त्री बने हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष
ब्रैवो फाउंडेशन के CMD राकेश पांडे ने निभाया अपना वादा, सदर हॉस्पिटल को 10 हजार एवं पुलिस अधीक्षक का...
जिलाधिकारी ने 12 विधानसभा क्षेत्रों के स्ट्रांग रूम का लिया जायजा दिए आवश्यक दिशा निर्देश

Leave a Reply